Quote

राहुल गांधी पर भाजपा ने कसा तंज

नई दिल्ली : आज कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस सुबह 10.15 बजे होने वाली थी, जिसे टालकर दोपहर एक बजे कर दिया गया है। राहुल के प्रेस कॉन्फ्रेंस का समय बदले जाने पर तंज कसते हुए भाजपा की ओर से एक ट्‌वीट किया गया है, जिसमें यह कहा गया है कि लगाता है राहुल गांधी सुबह जल्दी नहीं उठते, अच्छा है सुबह-सुबह झूठ फैलाने से बच गये।https://twitter.com/BJP4India/status/1108955258250629120
गौरतलब है कि आज सुबह राहुल गांधी की प्रेस कॉंन्फ्रेंस होनी थी, लेकिन बिना कोई कारण बताये इसे दोपहर तक के लिए टाल दिया गया है। मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार राहुल गांधी के आवास पर अभी कांग्रेस कोर ग्रुप की आवश्यक बैठक चल रही है, जिसे राहुल गांधी ने अचानक बुलाया है। इसी बैठक के कारण प्रेस कॉन्फ्रेंस को टाला गया है। बताया जा रहा है कि बैठक में कई वरिष्ठ नेता शामिल हैं।

Quote

राहुल गांधी का कहना है कि कांग्रेस ‘सांस्कृतिक साम्राज्यवाद’ में विश्वास नहीं करती है

इम्फाल : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को कहा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अत्यधिक परिष्कृत देश में “औसत दर्जे” में लिप्त होकर पीएमओ को “प्रचार मंत्री के कार्यालय” में बदल दिया है।

अरुणाचल प्रदेश से मंगलवार शाम इम्फाल पहुंचे श्री गांधी राज्य की राजधानी में मणिपुर राज्य फिल्म विकास सोसाइटी के छात्रों के साथ बातचीत कर रहे थे।”प्रधानमंत्री कार्यालय अब प्रचार मंत्री का कार्यालय है,” श्री गांधी ने छात्रों को बताया।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस “सांस्कृतिक साम्राज्यवाद” में विश्वास नहीं करती है और यह विचार है कि देश के एक हिस्से को अन्य हिस्सों पर शासन नहीं करना चाहिए क्योंकि प्रत्येक राज्य की अपनी आवाज़ है जिसका सम्मान किया जाना चाहिए।हालांकि, केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के साथ ऐसा नहीं था।

“देश के हर हिस्से को खुद को व्यक्त करने की अनुमति दी जानी चाहिए। बीजेपी-आरएसएस का संयोजन एक विचार को लागू करना चाहता है और दूसरे विचारों को कुचलना है। जब भी कोई विरोध प्रदर्शन होता है तो उनका भारीपन देखा जाता है।

पूर्वोत्तर में, श्री गांधी ने कहा कि नौकरी के संकट से निपटना और क्षेत्र में कनेक्टिविटी बढ़ाना उनकी पार्टी की प्राथमिकता है।“हमारे विचार में, क्षेत्र एक संभावित विनिर्माण केंद्र है। कृषि क्षेत्र में भंडारण की जगह की कमी के कारण यहां खाद्य और सब्जियां बर्बाद हो रही हैं। खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मणिपुर में स्थापित किए जा सकते हैं, ”उन्होंने कहा।

Quote

राहुल गांधी और एचडी देवेगौड़ा 31 मार्च को संयुक्त रैली करेंगे

बेंगलुरु : अपने “आम दुश्मन” – भारतीय जनता पार्टी – जनता दल (सेक्युलर) के शीर्ष नेताओं और कांग्रेस के खिलाफ एकजुटता के प्रदर्शन में मंगलवार को उन्होंने घोषणा की कि वे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और जेडीएस सुप्रीमो के साथ ‘ऐतिहासिक सार्वजनिक रैली’ करेंगे। एचडी देवेगौड़ा 31 मार्च को मंच साझा करते हुए।

मंगलवार को एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में, पार्टियों ने कहा कि वे लोकसभा चुनावों में कर्नाटक में “विभाजनकारी, सांप्रदायिक और लोकतंत्र विरोधी” ताकतों को हराने के लिए प्रतिबद्ध थे।रैली बेंगलुरु-मैसूरु क्षेत्र में होगी।

श्री गौड़ा ने कहा, “हम हर चीज पर एक साथ हैं। चाहे वह कोई भी कारीगर हों या कोई भी नेता, दोनों ही पार्टियों से संबंधित हैं, उन्हें कुछ भी बोलना या कहना नहीं चाहिए जिससे गठबंधन धर्म प्रभावित हो।”

Quote

हमारी सरकार आयी तो GST हटा देंगे राहुल गांधी

ईटानगर : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अरुणाचल प्रदेश में चुनावी सभा कर रहे हैं। इस सभा में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांदी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। इस मंच से उन्होंने पीएम मोदी के भाषण के तरीके पर टिप्पणी की। राहुल गांधी ने पीएम मोदी को झूठा बताते हुए कहा, 45 सालों से ज्यादा बेरोजगारी आज है। मोदी जी हर जगह कहते हैं, बेरोजगारी दूर होगी, नहीं हुई। पीएम मोदी ने जीएसटी को लेकर जो वादा किया गलत निकला। आपकी जेब का पैसा भी निकाल कर ले गये। कहां तो वादा था कि आपके पैसे बचेंगे लेकिन आपकी जेब से भी पैसे निकाल कर ले गये। आज तक लोग गब्बर सिंह टैक्स को समझ नहीं पाये।

राहुल गांधी ने इस मंच से कहा कि अगर हमारी सरकार आयी तो हम गब्बर सिंह टैक्स को हटा कर आपको जीएसटी दे देंगे। हमें पता है कि यह कैसे करना है। नरेंद्र मोदी को पता नहीं क्या हो जाता है। एक दिन रात को आठ बजे आते हैं और कहते हैं 500 और 1000 रुपये का नोट भारत में नहीं चलेगा। मोदी के लिए विकास का मतलब नोट बंद करना है।

दुनिया में आप किसी अर्थशास्त्री से पूछ लो अर्थशास्त्री छोड़ो आप बच्चे से पूछ लोग नोटबंदी करने से कौन सा विकास आता है। इस चुनावी सभा में राहुल गांधी ने राफेल, कर्जमाफी, किसान और कई उद्योगपतियों का नाम लिया। राहुल गांधी ने कहा, पीएम मोदी भारत में 15 – 20 लोगों के लिए काम करते हैं। चौकीदार चोरी करा रहा है भाईयों। राहुल ने आदिवासियों की जमीन का मुद्दा भी यहां छेड़ा कहा, भाजपा सरकार इन उद्योगपतियों को आपकी जमीन देना चाहती है।

Quote

क्या आम आदमी पार्टी और कांग्रेस गठबंधन करेगी ? राहुल तय करेंगे

नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव में क्या आम आदमी पार्टी और कांग्रेस गठबंधन करेगी ? कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शीला दीक्षित से चिट्ठी लिखकर स्थिति स्पष्ट करने को कहा है। इसका अर्थ साफ है कि इस सवाल का जवाब अभी कांग्रेस के पास भी नहीं है। कांग्रेस से गठबंधन को लेकर “आप ” के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट तक कर दिया। कई बार उन्होंने कांग्रेस को न्यौता दिया कि अगर हम साथ मिलकर लड़े तो भाजपा को हरा सकेंगे।

दूसरी तरफ कांग्रेस आप के साथ गठबंधन को लेकर असमंजस में है।कांग्रेस में आप के गठबंधन करने को लेकर दो धड़े हैं। पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के साथ खड़े लोग आप के साथ गठबंधन को लेकर तैयार नहीं है। दूसरी तरफ अजय माकन और उनका गुट यह गठबंधन करना चाहता है। इन दोनों खेमों ने मिलकर अबतक कोई सहमति नहीं बनायी है कि गठबंधन होगा या नहीं।

शीला दीक्षित और अजय माकन गुट ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को चिट्ठी लिखकर अपनी – अपनी बात रखी है। अबतक स्थिति स्पष्ट नहीं है। कांग्रेस अध्यक्ष ने यह साफ कहा था कि यह फैसला आप सबको लेना है। प्रदेश अध्यक्ष शीला और उनके सहयोगी तीन वर्किंग प्रेजिडेंट्स (हारून यूसुफ, देवेंद्र यादव और राजेश लिलोठिया) ने गठबंधन को गलत बताया और चिट्ठी में साफ लिखा है कि इससे पार्टी को भविष्य में नुकसान होगा। इस चिट्ठी में साफ लिखा गया कि यहां लोकसभा का चुनाव पार्टी को अकेले दम पर लड़ना चाहिए।

यह पत्र 14 मार्च को भेजा गया था। इस चिट्ठी के जवाब में एक और चिट्ठी कांग्रेस अध्यक्ष के पास पहुंची है इसमें दिल्ली कांग्रेस के प्रभारी पीसी चाको आप से गठबंधन के समर्थन में लिखा है। सूत्रों की मानें तो पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन, ताजदार बाबर, अरविंदर सिंह लवली और सुभाष चोपड़ा ने राहुल को गठबंधन के लिए हामी भरने की सलाह दी है। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए पीसी चाको ने कहा, ‘मुझे जानकारी मिली है कि पार्टी के सीनियर नेता समझते हैं कि इस वक्त बीजेपी को हराना मुख्य जिम्मेदारी है। नेताओं को लगता है कि इसके लिए आप से गठबंधन होना चाहिए। इस पर राहुल गांधी फैसला करेंगे।

Quote

बिहार में महागठबंधन को लेकर राहुल गांधी से आज मिलेंगे तेजस्वी!

नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बिहार में सीट बंटवारे के मुद्दे पर महागठबंधन में जारी घमासान थमता नहीं दिख रहा है। राजद के युवा तेजस्वी यादव के ट्वीट के बाद सीट बंटवारे के मुद्दे पर महागठबंधन में मुश्किलों और बढ़ा दिया है। हालांकि, महागठबंधन में शामिल सभी दलों का कहना है कि सारी चीजें तय हैं। लेकिन, इसके बाद भी राजद और हम अपने सहयोगी दल कांग्रेस को ही तेवर दिखा रही है। वहीं, कांग्रेस भी अपने जिद पर अड़ी हुई है। ऐसे में माना जा रहा है कि महागठबंधन मुश्किलों में फंसा हुआ है। इन सबके बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से आज दिल्ली में तेजस्वी यादव मुलाकात कर सकते है।

उधर, हिंदुस्तान अवाम मोरचा के प्रमुख सह बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी के बाद अब रालोसपा प्रमुख एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने भी अब महागठबंधन में पांच सीटों की मांग करते दिख रहे है। बताया जा रहा है कि बिहार में लोकसभा सीटों पर महागठबंधन में शामिल घटक दल अपने तरीके से दावा ठोंक रहे है। इस कारण सीट बंटवारे पर पेंच अब भी फंसा हुआ है।

बता दें कि कांग्रेस पर तेजस्वी यादव और जीतनराम मांझी ने तेवर दिखाये हैं। महागठबंधन के सहयोगी दल कांग्रेस को निशाना बना रहे हैं और कांग्रेस को बिहार में अपनी हैसियत दिखा रहे हैं। हम पार्टी के प्रमुख जीतनराम मांझी ने कहा है कि आज के दौर में हमारी पार्टी कांग्रेस से कम नहीं हैं। वहीं, तेजस्वी यादव ने भी कांग्रेस को सीटों के लिए अहंकार नहीं करने की नसीहत दे दी है।

जीतनराम मांझी ने शनिवार को पार्टी के संसदीय बोर्ड की मीटिंग के बाद कहा कि उन्हें अगर पांच सीट दे दी जाए तो उनकी सारी समस्या खत्म हो जायेगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस से हमारी हैसियत कम नहीं है। इसलिए वह जीतना सीट मांग रही है उससे आधी सीट तो हमें मिलनी ही चाहिए। वहीं, इस बयान के बाद तेजस्वी यादव ने भी ट्विट कर कांग्रेस को नसीहत देते हुए कहा कि, अगर अपनी चंद सीटें बढ़ाने और सहयोगियों की घटाने के लिए अहंकार नहीं छोड़ा तो संविधान में आस्था रखने वाले न्यायप्रिय देशवासी माफ नहीं करेंगे। बताया जाता है कि तेजस्वी के इस ट्विट के बाद ही कांग्रेस ने रविवार को होने वाले सीटों के ऐलान पर रोक लगा दी और इसकी तारीख को आगे बढ़ा दिया। माना जा रहा है कि 18 को अब बैठकों के बाद सीट बंटवारे को लेकर एलान हो सकता है।

वहीं, कांग्रेस नेता सदानंद सिंह ने कड़े शब्दों में कहा कि सीट बंटवारे को लेकर महागठबंधन में कोई नेता क्या बोलता हैं उससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। हमारा गठबंधन मुख्य पार्टी राजद से है। इसलिए तेजस्वी यादव और लालू यादव क्या बोलते हैं उस पर सोचा जायेगा। उन्होंने कहा कांग्रेस की हैसियत ग्यारह सीटों से अधिक है। इसलिए हमें हैसियत नहीं दिखाया जाये।

गौर हो कि लो कसभा चुनाव की तारीखों का एलान हो गया है और चुनाव के लिए दो दिन बाद प्रत्याशियों के नोमिनेशन की प्रक्रिया शुरू होनेवाली है। लेकिन, बिहार महागठबंधन में अब तक सीट शेयरिंग का पेंच तक नहीं सुलझ पाया है।

Quote

TNCC ने राहुल गांधी से तमिलनाडु से चुनाव लड़ने का अनुरोध किया

चेन्नई : तमिलनाडु कांग्रेस कमेटी (TNCC) ने AICC अध्यक्ष राहुल गांधी से अनुरोध किया है कि वे तमिलनाडु के लोकसभा क्षेत्रों में से एक से चुनाव लड़ें, उन्होंने कहा कि वह केवल उत्तर प्रदेश राज्य तक ही सीमित नहीं रह सकते।

उन्होंने कहा, “देश में दक्षिण और उत्तर के बीच एक विभाजन है और यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के पांच साल के कार्यकाल के दौरान बढ़ा है। अगर राहुल गांधी चुनाव लड़ते हैं और तमिलनाडु से चुने जाते हैं, तो इसे पाटा जा सकता है।TNCC के अध्यक्ष के.एस. अलागिरी ने द हिंदू को बताया।

यह पूछे जाने पर कि क्या उन्होंने श्री गांधी को विचार का प्रस्ताव दिया था, श्री अलागिरी ने कहा कि उन्होंने वास्तव में उनसे तमिलनाडु से तिरुवनंतपुरम की यात्रा के दौरान अनुरोध पर विचार करने के लिए कहा था। “जब मैंने उसे बताया तो वह मुस्कुराया। मैं 18 मार्च को उनसे मिलते हुए फिर से पूछूंगा, ”श्री अलागिरी ने कहा।

उन्होंने कहा कि श्री गांधी के अनुरोध को तमिलनाडु में धर्मनिरपेक्ष गठबंधन से बहुत समर्थन मिलेगा क्योंकि डीएमके अध्यक्ष एम.के. श्री गांधी को धर्मनिरपेक्ष दलों के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में नामित करके स्टालिन ने पहले ही राष्ट्रीय राजनीति के लिए स्वर निर्धारित कर दिया था।

“श्री। गांधी समाज के सभी वर्गों के लिए स्वीकार्य नेता हैं। उन्होंने विविधता में एकता के विचार के लिए खुद को समर्पित किया है। उन्हें तमिलनाडु के दक्षिणी हिस्से में दूसरी सीट से चुनाव लड़ने के हमारे प्रस्ताव पर विचार करना चाहिए देश, यहां तक ​​कि जब वह अमेठी से चुनाव लड़ता है, ”श्री अलागिरी ने कहा।

Quote

राहुल गांधी ने कहा-चार साल में ‘अच्छे दिन आयेंगे’ नारे से ‘चौकीदार चोर है’ नारा आ गया

देहरादून : भाजपा के वरिष्ठ नेता भुवन चंद्र खंडूरी के पुत्र मनीष खंडूरी शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में एक रैली के दौरान कांग्रेस में शामिल हो गये। राहुल ने कांग्रेस में खंडूरी का स्वागत करते हुए कहा कि उनके आने से पार्टी मजबूत होगी। ऐसी अटकलें हैं कि कांग्रेस मनीष खंडूरी को पौड़ी लोकसभा सीट से टिकट दे सकती है जिसका प्रतिनिधित्व उनके पिता कर रहे हैं।

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बी सी खंडूरी को पिछले साल रक्षा मामलों की स्थायी संसदीय समिति के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया था। कांग्रेस ने इस घटनाक्रम को लेकर भाजपा पर जम कर तंज किये थे। इसका उल्लेख राहुल गांधी ने आज अपनी रैली के दौरान भी किया। कांग्रेस अध्‍यक्ष ने कहा कि बीसी खंडूरी डिफेंस से जुड़ी संसदीय कमिटी में थे और उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी देश की सेवा की। खंडूरी जी ने सेना के पास हथियार की कमी मामला उठाया तो उन्हें संसदीय कमिटी के चेयरमैन के पद से हटा दिया गया।

रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि पुलवामा हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हंसते हुए पोज दिया और बाद में देशभक्ति की बातें कीं। उस समय हमारे प्रधानमंत्री कॉर्बेट पार्क में नेशनल जियोग्राफिक चैनल के लिये फिल्म बना रहे थे।

उन्होंने रैली के राफेल के मामले का भी जिक्र किया और कहा कि अनिल अंबानी नरेंद्र मोदी के साथ फ्रांस जाता है और 1-2 दिन के अंदर ही एचएएल को किनारे कर अनिल अंबानी की कंपनी को राफेल का कॉन्ट्रैक्ट दे दिया जाता है। नरेंद्र मोदी ने फ्रांस की सरकार को अनिल अंबानी को राफेल का ठेका देने को कहा था। सीबीआई चीफ राफेल की जांच की बात करता है तो उसे रातोरात हटा दिया जाता है।

राहुल गांधी ने देहरादून में चौकीदार चोर का नारा लगवाया और कहा कि चार साल में अच्छे दिन आएंगे से चौकीदार चोर है का नारा आ गया। उन्होंने कहा कि हमने कर्नाटक, पंजाब, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ आदि राज्यों में किसानों का कर्ज माफ किया।

कांग्रेस अध्‍यक्ष ने तंज कसते हुए कहा कि नीरव मोदी को नरेंद्र मोदी भाई कहते हैं। उसे इंग्लैंड की सरकार वापस भेजना चाहती है, लेकिन सरकार उसके बारे में सबूत नहीं देती है। उन्होंने कहा कि रोजगार और किसानों की समस्या के बारे में नरेंद्र मोदी ने 5 साल में कुछ नहीं किया।

राहुल गांधी ने कहा कि मोदी जी ने आपको कहा था 15 लाख रुपये हर व्यक्ति के बैंक खाते में डालेंगे, हर साल 2 करोड़ युवाओं को नौकरी देंगे। देश में 45 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी आज है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के छोटे दुकानदारों, छोटे व मध्यम उद्योगों वालों सुन लीजिए 5 अलग-अलग टैक्स वाले गब्बर सिंह टैक्स को हम एक साधारण टैक्स वाले जीएसटी में बदल देंगे।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने हिंदुस्तान के किसान को दिन के साढ़े तीन रुपये दिये और उसके लिये भाजपा के सारे सांसद ताली बजा रहे थे। शर्म आनी चाहिए! हिंदुस्तान के बैंक का पैसा मोदी ने मोदियों को दे दिया।

Quote

राहुल गांधी इस बार अमेठी के अलावा दक्षिण भारत से भी लड़ सकते हैं चुनाव

नई दिल्ली : चुनावी वर्ष में तारीखाें के ऐलान के साथ ही सभी दल अपनी तैयरियों में लग गये है। सत्‍ताधारी भारतीय जनता पार्टी हो या विपक्षी कांग्रेस सभी लोग अपनी बिसात बिछाने लगे है। केई अपने लिए सुर‌िक्षत सीट तलाश रहा है तो कोई दो सीटों पर चुनाव लड०ने की तैयारी कर रहा है। चर्चा है कि अमेठी लोकसभा सीट से तीन बार के सांसद और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस बार किसी और सीट से भी चुनाव लड़ सकते हैं। राहुल अमेठी के अलावा दक्षिण भारत की किसी सीट से भी चुनाव लड़ेंगे। कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता भी मांग कर रहे हैं कि उन्हें एक और सीट से उम्मीदवार बनना चाहिए। दक्षिण भारत से राहुल के चुनाव लड़ने की चर्चाओं से पहले ऐसे भी कयास लगाए जा रहे थे कि महाराष्ट्र की नांदेड़ सीट से या फिर मध्य प्रदेश की किसी सुरक्षित सीट से वह लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं।

कार्यकर्ताओं ने मांग की है कि उन्हें कर्नाटक की किसी सीट से भी चुनाव लड़ना चाहिए। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस की योजना यह है कि यदि राहुल गांधी एक और सीट से चुनाव लड़ते हैं तो उसके आसपास की सीटों पर भी माहौल बनेगा और कांग्रेस को बढ़त मिल सकेगी। खासतौर पर दक्षिण भारत में यदि राहुल अपनी मौजूदगी दर्ज कराते हैं तो हिंदी पट्टी में कमजोर दिख रही कांग्रेस एक तरह से भरपाई की स्थिति में आ सकती है। बीते लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी और वड़ोदरा की दो लोकसभा सीटों से चुनाव लड़ा था। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने कहा है कि अगर राहुल नांदेड़ से लड़ना चाहते हैं तो उनका स्वागत है। उन्होंने कहा था, ‘राहुल गांधी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष हैं। वह किसी भी लोकसभा सीट से सफलतापूर्वक लड़ सकते हैं।’

Quote

राहुल गांधी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी विफलता छिपाने की कोशिश कर रहे हैं

नई दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज एकबार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला है. दुनिया के कई प्रमुख अर्थशास्त्रियों द्वारा भारत के आर्थिक विकास से जुड़े आंकड़ों में ‘‘राजनीतिक हस्तक्षेप’ पर चिंता जताये जाने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि वह रोजगार पर सच्चाई और अपनी विफलता छिपाने की कोशिश कर रहे हैं।

गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘नरेंद्र मोदी सच छिपाने की कोशिश कर रहे हैं ताकि रोजगार से जुड़े आंकड़े कहीं सार्वजनिक न हो जायें।’ खबरों के मुताबिक, अर्थशास्त्रियों और समाज शास्त्रियों ने आर्थिक आंकड़ों में कथित राजनीतिक हस्तक्षेप को लेकर चिंता जतायी है।

कुल 108 विशेषज्ञों ने एक संयुक्त बयान में सांख्यिकी संगठनों की ‘संस्थागत स्वतंत्रता’ बहाल करने का आह्वान किया है। सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के आंकड़ों में संशोधन करने तथा एनएसएसओ द्वारा रोजगार के आंकड़ों को रोक कर रखे जाने के मामले में पैदा हुये विवाद के मद्देनजर यह बयान आया है।

Quote

युवाओं और मछुआरों को रोजगार पाने के लिए, उन्हें भारतीय बैंकिंग क्षेत्र में पहुंच प्राप्त करनी चाहिए : राहुल

कोच्ची : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी देश के युवाओं से चाहते थे कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछें, जो अपने विपणन अभ्यासों का वित्तपोषण कर रहे थे और टीवी और समाचार पत्रों में अपने विज्ञापनों के लिए भुगतान कर रहे थे।

श्री मोदी ने देश के 15 उद्योगपतियों द्वारा विपणन किया जा रहा है और प्रधानमंत्री बदले में अपने हितों की रक्षा कर रहे हैं और उन्हें मछुआरों की भूमि और संपत्ति चोरी करने की अनुमति देते हैं, कथित रूप से श्री गांधी, ने राष्ट्रीय मछुआरों के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत करते हुए कहा कि 14 मार्च को यहां आयोजित किया गया था।

देश के सभी प्रमुख बंदरगाह अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मित्रों के स्वामित्व में हैं। उद्योगपति मछुआरों की जमीन छीन रहे हैं। उन्होंने कहा कि श्री मोदी की मार्केटिंग का ध्यान रखते हुए वे एहसान वापस कर रहे हैं। जब कांग्रेस सत्ता में लौटती है, तो वह संसद और विधानसभाओं में महिलाओं के लिए 33% आरक्षण और देश में नौकरियों को सुनिश्चित करने के लिए कानून बनाएगी। उन्होंने कहा कि देश के मछुआरों की जरूरतों का ख्याल रखने और उनके मुद्दों के समाधान के लिए केंद्र में मत्स्य पालन के लिए एक अलग मंत्रालय बनाया जाएगा।

युवाओं और बेरोजगारी के मुद्दे पर अपना ध्यान केंद्रित करते हुए, श्री गांधी चाहते थे कि युवाओं को यह पता चले कि भारतीय बैंकिंग क्षेत्र से, 35,000 करोड़ प्राप्त करने वाले उद्योगपति अनिल अंबानी ने कितनी नौकरियां बनाई थीं। यदि आप केरल के एक युवा उद्यमी को you 35 लाख देते हैं, तो वह और अधिक नौकरियां पैदा करेगा, उन्होंने कहा।

युवाओं और मछुआरों को रोजगार पाने के लिए, उन्हें भारतीय बैंकिंग क्षेत्र में पहुंच प्राप्त करनी चाहिए, उन्होंने कहा। प्रमुख उद्योगपतियों को प्रधान मंत्री की कथित निकटता का उल्लेख करते हुए, श्री गांधी ने कहा कि वह कभी भी अनिल अंबानी अनिल भाई, नीरव मोदी नीरव भाई और मेहुल चोकसी, चोकसी भाई को नहीं बुलाते थे।

श्री मोदी नीरव मोदी, अनिल अंबानी और चोकसी के हितों की रक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि इन उद्योगपतियों को भारतीय बैंकिंग क्षेत्र पर कब्जा करने की अनुमति देने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। कांग्रेस का कोई भी वित्त मंत्री नहीं रखेगा विजय माल्या के साथ संसद में चर्चा करने से पहले कानून से बचने और देश से भागने के बाद, वित्त मंत्री अरुण जेटली पर कटाक्ष किया।

जबकि मछुआरों, देश के युवाओं और छोटे समय के व्यापारियों को अपनी आवाज सुनने के लिए चिल्लाना होगा, उद्योगपतियों को सिर्फ कानाफूसी करने की जरूरत है और उनकी आवाज कुछ ही समय में प्रधानमंत्री तक पहुंच जाएगी।

श्री गांधी ने देश के सभी नागरिकों के लिए एक न्यूनतम आय सुनिश्चित करने के लिए पहले के वादे को दोहराया भ्रष्टाचार।उन्होंने मछुआरों की संसद द्वारा तैयार घोषणा पत्र भी जारी किया।

राज्य के वरिष्ठ कांग्रेस नेता, जिनमें केपीसीसी के अध्यक्ष मुल्लापल्ली रामचंद्रन और एआईसीसी के महासचिव ओमन चांडी और विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला शामिल थे, जो बैठक में मौजूद थे, उन्होंने बोलने के लिए नहीं चुना।

Quote

मोदी डरे हुए हैं शी से, मुंह से एक शब्द नहीं निकला : राहुल

नई दिल्ली : कांग्रेस ने पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र में वैश्विक आतंकवादी घोषित कराने की कोशिश में चीन के अड़ंगा डालने के बाद भाजपा सरकार पर हमला बोला है। यही नहीं कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने मामले को लेकर पीएम मोदी पर तंज भी कसा है।

राहुल गांधी ने अपने ट्विटर वॉल पर लिखा कि कमजोर मोदी, शी जिनपिंग से इतने डरे हुए हैं कि चीन ने भारत के खिलाफ कदम उठाया और उनके मुंह से एक शब्द नहीं निकला…
राहुल गांधी ने आगे लिखा कि चीन को लेकर नमो की कूटनीति-

1. गुजरात में शी जिनपिंग के साथ झूला झूलो
2. शी जिनपिंग को दिल्ली में गले लगाओ
3. चीन में शी जिनपिंग के सामने झुक जाओ।

इससे पहले बीती रात कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में यह एक दुखद दिन है. उन्होंने आज फिर आतंकवाद के ख़िलाफ़ लड़ाई को चीन-पाक गठजोड़ ने आघात पहुंचाया है। सुरजेवाला ने ट्वीट किया, ‘‘56 इंच की ‘हगप्लोमेसी’ (गले मिलने की कूटनीति) और झूला-झुलाने के खेल के बाद भी चीन-पाकिस्तान का जोड़ भारत को ‘लाल-आंख’ दिखा रहा है। एक बार फिर एक विफल मोदी सरकार की विफल विदेश नीति उजागर हुई।

Quote

भाजपा ने राहुल-प्रियंका पर साधा निशाना

नई दिल्ली : भाजपा ने बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा पर जमीन सौदे से जुड़े कथित घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया और दावा किया कि विपक्षी पार्टी ने भ्रष्टाचार को संस्थागत रूप देने का काम किया है जो अब पारिवारिक भ्रष्टाचार को परिभाषित करता है।

मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हए केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा नेता स्मृति ईरानी ने संवाददाताओं से कहा कि राबर्ट वाड्रा विवादास्पद जमीन सौदे के संबंध में महज मुखौटा हैं और उनके साले राहुल गांधी असली चेहरा हैं। वहीं, इन आरोपों को खारिज करते हुए कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि हार को भांपते हुए, प्रधानमंत्री और उनके चहेते पूरी तरह से आधारहीन और फर्जी आरोप लगा रहे हैं। स्मृति ईरानी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस देश में भ्रष्टाचार की जननी रही है। अब तक यह माना जा रहा था कि भ्रष्टाचार के मामले में आर्म्स डीलर संजय भंडारी के संबंध केवल रॉबर्ट वाड्रा से ही थे, लेकिन अब देश की जानकारी में यह भी आ गया है कि ये संबंध रॉबर्ट वाड्रा के साले साहब राहुल गांधी तक भी पहुंचते हैं।

उन्होंने दावा किया, संप्रग सरकार के दौरान पेट्रोलियम और रक्षा सौदों की जांच में पैसों का लेन-देन न केवल रॉबर्ट वाड्रा तक पहुंचा, बल्कि अब देश यह भी जान गया है कि जीजा जी (राबर्ट वाड्रा) के साथ साले जी (राहुल गांधी) भी इस फैमिली पैकेज भ्रष्टाचार में संलिप्त हैं। केंद्रीय मंत्री ने जोर दिया कि 70 सालों में संस्थागत भ्रष्टाचार कांग्रेस की देन रहा है और पिछले 24 घंटों में समाचार माध्यमों से सामने आये तथ्य दर्शाते हैं कि कैसे गांधी-वाड्रा परिवार ने पारिवारिक भ्रष्टाचार को परिभाषित किया है। उन्होंने कहा कि नये खुलासों से देश की जनता अब समझने लगी है कि रक्षा सौदों में राहुल गांधी विशेष रुचि क्यों ले रहे हैं? रक्षा सौदों में राहुल गांधी की विशेष रुचि महज राजनीति नहीं, बल्कि आर्थिक और पारिवारिक भी है स्मृति ईरानी ने कहा कि पूर्ववर्ती संप्रग सरकार में रक्षा से संबंधित सौदे और पेट्रोलियम संबंधित सौदे में संजय भंडारी और सीसी थंपी के तार जुड़े हैं।

भाजपा नेता ने आरोप लगाया कि भ्रष्टाचार में जीजा-साले की संजय भंडारी, सीसी थंपी और एचएल पाहवा के साथ क्या मिलीभगत है, इस पर अब राहुल गांधी को देश की जनता को जवाब देना होगा। उन्होंने दावा किया कि प्रवर्तन निदेशालय द्वारा एचएल पाहवा के यहां तलाशी के दौरान जब्त दस्तावेज से पता चलता है कि राहुल गांधी ने पाहवा से हरियाणा में औने-पौने दाम में कई एकड़ जमीन खरीदी थी। उन्होंने आरोप लगाया कि एचएल पाहवा के साथ जमीन की खरीद-फरोख्त में श्रीमती वाड्रा से संबंधित कागजात भी पाये गये हैं। ईरानी ने आरोप लगाया कि सीसी थंपी की रॉबर्ट वाड्रा और विवादित आर्म्स डीलर संजय भंडारी से मित्रता रही है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को अब देश की जनता को पाहवा से संबंधों के बारे में बताना होगा। केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े की विवादित टिप्पणी से संबंधित एक सवाल को वह हालांकि टाल गयीं।

Quote

राहुल गांधी की चौकीदार चोर है के नारे से नाराज चौकीदार यूनियन

मुबंईः लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही सभी राजनीतिक दलों ने चुनाव प्रचार की गति बढ़ा दी है। सत्ता और विपक्ष के नेता एक दूसरे पर जमकर हमला बोल रहे हैं। इसी कड़ी में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को निशाना बनाने के लिए उनपर कटाक्ष करते हुए ‘चौकीदार चोर है’ का नारा का इस्तेमाल किया। हालांकि वो लगभग अपनी हर रैली में इसका जिक्र करते हैं। लेकिन इस बार उनके इस कटाक्ष से सुरक्षा चौकीदार संघ नाराज हो गया। उन्होंने मुंबई पुलिस से कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ मामला दर्ज करने को कहा है।

चौकीदार चोर है के नारे से नाराज चौकीदार यूनियन
पुलिस ने यह जानकारी देते हुए कहा कि चौकीदार संघ ने राहुल गांधी के खिलाफ केस दर्ज करने को कहा है। संघ का दावा है कि इस महीने के शुरुआत में राहुल गांधी ने (एमएमआरडीए) मैदान में आयोजित एक चुनावी रैली में ‘चौकीदार चोर है’ के नारे लगाए। यूनियन के अध्यक्ष संदीप घुगे ने कहा कि पुलिस को राहुल के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज करनी चाहिए ताकि सुरक्षा गार्डों को अपमानित करने वाले इस तरह के नारों पर रोक लगे।

मोदी के खिलाफ राहुल अक्सर देते है चौकीदार चोर है’ का नारा
राहुल गांधी पिछले कुछ महीनों ने लगातार राहुल गांधी को राफेल डील पर घेर रहे हैं। उन्होंने संसद से सड़क तक इस मुद्दे को उठाया है। वो पीएम मोदी को इस डील में सीधे तौर पर घसीटकर कहते हैं कि उनके नियमों के मुताबिक ये डील फ्रांस सरकार के साथ हुई।

राफेल सौदे में अनियमितता और पक्षपात का आरोप लगाते हुए राहुल पीएम मोदी के लिए बार-बार ‘ चौकीदार चोर है ‘ का नारा लगाते हैं। हालांकि मोदी सरकार और भाजपा उनके इस दावे को खारिज करते हैं। वो सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए कहते हैं कि इस मामले में सरकार को क्लीन चिट मिल गई है और कांग्रेस और राहुल राजनीति से प्रेरित होकर ये आरोप लगा रहे हैं। वैसे राहुल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राफेल लड़ाकू विमान घोटाले के मुख्य आरोपी कहते है। राहुल का मानना है कि उनके कहने पर ही डील में बदलाव किए और इसका ऑफसेट कॉन्ट्रेक्ट अनिल अंबानी को दिलाया। इसलिए राहुल अक्सर मोदी को निशाना बनाने के दौरान ‘चौकीदार चोर है’ का नारा दोहराते रहते हैं।

Quote

साले साहब बताएं रक्षा सौदे में उनकी इतनी रुची क्यों : स्मृति ईरानी

नई दिल्ली : भाजपा की ओर से रॉबर्ट वाड्रा और कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाये गये हैं। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा है कि समाचार सूत्रों के माध्यम से जानकारी मिली है कि एचएल पाहवा नाम के एक शख्‍स के यहां ईडी की रेड में उसके पास से राहुल गांधी के साथ लेनदेन के दस्तावेज मिले हैं।

उन्होंने आगे कहा कि यह माना गया है कि संस्थागत भ्रष्टाचार कांग्रेस की एक देन रही है। 24 घंटे में समाचार माध्यम से कई बातें सामने आईं लेकिन एक और बाते सामने आईं है कि एच एल पावा नाम के एक शख्स जिनके यहां राहुल गांधी से संबंधित कुछ दस्तावेज सामने आये। इसके अनुसार हरियाणा में जमीन खरीदी की गयी है। इस रिपोर्ट में श्रीमती वाड्रा का भी जिक्र है।

ईरानी ने कहा कि जमीन की खरीददारी से संबंधित इन दस्तावेजों से ये बात सामने आई कि एच एल पाहवा के साथ राहुल गांधी के आर्थिक संबंध हैं।

आगे उन्होंने कहा कि कल जो दस्तावेज पब्लिक के सामने आए उससे साफ है कि यूपीए के दौर में एक पेट्रोलियम और रक्षा सौदे की जांच में संजय भंडारी और राहुल गांधी के तार जुड़े हुए हैं। जमीन के सौदे से सामने यह भी आया कि यह मामला रॉबर्ट वाड्रा से भी जुड़ा हुआ है।

ईरानी ने कहा कि रॉबर्ट वाड्रा के पीछे राहुल गांधी छिप रहे हैं अब, साले साहब जनता को खुद बतायें कि रक्षा सौदे में उनकी इतनी रुची क्यों है ?, वो बताएं कि सुरक्षा को चंद रुपयों के लिए, जमीन के लिए राहुल गांधी ने क्या शहीद करने का प्रयास किया ?

Quote

राहुल का कहना है कि वाड्रा और पीएम मोदी की जांच भी करुंगा

चेन्नई: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा कि आप देश में नकारात्मक और भय का माहौल बना सकते हैं और आर्थिक विकास की उम्मीद कर सकते हैं।यहां स्टैला मैरिस कॉलेज में महिला छात्रों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस देश का मिजाज बदलेगी और लोगों को खुशहाल और सशक्त बनाएगी।

जब एक छात्र ने प्रवर्तन निदेशालय द्वारा अपने बहनोई रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के मामलों की जांच के बारे में पूछा, तो श्री गांधी ने कहा कि कानून को हर किसी पर लागू होना चाहिए और चुनिंदा रूप से लागू नहीं किया जाना चाहिए।

“मैं यह कहने वाला पहला व्यक्ति बनूंगा … रॉबर्ट वाड्रा की जांच करूंगा, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी जांच करूंगा।” छात्रों के साथ अपनी अनौपचारिक बातचीत में, उन्होंने राफेल सौदे के मुद्दे को भी उठाया और विमान के मूल्य निर्धारण और प्रक्रिया के बारे में अपने आरोपों को दोहराया।

श्री गांधी ने कहा कि कांग्रेस सत्ता में आने पर महिलाओं के आरक्षण बिल को पारित कर देगी।“नेतृत्व की स्थिति में पर्याप्त महिलाओं को नहीं देखते हैं। आप भारत में महिलाओं को तब तक सत्ता में नहीं रख सकती हैं जब तक उनके प्रति रवैया नहीं बदलता है, ”उन्होंने भीड़ को कहा।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि उन्होंने अपनी मां सोनिया गांधी से विनम्रता और प्रेम का पाठ सीखा है।उन्होंने सभा से पूछा, “क्या आपको डेमनेटिसटन पसंद है?” जब दर्शकों ने जवाब दिया, “नहीं”, तो उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि क्षति डेनेटिसटन ने बहुत स्पष्ट किया। पीएम को आपकी सलाह लेनी चाहिए थी। ”

गांधी, जिन्होंने छात्रों को उन्हें चुनौती देने और “असहज बनाने” के लिए कहा, ने यह भी सवाल किया कि क्या प्रधानमंत्री बड़े दर्शकों में खड़े हो सकते हैं और लोगों के सवालों का जवाब दे सकते हैं।

Quote

राहुल गांधी ने कहा कि मसूद अजहर को कांग्रेस ने पकड़ा और भाजपा ने पाकिस्‍तान में छोड़ा

अहमदाबाद : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बेरोजगारी, किसानों की समस्या, नोटबंदी, जीएसटी और आतंकी मसूद अजहर की वर्षों पहले हुई रिहाई के मुद्दों को लेकर मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और दावा किया कि इस लोकसभा चुनाव में सच की जीत होगी और मोदी एवं नफरत की हार होगी।

कांग्रेस की एक जनसभा में गांधी ने यह भी कहा कि एक तरफ हर जगह नफरत फैलाई जा रही है और लोगों को बांटा जा रहा है तथा दूसरी तरफ यह सरकार 15 सबसे अमीर लोगों को फायदा पहुंचा रही है। उन्होंने कहा, एक तरफ नफरत है यानी गोडसे है। दूसरी तरफ प्यार है यानी महात्मा गांधी और गुजरात का इतिहास है। जीत महात्मा गांधी की होगी।

गांधी ने कहा, पुलवामा में मसूद अजहर ने हमला किया. मैं नरेंद्र मोदी जी से पूछना चाहता हूं कि क्या भाजपा की सरकार और वाजपेयी की सरकार मसूद अजहर को कंधार नहीं पहुंचाया। अजीत डोभाल उसे लेकर गये थे। उन्होंने दावा किया कि जिस दिन पाकिस्तान के साथ तनाव था उसी दिन नरेंद्र मोदी ने अपने मित्र को पांच हवाई अड्डे बेच दिये।

कांग्रेस अध्यक्ष ने दावा किया, इस चुनाव में सच्चाई की जीत होने वाली है और नरेंद्र मोदी और नफरत की हार होने वाली है। उन्होंने कहा, कुछ शक्तियां इस देश को कमजोर करने में लगी हैं। इतिहास में पहली बार चार न्यायाधीश संवाददाता सम्मेलन कर कहते हैं कि उन्हें काम नहीं दिया जा रहा है। वे न्यायाधीश लोया का नाम लेते हैं।

गांधी ने आरोप लगाया, देश की हर संस्था पर आक्रमण किया जा रहा है। लोगों को बांटा जा रहा है, नफरत फैलाई जा रही है। असली मुद्दे कई हैं। सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी है। आज अलग-अलग प्रदेशों में युवा रोजगार के लिए भटक रहा है। उन्होंने कहा, नरेंद्र मोदी 15 सबसे अमीर लोगों के साढ़े तीन लाख करोड़ रुपये का कर्ज माफ करते हैं, लेकिन किसानों का एक रुपये कर्ज माफ नहीं करते हैं। फसल बीमा योजना का फायदा भी उन्ही 15 लोगों की कंपनियों के पास चला जाता है।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में हमने 10 दिनों के भीतर कर्जमाफी की बात की थी। हमने सरकार बनने के दो दिनों के अंदर कर्ज माफ कर दिया। दुख होता है कि गुजरात में किसानों का कर्ज माफ नहीं कर पाये। उन्होंने कहा, नरेंद्र मोदी जी ने बिना किसी से पूछे नोटबंदी की।

गुजरात के छोटे दुकानदार जो रीढ़ की हड्डी है उसे एक दिन में तोड़ दिया. करोड़ों लोगों को बेरोजगार किया। वह कहते हैं कि कालेधन के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा हूं। मैं पूछना चाहता हूं कि क्या आपने बैंकों के बाहर लगी लाइन में नीरव मोदी, मेहुल चोकसी, अनिल अंबानी या किसी कालेधन वाले को देखा।

गांधी ने कहा, गब्बर सिंह टैक्स लागू कर दिया। गुजरात में अब तक छोटे दुकानदारों को जीएसटी समझ नहीं आया है। हमारी सरकार बनने जा रही है। हम सरकार बनने के बाद जीएसटी में सुधार कर एक स्लैब वाला जीएसटी दे देंगे। उन्होंने आरोप लगाया, मोदी जी यह नहीं बताते कि उन्होंने बेरोजगार युवाओं के लिए कुछ नहीं किया, किसानों के लिए कुछ नहीं किया।

2014 के चुनाव में उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री नहीं बनाओ, चौकीदार बनाओ। अब जिससे पूछिए कि चौकीदार क्या तो जवाब मिलता है कि चोर है। कांग्रेस अध्यक्ष ने राफेल का मुद्दा उठाते हुए दावा किया, मोदी जी हर राज्य में जाकर बोलते हैं कि मैं देशभक्त हूं। वायुसेना की प्रशंसा करते हैं, लेकिन वह यह नहीं बताते कि उसी वायुसेना से 30 हजार करोड़ रुपये चोरी करके अनिल अंबानी की जेब में डाला है।
उन्होंने कहा, जिस मिराज ने पाकिस्तान में बम गिराए उसे एचएएल ने बनाया था। उसी एचएएल को राफेल विमान को ठेका नहीं दिया गया। यह ठेका अनिल अंबानी को दिया जो कागज का जहाज भी नहीं बन सकता।

Quote

राहुल को झटका,एयरस्ट्राईक के बाद मोदी की लोकप्रियता बढ़ी सर्वे

नई दिल्लीः पुलवामा आतंकी हमले के एवज में की गई एयर स्ट्राइक की कार्रवाई के बाद से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता बढ़ गई है वहीं इसके उलट कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी की लोकप्रियता में गिरावट आई है। सीवोटर-आईएएनएस स्टेट ऑफ द नेशन ऑपिनियन पोल के सर्वे में इसके बारे में जानकारी दी गई है। सर्वे के अनुसार 7 मार्च को सर्वे में शामिल होने वाले 51 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे केंद्र सरकार के काम से बहुत संतुष्ट हैं जबकि एक जनवरी को यही संख्या 36 प्रतिशत थी। वहीं 7 मार्च को नेट अप्रूवल रेटिंग में भी जबरदस्त उछाल आया है और यह वर्ष की शुरुआत के 32 प्रतिशत के मुकाबले लगभग दोगुना होकर 62 प्रतिशत तक पहुंच गया है। यह अब तक का मोदी सरकार का सबसे अच्छा प्रदर्शन भी है।

सीवोटर के चुनाव विश्लेषक यशवंत देशमुख ने ट्रेंड के बारे में बताया कि एक जनवरी और सात मार्च के बीच देश में दो महत्वपूर्ण घटनाएं हुईं। पहला केंद्रीय बजट और दूसरा पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान पर एयरस्ट्राइक की घटना।

उन्होंने कहा कि बजट के बाद हमने देखा कि नेट अप्रूवल रेटिंग में थोड़ी बढ़ोतरी हुई है। इसलिए इस निष्कर्ष पर पहुंचा जा सकता है कि बजट से एनडीए सरकार के लिए पर्याप्त समर्थन नहीं मिला लेकिन लोकसभा चुनाव से पहले पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद ट्रेंड में निर्णायक बढ़ोतरी और बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद इसमें जबरदस्त बढ़ोतरी देखी गई।

राहुल को 23 प्रतिशत की रेटिंग
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने वर्ष की शुरुआत 23 प्रतिशत के अप्रूवल रेटिंग के साथ की थी, लेकिन पुलवामा आतंकी हमले और बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद राहुल की अप्रूवल रेटिंग गिरकर 8 प्रतिशत तक पहुंच गई है। अब जब लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है और सभी दल अपने प्रचार में जुट चुके हैं तो चुनाव प्रचार शुरू होने के बाद रेटिंग बदलने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता।

Quote

निशाना साधकर बुरे फंसे राहुल गांधी!

नई दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा कंधार विमान अपहरण के दौरान अजीत डोभाल के आतंकी मसूद अजहर को छोड़ने अफगानिस्तान जाने का बयान उनपर उल्टा पड़ता नजर आ रहा है। इस संबंध में अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने आज एक खबर प्रकाशित की है जिसके अनुसार रक्षा प्रतिष्ठान से जुड़े सूत्रों ने राहुल के दावे को खारिज कर दिया है।

यहां चर्चा कर दें कि कांग्रेस अध्‍यक्ष ने कहा था कि 1999 में जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के साथ डोभाल भारतीय एयरलाइंस के अपहृत विमान में बंधक बनाये गये यात्रियों को छुड़ाने के लिए कंधार पहुंचे थे। अखबार के अनुसार इस संबंध में रक्षा प्रतिष्ठान के एक वरिष्ठ सूत्र ने बताया है कि भारतीय एयरलाइन (IC-814) को आतंकियों ने अपने कब्जे में ले लिया था। इस विमान में 161 यात्री थे। अपहृत विमान में बंधक बनाये गये यात्रियों को रिहा कराने के लिए आतंकी मसूद को कंधार ले जा रहे विमान में डोभाल नहीं थे।

सूत्रों ने कहा है कि डोभाल उस वक्त आईबी में अडिशनल डायरेक्टर के पद पर थे। मसूद को रिहा करने से पहले पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से नियंत्रित हो रहे अपहरणकर्ताओं और तालिबान से बातीचत के लिए डोभाल कंधार गये थे। तत्कालीन गृह मंत्री लाल कृष्ण आडवाणी और तत्कालीन रॉ चीफ ए एस दुलत ने अपनी किताब ‘माई कंट्री, माई लाइफ ऐंड कश्मीर: द वाजपेयी इयर्स ‘ में भी इस बात का उल्लेख किया है।

कंधार में जिस वक्त विमान का अपहरण किया गया था उस वक्त तत्कालीन विदेश मंत्री जसवंत सिंह मसूद और अन्य दो आतंकियों उमर शेख और मुस्ताक जरगर के साथ कंधार गये थे। सूत्रों के हवाले से अखबार ने लिखा है कि मसूद अजहर को रिहा करने का निर्णय वाजपेयी सरकार ने किया था। सरकार ने विमान में मौजूद 161 भारतीयों को रिहा कराने का फैसला किया था क्योंकि आतंकियों ने धमकी दी थी कि यदि उनकी मांगें नहीं मानी गयीं तो वे बंधक बनाये गये यात्रियों को मार देंगे। यह फैसला सरकार ने लिया था। अब यह सही था या गलत यह मुद्दा बन सकता है , लेकिन इसका आरोप किसी अधिकारी पर नहीं लगाया जा सकता है।

अमित शाह ने कहा है कि राहुल गांधी को विपक्षी गठबंधन के नेता के नाम की घोषणा करनी चाहिए

जयपूर : विपक्षी गठबंधन के नेता के नाम की घोषणा करने के लिए कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी से पूछते हुए, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को कहा कि महागठबंधन केवल “मोदी हतो” के नारे पर आगे बढ़ रहा था।

पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले में 40 कार्यकर्ताओं की मौत के बाद जयपुर में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार जवानों के बलिदान को व्यर्थ नहीं जाने देगी।

आतंकवाद के खिलाफ हमारी जीरो टॉलरेंस की नीति है, ”श्री शाह ने जयपुर और सीकर के भाजपा कार्यकर्ताओं के शक्ति केंद्र सम्मेलन में कहा।

श्री शाह ने कहा कि भाजपा हार या जीत से घबराई नहीं है और केवल लोगों की सेवा करने के लिए राजनीति में है।

2019 के आम चुनाव भाजपा के साथ-साथ भारत के लिए भी महत्वपूर्ण हैं, श्री शाह ने कहा।