लॉन्च हुआ गिरने पर भी न टूटने वाला 5G Smartphone, होंगे Hi-Fi स्पीकर्स और दमदार कैमरा, जानिए फीचर्स

नई दिल्ली – Ulefone Armor 12 Dual 5G Smartphone: आज के तकनीकी-प्रधान समय में शायद ही ऐसा कोई फीचर होगा जो फोन निर्माता कंपनियों ने अपने फोन्स में न डाला हो. प्रतियोगिता के इस माहौल में हर कंपनी अपनी ओर से अपने फोन्स में ऐसा कुछ डालने का प्रयास करती ही जो पहले किसी और ने न किया हो. ऐसे ही एक प्रयास का नतीजा है Ulefone कंपनी का नया स्मार्टफोन, Ulefone Armor 12. इसकी बॉडी काफी मजबूत है. इसलिए फोन का नाम आर्मर दिया है. चलिए जानते हैं कि इस फोन में क्या नया है और इसके बाकी फीचर्स क्या हैं…

Ulefone Armor 12 की खास बात 

इस फोन पर, सिल्वर-इयौन-बेस्ड ऐडिटिव्स पर आधारित एक एंटी-बैक्टीरियल कोटिंग है जो यूजर को बैक्टीरियल इन्फेक्शन से सुरक्षित रखेगी. 

इस फोन का कैमरा और स्पीकर्स हैं कमाल 

Ulefone Armor 12 एक क्वाड-रियर कैमरा सेटअप के साथ आएगा. इसका प्राइमेरी सेन्सर 48MP का होगा, वाइड-ऐंगल लेन्स 8MP का, मैक्रो-लेन्स 2MP का और 2MP का डेप्थ सेन्सर जो फोटोज को बोकेह इफेक्ट दे पाएगा. 

इसमें डुअल 1216 सुपर-लीनियर स्पीकर्स फिट हैं जो 7 मैग्नेट्स साउन्ड यूनिट और 106dB की साउन्ड लाउडनेस के साथ आते हैं. इसके साथ-साथ कंपनी ने सॉफ्टवेयर को फाइन-ट्यूनिंग के 15 स्तरों के साथ आप्टिमाइज़ किया है. 

Ulefone के इस स्मार्टफोन के बाकी फीचर्स

यह 5G की सुविधाओं वाला स्मार्टफोन मीडियाटेक डायमेन्सिटी 700 SoC द्वारा संचालित है जो 7nm प्रोसेस पर बना है. 8GB की RAM और 128GB के इंटर्नल स्टोरेज के साथ इस फोन में 5180mAh की बैटरी है जो 18W की फास्ट चार्जिंग और 15W की वायरलेस चार्जिंग को सपोर्ट करता है. Ulefone Armor 12 6.2-इंच के डिस्प्ले, वायरलेस पेमेंट करने के लिए एनएफसी कनेक्टिविटी और विकसित नेवीगेशन सिस्टम के साथ मिलेगा. यह फोन एंड्रॉयड 11 ओएस पर चलता है. 

कैसे खरीद सकते हैं आप यह फोन 

इस फोन के लॉन्च की खुशी में कंपनी अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर एक गिवअवे कर रही हैं जहां भाग लेने वाले फ्री गिफ्ट्स जीत सकते हैं. यह गिवअवे इंस्टाग्राम पर 13 अगस्त को, यूट्यूब पर 18 अगस्त को और अलीएक्स्प्रेस पर 23 अगस्त को किया जा रहा है. Ulefone Armor 12 5G की प्री-सेल 23 अगस्त को शुरू हो जाएगी.

PhonePe फिर टॉप पर, GooglePay के जरिए हुआ एक अरब से ज्यादा ट्रांजैक्शन

नई दिल्ली – डिजिटल पेमेंट ऐप फोनपे (PhonePe) ने यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस यानी यूपीआई (UPI) ट्रांजैक्शन के मामले में एक बार फिर गूगलपे (GooglePay) को पछाड़ दिया है. नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया यानी यूपीआई (NPCI) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार जुलाई महीने में 46 फीसदी मार्केट शेयर के साथ फोनपे से 1.4 अरब ट्रांजैक्शन हुए और इसके जरिए 288,572 करोड़ रुपये का लेन देन किया गया. आपको बता दें फोनपे वॉलमार्ट की मालिकाना हक वाली डिजिटल पेमेंट कंपनी है.

जुलाई में यूपीआई लेनदेन ने फिर से नए रिकॉर्ड बनाए हैं. एनपीसीआई के आंकड़ों के अनुसार जुलाई में यूपीआई के जरिए रिकॉर्ड 3,247.82 से ज्यादा ट्रांजेक्शन हुए और ट्रांजैक्शन वैल्यू पहली बार 6 लाख करोड़ रुपये का आंकड़ा पार कर गया.

दूसरे नंबर पर गूगलपे रहा

इसके अलावा यूपीआई ट्रांजैक्शन के मामले में दूसरे नंबर पर पेमेंट ऐप गूगलपे रहा है. जुलाई महीने में गूगलपे पर 230,874 करोड़ रुपये वैल्यू का 1.1 अरब ट्रांजेक्शन हुआ है. इस कंपनी की मार्केट में हिस्सेदारी 34.45 फीसदी रही.

तीसरे स्थान पर रहा पेटीएम पेमेंट्स बैंक

पेटीएम पेमेंट्स बैंक को यहां तीसरा स्थान हासिल हुआ है जिसके जरिए 51,694 करोड़ रुपये वैल्यू का 454.06 मिलियन ट्रांजैक्शन हुआ. इसका मार्केट शेयर 14 फीसदी रहा. बता दें कि फोनपे के वॉल्यूम में 15 फीसदी से ज्यादा, गूगलपे में 15 फीसदी और पेटीएम पेमेंट्स बैंक ऐप में 18.50 फीसदी की मासिक वृद्धि रही.

क्या है यूपीआई

यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस/यूपीआई (Unified Payments Interface) एक रियल टाइम पेमेंट सिस्टम है, जो मोबाइल ऐप के माध्यम से बैंक अकाउंट में पैसे तुरंत ट्रांसफर कर सकता है. यूपीआई के माध्यम से आप एक बैंक अकाउंट को कई यूपीआई ऐप से लिंक कर सकते हैं. वहीं, अनेक बैंक अकाउंट को एक यूपीआई ऐप के जरिए संचालित कर सकते हैं.

सिर्फ 10 मिनट में फुल चार्ज हो जाएगी ये Electric Car, 1000 किलोमीटर तक मिलेगी रेंज, आप भी देखिए

Electric Car Battery Charging: आने वाला जमाना इलेक्ट्रिक कारों है, लेकिन भारत में इसे लेकर अब भी इंफ्रास्ट्रक्चर के लेवल पर बहुत काम करना बाकी है. इलेक्ट्रिक कारों में चार्जिंग एक बहुत बड़ी चिंता होती है, चार्जिंग में 6-8 घंटे या पूरी रात का वक्त भी लगता है. लेकिन चीन की कार कंपनी ने बैटरी चार्जिंग को लेकर एक नई तकनीक खोज निकाली है, जिससे इलेक्ट्रकि कार सिर्फ 10 मिनट में ही फुल चार्ज हो जाएगी.  

Microsoft ने लॉन्च किया विंडोज 365, किसी भी डिवाइस पर चलेगा Windows OS :

GAC की नई बैटरी चार्जिंग तकनीक

चीन की कंपनी Guangzhou Automobile Corporation (GAC) ने हाल ही अपनी नई इलेक्ट्रिक कार Aion V को दुनिया के सामने पेश किया. इस कार के लिए कहा जा रहा है कि इसमें ग्रेफीन बैटरी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है. जो कार को सिर्फ 8 मिनट में ही 80 परसेंट तक चार्ज कर देता है. यानी इसमें करीब करीब उतना ही वक्त लगेगा जितना की पेट्रोल या डीजल की कार में पेट्रोल पंप पर जाकर तेल भरवाने में लगता है.

3C फास्ट चार्जर से 16 मिनट में 80% चार्ज

GAC का कहना है कि उसके पास 3C और 6C वर्जन हैं, जो बैटरी को बेहद तेज रफ्तार से चार्ज करते हैं, कंपनी का दावा है कि 3C फास्ट चार्जर से कार सिर्फ 16 मिनट में ही 0-80 परसेंट चार्ज हो जाती है. जबकि 30-80 परसेंट तक चार्ज होने में उसे सिर्फ 10 मिनट का वक्त लगता है. 

6C से 10 मिनट में होगी फुल चार्ज

जबकि 6C चार्जर से सिर्फ 8 मिनट में ही 0-80 परसेंट तक बैटरी चार्ज हो जाती है. 30-80 परसेंट चार्ज होने में इसे सिर्फ 5 मिनट का वक्त लगता है. जबकि फुल चार्ज होने में सिर्फ 10 मिनट का टाइम लगेगा. 

बैटरी को कोई नुकसान नहीं होगा

कंपनी ने इस दावे को भी खारिज किया है कि बैटरी को तेजी से चार्ज करने पर बैटरी खराब हो जाती है. कंपनी का कहना है कि कार को 1 लाख किलोमीटर तक चलाने के बाद भी बैटरी को कोई नुकसान नहीं होगा

फुल चार्ज में 1000 किलोमीटर दौड़ेगी कार

कंपनी का दावा है कि उसकी ग्रेफीन बैटरी टेक्नोलॉजी की वजह से ही उसकी नई Aion V SUV की रेंज 1000 किलोमीटर तक है. जो कि अबतक आ रही. सभी इलेक्ट्रिक कारों से कहीं ज्यादा है. उम्मीद की जा रही है कि Aion V SUV को सितंबर में लॉन्च किया जा सकता है. 

Microsoft ने लॉन्च किया विंडोज 365, किसी भी डिवाइस पर चलेगा Windows OS :

नई दिल्ली – दिग्गज टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) ने एक नए प्रोडक्ट विंडोज 365 (Windows 365) की घोषणा की. इस विंडोज को आप वेब ब्राउजर के जरिए भी एक्सेस कर सकते है. माइक्रोसॉफ्ट के लक्ष्य कि हर कंप्यूटर सिस्टम पर उनका विंडो रन करे. इस लक्ष्य के तहत अब कंपनी अपने पॉपुलर ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज 10 और विंडोज 11 को वेब ब्राउजर के जरिए एक्सेस देने की योजना बना रही है. क्लाउड कंप्यूटिंग और स्टे फ्रॉम होम के नए संस्करण में कंपनी कॉर्पोरेट सेक्टर को अब क्लाउड कंप्यूटर योजना के तहत अपने ऑपरेटिंग सिस्टम को वेब ब्राउज़र के जरिए एक्सेस का ऑप्शन दे रही है. यह फीचर्स विभिन्न सब्सक्रिप्शन पैकेज में कंपनियों के लिए उपलब्ध रहेगा.

Facebook का धांसू फीचर, नोट्स हो सकेंगे Google डॉक्यूमेंट्स में ट्रांसफर

माइक्रोसॉफ्ट के जनरल मैनेजर वांगुई मकलेवी ने बताया, “विंडोज 365 इंस्टेंट बूट एक्सपीरियंस फीचर्स प्रदान करेगा. यह इंस्टैंट बूट अप कंपनी के एम्प्लॉई को विंडोज का एक्सेस किसी भी डिवाइस पर देगा जो वेब ब्राउजर को सपोर्ट करता है.” हालांकि विंडोज 10 और विंडोज 11 कंप्यूटर पर बेहतरीन सर्विस देते हैं, लेकिन कंपनी अन्य कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम जैसे कि Mac OS, लाइनक्स, iPads और यहां तक की एंड्रायड डिवाइस को टारगेट करने के लिए यह दांव लगा रही है. माइक्रोसॉफ्ट 365 संस्करण किसी भी भी डिवाइस से इस्तेमाल किया जा सकता है जिसमे मॉडर्न वेब ब्राउजर जैसे कि माइक्रोसॉफ्ट की ही Edge ब्राउजर या फिर गूगल क्रोम ब्राउजर का सपोर्ट हो.

एम-सीरिज चिप्स के साथ गेमिंग पीसी बनाने की तैयारी कर रहा है एपल! जानिए कैसा होगा यह खास पीसी :

माइक्रोसॉफ्ट के इस नए वर्जन को उपयोग करने के लिए आपके डिवाइस में मिनिमम 2 GB रैम और 64 GB से लेकर 256 GB का इंटरनल स्टोरेज होना चाहिए. कंपनी इस विंडोज के दो संस्करण मार्केट में उतारेगी जो कि बिजनेस और इंटरप्राइजेज होगा. यह विंडोज केवल बिजनेस के लिए उपलब्ध होगा. इन दोनों वर्जन के लिए 12 कॉन्फिगरेशन की जरुरत पड़ेगी और कोई भी बिजनेस इन दोनो में से किसी का भी चुनाव कर सकता है. कंपनी इस फीचर्स की शुरुआत 2 अगस्त से करने जा रही है.

Facebook का धांसू फीचर, नोट्स हो सकेंगे Google डॉक्यूमेंट्स में ट्रांसफर :

नई दिल्ली – Facebook का यह फीचर काफी उपयोगी है. इस फीचर की मदद से यूजर अपनी पोस्ट और नोट्स को गूगल डॉक्यूमेंट्स, ब्लॉगर और वर्ल्डप्रेस डॉट कॉम में ट्रांसफर कर सकेंगे. बीते साल फेसबुक ने लोगों के लिए अपनी फोटो और वीडियो को ट्रांसफर करने के लिए फीचर इनेबल किया था. इसके माध्यम से लोग अपनी वीडियो और फोटो को बैकब्लैज, ड्रॉपबॉक्स, गूगल फोटोज में ट्रांसफर कर सकते थे. लोगों की सुविधाओं के लिए टूल का नाम  बदला है. अब इस टूल का नाम ट्रांसफर योर इंफॉर्मेशन होगा. इस टूल को लोगों की प्राइवेसी, सिक्योरिटी और जरूरत को ध्यान में रखकर बनाया है. इसमें आपको ट्रांसफर शुरू करने से पहले पासवर्ड दोबारा डालना होगा. इससे आप सुरक्षित तरीके से डाटा ट्रांसफर कर सकेंगे. 

Facebook-Instagram से जुड़े नए फीचर्स, यूजर्स कमा सकेंगे मोटी रकम, लाइव से भी होगी अर्निंग, जानें क्या करना होगा |

इस तरह से कर सकते एक्सेस

यूजर्स को इस टूल को एक्सेस करने के लिए फेसबुक की सेटिंग में योर फेसबुक इंफॉर्मेशन में जाना होगा. वहां जाकर ट्रांसफर योर इंफॉर्मेशन पर जाकर क्लिक करना होगा. इसके बाद आपको ये सेलेक्ट करना है कि आप कहां एक्सपोर्ट करना चाहते हैं. यहां आप गूगल डॉक्स, वर्ड प्रेस और ब्लॉगर का ऑप्शन मिलेगा. कन्फर्म करने के बाद ये ट्रांसफर हो जाएगा.

अन्य प्लेटफॉर्म के लिंक जोड़ें

अगर आप अपनी फेसबुक प्रोफाइल को अन्य सोशल नेटवर्क प्रोफाइल लिंक से जोड़ना चाहते है तो आपको ये सुविधा फेसबुक पर मिलती है. यह आपको प्रोफाइल में सोशल लिंक और एक आइकन जोड़ने का ऑप्शन देता है, ताकि उस सोशल नेटवर्क को पहचानना और कनेक्ट करना आसान हो जाए.

इस तरह से जोड़ें

अपनी प्रोफ़ाइल खोलें.
अबाउट सेक्शन पर क्लिक करें 
Contact and Basic Info section खोलें. 

सोशल लिंक जोड़ने का ऑप्शन पाने के लिए Websites and Social Links के सामने स्थित एडिट आइकन पर क्लिक करें.

एम-सीरिज चिप्स के साथ गेमिंग पीसी बनाने की तैयारी कर रहा है एपल! जानिए कैसा होगा यह खास पीसी :

नई दिल्ली –  गेमिंग लवर्स के लिए एक रोमांचक खबर है. खबर है कि ऐपल अपनी नई एम-सीरिज चिप्स के साथ गेमिंग पीसी बनाने की तैयारी कर रहा है. वर्तमान में ऐपल के मैक कंप्यूटर वास्तव में उस तरह की मशीनें नहीं हैं जिन पर कोई भी गेमिंग के लिए विचार करेगा. न ही मौजूदा ऐपल के कंप्यूटर में ऐसा कुछ है जो गेमर्स के पसंदीदा विकल्प होंगे. हालांकि, यह भविष्य में बदल सकता है. टॉम गाइड के साथ एक साक्षात्कार में, ऐपल ने पीसी गेमिंग के बारे में अपनी योजना की पुष्टि की है. ऐपल के प्लेटफॉर्म आर्किटेक्चर के उपाध्यक्ष टिम मिलेट ने वेबसाइट को बताया कि पीसी गेमिंग कंपनी के लिए एक स्वाभाविक जगह है. उन्होंने कहा कि पीसी गेमिंग के लिए ऐपल की मेटल टीम और डेवलपर टीम के साथ मिलकर काम करना होगा. उन्होंने आगे कहा कि एपल को “चुनौती पसंद है. मैक कंप्यूटरों के लिए अधिक पावरफुल और अनुकूलित एम-सीरीज़ चिपसेट लाने के लिए ऐपल के कदम को कंपनी के पीसी गेमिंग के आगामी वर्जन के रूप में देखा जा रहा है.

5000mAh बैटरी, तीन कैमरे के साथ लॉन्च हुआ Realme का बजट स्मार्टफोन, मिलेगा HD+ डिस्प्ले

ऐपल ने 2020 में घोषणा की थी कि वह इन-हाउस सिलिकॉन चिप्स के पक्ष में मैक कंप्यूटरों के लिए इंटेल के सीपीयू से दूर हो जाएगा. ऐपल ने तब कहा था कि कंपनी को गेमिंग स्पेस में प्रवेश करने से पहले मैक को अधिक शक्तिशाली और कुशल बनाना होगा. कंपनी के कंट्री प्रोडक्ट मार्केटिंग के वाइस प्रेसिडेंट बॉब बोरचर्स ने कहा था कि मैक को मजबूत बैटरी लाइफ बनाए रखना होगा और इंटेल सीपीयू से संक्रमण को यथासंभव सहज बनाने के लिए ठोस प्रदर्शन देना होगा. M1-संचालित मैकबुक प्रो और मैकबुक एयर के साथ, हमने देखा है कि एपल ने अपने कंप्यूटरों पर बैटरी लाइफ को दोगुना से अधिक कर दिया है. अब, कंपनी एम-सीरीज़ चिप्स- गेमिंग के लिए अपना तीसरा लक्ष्य निर्धारित कर रही है.

ऐपल के कंप्यूटर  M-श्रृंखला मैक CPU का उपयोग करते हैं

अब, जबकि पारंपरिक गेमिंग कंप्यूटर Nvidia GeForce RTC 3080 सीरिज या AMD Radeon RX 6000 सीरिज जैसे एक अलग शक्तिशाली ग्राफिक्स कार्ड का उपयोग करते हैं, ऐपल के कंप्यूटर कस्टम एकीकृत ग्राफिक्स कोर के साथ M-श्रृंखला मैक CPU का उपयोग करते हैं. गेमिंग में प्रवेश करने के लिए, एपल को मैक कंप्यूटरों के साथ एकीकृत ग्राफिक्स के लिए अधिक शक्तिशाली GPU लगाने पड़ सकते हैं.

कंपनी की दीर्घकालिक रणनीति अभी भी साफ नहीं है 

ऐपल एम-सीरीज़ चिपसेट की नेक्स्ट जनरेशन के 16 या 32 ग्राफिक्स कोर के साथ आने की अफवाहों के साथ, ऐपल का पीसी गेमिंग में आना कोई आश्चर्य नहीं है.जबकि तथ्य ज्यादातर क्यूपर्टिनो-आधारित विशाल पीसी गेमिंग में जल्द ही प्रवेश करने की ओर इशारा करते हैं, एम-सीरीज़ सिलिकॉन चिप्स प्रदान करने वाले प्रदर्शन लाभ पर सवारी करते हुए, पीसी गेमिंग के लिए कंपनी की दीर्घकालिक रणनीति अभी भी साफ नहीं है.

एंड्रायड यूजर्स के लिए गूगल भी ला सकता है ऐपल के Find My नेटवर्क जैसा फीचर!

5000mAh बैटरी, तीन कैमरे के साथ लॉन्च हुआ Realme का बजट स्मार्टफोन, मिलेगा HD+ डिस्प्ले :

रियलमी (Realme) ने अपनी C-सीरीज़ का एक और स्मार्टफोन रियलमी C21Y (Realme C21T) लॉन्च कर दिया है. ये फोन एक एंट्री लेवल फोन है, जिसे फिलहाल वियतनाम में पेश किया है. ये फोन UniSoc प्रोसेसर के साथ आता है. खास बात ये है कि एंट्री लेवल का होने के बावजूद इसमें HD+ डिस्प्ले, वॉटरड्रॉप नॉच और ट्रिपर रियल कैमरा सेटअप दिया गया है. साथ ही ये फोन 5000mAh जैसी बड़ी बैटरी के साथ भी आता है, जो किसी यूज़र्स के लिए किसी बोनस से कम नहीं है. फोन रिवर्स चार्जिंग सपोर्ट के साथ आता है. चलिए जानते हैं इस फोन के फुल स्पेसिफिकेशंस और कीमत…

रियलमी C21Y में 6.5 इंच का HD प्लस LCD डिस्प्ले दिया गया है, जिसका पिक्सल रेजोलूशन 1600×720 का है. फोन के फ्रंट में नॉच मौजूद है, जहां पर इसका फ्रंट कैमरा देखा जा सकता है. ये फोन यूनिसॉक टी610 चिपसेट के साथ आता है. साथ ही इसमें माली G52 जीपीयू दिया गया है.

रियलमी का ये बजट स्मार्टफोन एंड्रॉयड 10 पर काम करता है. मेमोरी के तौर पर फोन में 3 जीबी और 4 जीबी की रैम दी गई है. साथ ही 32 जीबी और 64 जीबी की स्टोरेज के साथ आता है.

ये भी पढ़े – लॉन्च से पहले लीक हुए ओप्पो Reno 6Z स्मार्टफोन के स्पेसिफिकेशन, जानें फीचर्स 

बात करें कैमरे की तो रियलमी के इस एंट्री लेवल फोन में ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप दिया गया है, जिसका प्राइमरी सेंसर 13 मेगापिक्सल का है. दूसरा 2 मेगापिक्सल का मैक्रो और तीसरा 2 मेगापिक्सल का मोनोक्रोम लेंस है. सेल्फी और वीडियो कॉलिंग के लिए इस फोन में 5 मेगापिक्सल का कैमरा दिया गया है.

पावर के लिए Realme C21Y में 5000mAh की बैटरी दी गई है. कनेक्टिविटी के लिए फोन में 4G, Wi-Fi 802.11 b/g/n, ब्लूटूथ 5.0, जीपीएस और ग्लोनास जैसे फीचर्स दिए गए हैं.

Realme C21Y की कीमत

रियलमी C21Y दो स्टोरेज वेरिएंट 3GB + 32GB, और 4GB + 64GB के साथ आता है. इसके 3GB वेरिएंट की कीमत 3,490,000 वियतनामी डॉन्ग (भारतीय कीमत के हिसाब से 11,283 रुपये), वहीं 4GB वेरिएंट की कीमत 3990000 वियतनामी डॉन्ग (लगभग 12,900 रुपये) रखी गई है. अब देखना ये है कंपनी अपने इस फोन को भारत में कब पेश करेगी.

Telegram देगा व्हाट्सऐप और जूम को कड़ी टक्कर, ग्रुप वीडियो कॉलिंग, स्क्रीन शेयरिंग सहित ये फीचर्स लॉन्च :

नई दिल्ली – व्हाट्सऐप (Whatsapp) और जूम (Zoom) ऐप की टेंशन अब बढ़ने वाली है क्योंकि उनको टेलीग्राम से तगड़ा कॉम्पिटिशन मिलने वाला है. व्हाट्सऐप और जूम को कड़ी टक्कर देने के लिए टेलीग्राम (Telegram) ने खुद को बड़ी ही तेजी से अपडेट किया है. इसी कड़ी में शनिवार को टेलीग्राम ने अपने प्लेटफॉर्म पर ग्रुप वीडियो कॉल सहित कई एडवांस्ड फीचर्स लॉन्च किए हैं. टेलीग्राम के iOS, एंड्रॉयड और डेस्कटॉप ऐप के लेटेस्ट वर्जन पर यूजर अब ग्रुप वीडियो कॉल कर सकेंगे. साथ ही स्क्रीन शेयरिंग, नॉइज सप्रेशन, वॉयस चैट और एनिमेटेड बैकग्राउंड के साथ एक डेडिकेटेड बॉट और एनिमेटेड इमोजा सहित कई दूसरे फीचर्स जोड़े गए हैं. पिछले 6 महीने में ग्रुप वीडियो कॉल टेलीग्राम का तीसरा बड़ा वॉयस चैट अपडेट है.

यूजर अपने ग्रुप वॉयस चैट को वीडियो कॉन्फ्रेंस कॉल में बदल सकते हैं

एन्क्रिप्टेड मैसेजिंग ऐप टेलीग्राम के यूजर अपने ग्रुप वॉयस चैट को वीडियो कॉन्फ्रेंस कॉल में बदल सकते हैं. यह फीचर खासतौर पर व्हाट्सऐप और जूम की वीडियो कॉलिंग सर्विस को टक्कर देने के लिए अपडेट किया गया है. इससे ऑनलाइन क्लासेस, बिजनेस मीटिंग्स और फैमिली गैदरिंग्स में काफी सहूलियत होगी. चूंकि टेलीग्राम एन्क्रिप्टेड मैसेजिंग ऐप है, इसलिए सिक्योरिटी के लिहाज से भी यह यूजर्स के लिए फायदेमेंद होगा.

स्क्रीन पर किसी के वीडियो फीड को पिन करने का ऑप्शन 

यूजर के पास स्क्रीन पर किसी के वीडियो फीड को पिन करने का ऑप्शन होता है ताकि वे कॉल में नए प्रतिभागी के शामिल होने पर भी फ्रंट और सेंटर में रहें. टेलीग्राम के नए फीचर से यूजर अब आपकी स्क्रीन शेयर कर सकते हैं. अगर वीडियो कॉल के दौरान उन्हें प्रेजेंटेशन देने की आवश्यकता है या वे कुछ दिखाना चाहते हैं तो यूजर्स अपने कैमरा फीड और स्क्रीन दोनों को एक साथ शेयर कर सकेंगे.

ग्रुप वीडियो कॉल में बढ़ेगी मेंबर्स की संख्या 

रिपोर्ट्स के मुताबिक, टेलीग्राम का ग्रुप वीडियो कॉल फिलहाल पहले 30 लोगों तक सीमित हैं जो वॉयस चैट में शामिल होते हैं, लेकिन टेलीग्राम ने कहा कि यह संख्या जल्द ही बढ़ेगी. कंपनी ने कहा कि वह लाइव इवेंट और अन्य नए फीचर्स का समर्थन करने के लिए वॉयस चैट का विस्तार करेगी. टेलीग्राम के यूजर इन एडवांस्ड फीचर्स का इस्तेमाल स्मार्टफोन, टैबलेट और कंप्यूटर पर कर सकेंगे

एंड्रायड यूजर्स के लिए गूगल भी ला सकता है ऐपल के Find My नेटवर्क जैसा फीचर!

नई दिल्ली –  यदि आप एंड्रायड यूजर हैं तो संभवतः आने वाले दिनों में आपको ऐपल (Apple) का एक महत्वपूर्ण फीचर फाइंड माय नेटवर्क जैसा ही कुछ मिल जाए. ऐपल को टक्कर देने के लिए गूगल Find My जैसा ही फीचर अपने एड्रायड यूजर्स के लिए देने का विचार कर रहा है. आईफोन निर्माता ऐपल ने इस साल की शुरुआत में अपने Airtags प्रोडक्ट के लॉन्च के साथ अपने ‘फाइंड माई’ नेटवर्क को बढ़ाया था. Airtags ऐसे ट्रैकर्स होते हैं जिन्हें चाबियों और अन्य उपकरणों से जोड़ा जा सकता है और फिर किसी अन्य ऐपल डिवाइस से ट्रैक किया जा सकता है. XDA Developers की एक रिपोर्ट के मुताबिक, गूगल इस तरह का सिस्टम बनाने के लिए अपने Play Services ऐप का फायदा उठाने की कोशिश कर सकता है.

इसे भी पढ़े – गूगल ने शुरू की फोटो हाइड करने की सुविधा, इस तरह से छिपाएं पर्सनल फोटोज

ऐपल डिवाइस नेटवर्क जितना ही बड़ा है

पब्लिशर को Play Services ऐप के लेटेस्ट अपडेट में एक ऐसा कोड मिला जो इसी बात की ओर इशारा कर रहा है. Play Services ऐप एंड्रायड के आधिकारिक गूगल लाइसेंस प्राप्त संस्करण के साथ हर स्मार्टफोन में बनाया गया है. यह लगभग सभी एंड्रॉयड फोन को कवर करता है और शायद यह एकमात्र नेटवर्क है जो ऐपल के डिवाइस नेटवर्क जितना बड़ा है. बेशक किसी ऐप के कोड के टूटने को आधिकारिक घटनाक्रम के रूप में नहीं लिया जा सकता है, लेकिन इस तरह की रिपोर्टें अक्सर सही पाई गई हैं.

ऐपल जैसे एयरटैग बना सकती है गूगल 

एंड्रॉयड डिवाइस मैनेजर यूजर्स को अपने स्मार्टफोन को दूर से ही ट्रैक करने और जरूरत पड़ने पर अपने डेटा को डिलिट करने के साथ ही बहुत कुछ करने की अनुमति देता है. एपल जैसे फाइंड माई नेटवर्क के साथ, कंपनी एयरटैग जैसे डिवाइस बनाने की योजना बना रही है. एंड्रॉइड फोन, टैबलेट, स्मार्टवॉच और स्मार्ट टीवी के बीच, गूगल के पास एक बड़ा और विश्वव्यापी नेटवर्क बनाने के लिए पर्याप्त उपकरणों पर Play Services ऐप था. कंपनी एंड्रॉयड का यह अंतर्निहित हिस्सा भी बना सकती है, जो तीसरे पक्ष को गूगल के सॉफ्टवेयर का लाभ उठाने की अनुमति देगा ताकि एयरटैग जैसे उपकरणों को भी बनाया जा सके. दक्षिण कोरियाई स्मार्टफोन निर्माता, सैमसंग, पहले से ही इनके अपने संस्करण बेचता है, लेकिन एंड्रॉयड में निर्मित सॉफ्टवेयर होने से छोटे ओईएम भी इस तरह के उपकरणों का निर्माण कर सकेंगे.

Netflix पर आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं फिल्में, टीवी शो और वेब सीरीज़! जानें तरीका :

अगर आप अकसर ऑफिस या किसी निजी कामों से ज्यादातर यात्रा करते हैं, तो आप भी उन लोगों में से हो सकते हैं, जो यात्रा का समय गाने सुनने या कोई वीडियो देखने में व्यतीत करते हैं. ऐसी यात्राओं के दौरान सबसे अच्छा होता है कि आप म्यूज़िक और वीडियोज़ को पहले से ही डाउनलोड करके रख लें , जिससे आपको सफर के दौरान इंटरनेट की जरुरत नहीं होगी. जैसा कि आप सब जानते हैं सफर के दौरान इंटरनेट की स्पीड ज्यादातर कम हो जाती है और वाईफाई की सुविधा भी नहीं मिल पाती है.

गानों को ऑफलाइन सुनने के लिए बहुत सारे म्यूज़िक ऐप मौजूद है, जिनके प्रीमियम मेंबर बनकर आप संगीत को डाउनलोड कर सकते है और उसका इस्तेमाल बाद में कर सकते हैं. वीडियो और मूवीज के लिए यूज़र्स नेटफ्लिक्स ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं.

नेटफ्लिक्स पर शो/मूवीज कैसे डाउनलोड करें?


>> नेटफ्लिक्स ऐप पर जाएं और वह मूवी या शो ढूंढें जिसे आप डाउनलोड करना चाहते हैं. सभी शो/फिल्मों में डाउनलोड विकल्प नहीं होते हैं, इसलिए आगे बढ़ने से पहले आपको यह देखना होगा कि आप जो देखना चाहते हैं वह डाउनलोड के लिए है या नहीं.

>>अगर शो/मूवी डाउनलोड की जा सकती है, तो उसके डिटेल वाले पेज पर जाएं.

>>डाउनलोड बटन पर टैप करें. टैप करने के बाद निचे दिया गया Arrow का बटन  एक टाइमर में बदल जाएगा, जहां आप अपने डाउनलोड की प्रक्रिया को देख सकते हैं.

>> इसके बाद आपकी इंटरनेट की स्पीड के हिसाब से डाउनलोड की गई मूवी या शो डाउनलोड हो जाएगी.

>> नेटफ्लिक्स पर फिल्में एक बार में डाउनलोड की जा सकती हैं, लेकिन शो के लिए आपको हर एपिसोड को अलग-अलग डाउनलोड करना होगा. पूरे सीजन को डाउनलोड करने का कोई विकल्प नहीं है

नेटफ्लिक्स पर डाउनलोड की गई मूवी/शो हमेशा के लिए आपके डिवाइस पर नहीं रहने वाली है, यह सीमित समय के लिए है. नेटफ्लिक्स द्वारा हटाए जाने से पहले आपको ये सुनिश्चित करना होगा कि आप जल्द ही इस मूवी/शो को देख लें. आपके द्वारा डाउनलोड किए गए सभी मूवी/शो डाउनलोड टैप पर उपलब्ध होंगे, जिसे आप बिना इंटरनेट के देख सकते हैं.