रिश्वतखोर NRHM इंजीनियर के घर लोकायुक्त की रेड, सोने की ईंट समेत मिली करोड़ों की प्रॉपर्टी :

सिवनी जिला अस्पताल में 40 लाख रुपये के मेंटेनेंस बिल को पास करने के एवज में रिश्वत (Bribe) लेने वाले नेशनल रूरल हेल्थ मिशन (NRHM) के इंजीनियर ऋषभ जैन के घर से जबलपुर लोकायुक्त (Jabalpur Lokayukta) की टीम को सोने की ईंट, नगदी और प्रॉपर्टी के कई दस्तावेज मिले हैं. यही नहीं, लोकायुक्त टीम अभी और दस्‍तावेज खंगाल रही है.

भोपाल –  ठेकेदार से रंगे हाथों रिश्वत (Bribe) लेते गिरफ्तार हुए नेशनल रूरल हेल्थ मिशन (NRHM) के इंजीनियर ऋषभ जैन पर जबलपुर लोकायुक्त (Jabalpur Lokayukta) ने शिकंजा कस दिया है. जबलपुर लोकायुक्त की टीम ने भोपाल टीम के सहयोग से जब उसके दो स्थानों पर रेड डाली तो वहां से सोने की ईंट, नगदी और प्रॉपर्टी के कई दस्तावेज मिले हैं. वहीं, रिश्वत के मामले को लेकर लोकायुक्त की छानबीन लगातार जारी है.

जबलपुर लोकायुक्त की टीम ने भोपाल के हबीबगंज स्टेशन पर तीन लाख रुपये की रिश्वत लेते एग्जीक्यूटिव इंजीनियर ऋषभ जैन को पकड़ा था. इसके बाद उनके भोपाल के चूना भट्‌टी स्थित बंगले और नेहरू नगर स्थित जैन के घर पर रेड डाली. इस कार्रवाई में टीम को करीब डेढ़ किलो सोने की ईंट और 80 हजार रुपये से ज्यादा का कैश मिला. टीम को घर से प्रॉपर्टी के कई दस्तावेज भी मिले हैं.

ये है पूरा मामला

सिवनी जिला अस्पताल में भवन मरम्मत का कार्य करने वाले जबलपुर निवासी ठेकेदार चंद्रभान विश्वकर्मा से बिल भुगतान के एवज में जैन ने तीन लाख की रिश्वत मांगी थी. रिश्वत लेने के लिए जैन ने चंद्रभान को भोपाल बुलाया था. लोकायुक्त टीम ने रिश्वत में दो लाख रुपये नकद और एक लाख का चेक लेते हुए जैन को रंगे हाथों पकड़ लिया. जबलपुर लोकायुक्त ने हबीबगंज स्टेशन के बाहर जैन पर कार्रवाई की. इसके बाद टीम उन्हें टीटी नगर स्थित पीडब्ल्यूडी के गेस्ट हाउस लाई, यहां पूछताछ में ऋषभ जैन ने उनके चूनाभट्‌टी और नेहरू नगर में एक-एक मकान जानकारी दी.

बिल पास कराने के लिए मांगी थी  इंजीनियर ऋषभ जैन ने रिश्वत

नेशनल रूरल हेल्थ मिशन में एग्जीक्यूटिव इंजीनियर के पद पर ऋषभ जैन 2010 से भोपाल में पदस्थ थे. उन्हें सिवनी जिला अस्पताल का प्रभारी बनाया गया है. उन्होंने बिल पास करने के एवज में ठेकेदार चंद्रभान विश्वकर्मा से रिश्वत मांगी थी. जैन ने सिवनी जिला अस्पताल में 40 लाख रुपये के मेंटेनेंस बिल को पास करने के एवज में 10 फीसदी की घूस मांगी थी. बता दें कि जैने ने पिछले एक साल से 5 लाख रुपये का आखिरी बिल अटका कर रखा था

प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत गरीब हितग्राहियों से रुपये लेने की शिकायत के बाद जांच शुरू :

सिवनी – जनपद पंचायत केवलारी की पांडिया छपारा ग्राम पंचायत में रोजगार सहायक व वर्तमान प्रभारी सचिव ललित द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत गरीब हितग्राहियों से रुपये लेने की शिकायत के बाद जांच शुरू हो गई।

आवास योजना का लाभ दिलाने के लिए सचिव द्वारा रुपये मांगने की शिकायत के बाद जनपद पंचायत सीईओ सुमन खातरकर ने जांच दल गठित किया। इसमें बीडी डोंगरे खंड पंचायत अधिकारी, आरएस एड़पाचे पंचायत समंवयक, अमित वरकड़े उपयंत्री व टोपेश्वर ऐड़े जीआरएस ग्राम पंचायत दोरेंदा द्वारा जांच की गई।

इस जांच मे लगभग 50-60 हितग्राहियों को बुलाया गया व लगभग 22 लोगों को लिखित बयान लिया गया। इसमें जिन हितग्राहियों ने रुपये लिए हैं, उन्होंने बैखौफ अपना बयान दिया, लेकिन एक हितग्राही यशवंत ने दबाव में अपना बयान बदल दिया। बेला बाई ब्रम्हे ने बताया की हमसे सचिव ने 8000 रुपये मांगा था, हमने 4000 रुपये दिए हैं। वहीं यादव कश्यप ने बताया कि मुझसे 4000 रुपये मांगा गया था, मैंने 2000 रुपये दिया था, लेकिन जैसे ही उक्त मामला उठाया गया ललित द्वारा घर आकर 2000 रुपये वापिस कर दिया गया। अन्य हितग्राहियों ने अपना-अपना बयान दिया।

इस संदर्भ में सरपंच इंद्रराज वरकड़े ने कहा कि मुझे बिना सूचना दिए जांच दल ने कैसे जांच कर लिया।

इनका कहना है। हमें जांच का आदेश जनपद पंचायत सीईओ ने दिया था। इस आधार पर हमनें जांच किया है, आगे की कार्रवाई सीईओ करेंगी।

पीडी डोंगरे, खंड पंचायत अधिकारी, केवलारी

पंचायत मे जांच होने वाली थी, लेकिन अधिकारियों द्वारा मुझे अवगत नहीं करया गया कि जांच दल कब आने वाला है। मैं अपने निजी कार्य से बाहर था। मेरी अनुपस्थिति में उक्त जांच हो गई।

बालाघाट में लाल आतंक की दस्तक, मुखबिरी के शक में घर से खींचकर युवक की हत्या :

बालाघाट – बालाघाट (Balaghat) जिले में लाल आतंक ने फिर अपनी मौजूदगी दर्ज करा दी है. इस बार नक्सलियों (naxalites) ने पुलिस मुखबिरी के शक में एक युवक की हत्या (Murder) कर दी. वो शव के पास एक पर्चा भी छोड़ गए हैं जिसमें जनता को खबरदार कर गए हैं.

बालाघाट जिले के ब्रम्हनी गांव में भागचंद आर्मो की मंगलवार रात गोली मारकर हत्या कर दी गयी. एक दर्जन से ज्यादा सशस्त्र नक्सली गांव में आ धमके और भागचंद के घर में घुसकर उसे घसीटते हुए बाहर ले आए. भागचंद उस वक्त खाना खा रहा था. नक्सली उसे अपने साथ जंगल ले गये और उसकी गोली मारकर हत्या कर दी, घटना की सूचना सुबह परिवार ने बिठली चौकी में दी. नक्सलियों ने भागचंद को पुलिस मुखबिर बताते हुए उसकी लाश के पास एक पत्र भी छोड़ा है.

शव के पास पत्र

नक्सलियों ने युवक की लाश के पास पत्र छोड़ा है. उसमें तांडा-मलाजखंड एरिया कमेटी का नाम है. साथ ही आगे लिखा है-पुलिस मुखबिर खबरदार हों. जनता से गद्दारी करनेवाले जनद्रोही ग्राम बम्हनी निवासी भागचंद को पुलिस मुखबिरी में मौत की सजा दी जाती है.

फिर दी दस्तक

कई दशकों से बालाघाट जिला नक्सली आतंक से लड़ रहा है. कुछ साल में बालाघाट पुलिस ने नक्सलियों के खिलाफ कई बड़ी कार्रवाई कीं. इस वजह से नक्सली कोई बड़ी घटना को अंजाम नहीं दे पा रहे थे. लेकिन समय-समय पर निर्माण कार्यो में लगी मशीनरी और तेंदुपत्ता फड़ों में आगजनी कर अपनी मौजूदगी का अहसास कराते रहे.

खाने की थाली से उठा ले गए

मृतक भागचंद की पत्नी ने बताया कि रात में जब वह खाना खा रहे थे, उसी दौरान सशस्त्र नक्सली घर में घुस आए. वो कुछ बात करने का कहकर भागचंद को अपने साथ ले गये. उनमें एक महिला नक्सली भी थी. पत्नी का कहना है भागचंद खेती मजदूरी के साथ ही कभी-कभी ऑटो चलाता था.

अवैध रूप से कंटेनर में भरकर ले जा रहे थे गाय, 2 कंटेनर जब्त :

सिवनी – जिले में अवैध रूप से गो वंश के परिवहन और क्रय विक्रय पर रोक लगाने एसपी ने समय समय पर जिले के सभी थाना प्रभारियों को जांच करने के निर्देश दिए हैं। इसी के तहत कुरई पुलिस ने दो कंटेनर वाहन जब्त किए है। इनमें अवैध रूप से मवेशियों को भर कर ले जाया जा रहा था।

कुरई पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि राजस्थान के 2 कंटेनर में गाय और बैल को नागपुर हैदराबाद तरफ कत्लखाने लेजाया जा रहा है। इस सूचना के बाद कुरई थाना प्रभारी मनोज गुप्ता के नेतृत्व में टीम गठित कर संदिग्ध वाहनों को पकड़ने के लिए बल को सिवील ड्रेस में लगाया गया। उन्हें बाइक से उक्त दोनों वाहनों को शीलादेही हाइवे मार्ग से पीछा करने के निर्देश दिए गए। जब पुलिस टीम द्वारा उक्त दोनों वाहनों का पीछा किया जा रहा था तब वाहन चालकों को संदेह होने पर कि पुलिस द्वारा उनका पीछा किया जा रहा है, तो दोनों वाहन चालकों ने अपने वाहन को तेज गति से भगाया। पीछा कर रही पुलिस द्वारा सूचना दिए जाने पर मेटेवानी हाइवे मार्ग को वाहनों की कतार लगाकर जाम किया गया, जिससे कि उक्त दोनों वाहन भाग न पाए। जब दोनों वाहन मेटेवानी के पास आए तो उन्होंने अपने आप को पुलिस से घिरा देखकर वाहन से उतरकर भागने का प्रयास किया जिसे थाना कुरई के पुलिस स्टाफ ने घेराबंदी कर पकड़ा। उक्त दोनों पकड़े गए वाहन क्रमांक आरजे 14-ज्ीएच-8434 व आरजे-14-जीई-9637 को रोक कर तलाशी लेने पर दोनों वाहनों में अवैध रूप से गोवंश को ठूंस ठूंस कर भरा पाया गया। दोनों वाहनों 69 नग गोवंश को क्रूरता पूर्वक भरा गया था। सभी मवेशियों को को सुरक्षा पूर्वक रेड्डी के गोशाला में रखा गया है। वहीं ड्रायवर राजसिंह व हुसैन पुत्र रहीम खां को गिरफ्तार किया गया। दोनों आरोपितों के विरूद्व धारा 4,6, 9 मप्र गो-वंश वध प्रतिषेध अधिनिय, 10 कृषि उपयोगी संरक्षण अधिनियम, 11 पशुओं के प्रति क्रूरता का निवारण अधिनियम, 6,7 मप्र कृषक पशु परिरक्षण अधिनियम का मामला दर्ज कर विवेचना में लिया गया। इस कार्रवाई में थाना प्रभारी निरीक्षक मनोज गुप्ता, एसआई दामिनी हेडाउ, एसआई रोहित ककोड़िया, एएसआई भूपेन्द्र सिंह नागेश्वर, एएसआई रामकिशोर विश्वकर्मा, आरक्षक चंचलेश नरवरे, आरक्षक कमलेश राहंगडाले, आरक्षक पंकज भलावी, आरक्षक महेंद्र परतेती, आरक्षक ओमकार परतेती, आरक्षक अरूण पटेल, आरक्षक दिलीप कठौते का योगदान रहा।

खेल का मैदान बन गया शराबियों का बार, मैदान से सुबह खिलाड़ी हटाते शराब की बोतलें :

सिवनी – शहर के वीरान इलाके, स्कूलों के मैदान यहां तक कि पॉलीटेक्निक कॉलेज का खेल मैदान भी खुले बार में तब्दील हो चुका है। इस मैदान में सुबह और शाम के समय बड़ी तादाद में लोग सैर करने और खेलने के लिए आते हैं। मैदान के चारों ओर शराब की खाली बोतलें, फूटे कांच, बीड़ी-सिगरेट के खाली पैकेट, डिस्पोजेबल ग्लास, पानी के खाली पाऊच न जाने कितनी तरह की चीजें यहां फैली पड़ी रहती हैं। रात गहराते ही इस पॉलीटेक्निक मैदान पर शराब के शौकीनों की भीड़ जुटने लगती है। शराब के शौकीनों द्वारा मैदान में जगह-जगह गोला बनाकर, कहीं दो या चार पहिया वाहन में तो कहीं खड़े होकर ही मदिरा पान किया जाता है। रोज सुबह यहां खेलने आने वाले सदभाव ग्रुप के सदस्यों द्वारा मैदान पर पहुंचकर सबसे पहले मैदान में फैले कांच के टुकड़े और अन्य कचरे को बीना जाता है फिर उसके बाद खेल आरंभ किया जाता है। सदभाव के सदस्यों ने बताया कि पॉलीटेक्निक मैदान की ख्याती इस कदर फैल चुकी है कि सुबह खाली बोतलें बीनने वाले भी यहां पहुंचने लगे हैं। मैदान के सामने ही पॉलीटेक्निक कॉलेज प्रशासन के प्रोफेसर्स यहां तक कि प्राचार्य का निवास भी है। यहां निजि सुरक्षा एजेंसी का एक चौकीदार भी प्राचार्य निवास के सामने बैठकर रात भर चौकीदारी करते रहते हैं। इसके बाद भी लोगों द्वारा इस तरह की हरकतों को अंजाम दिया जाता है। खिलाड़ियों और पैदल सैर करने वालों ने जिला प्रशासन से अपेक्षा व्यक्त की है कि पॉलीटेक्निक मैदान में होने वाली अनैतिक गतिविधियों पर तत्काल रोक लगाई जाए।

बालाघाट में मिले 5 करोड़ से ज्यादा के नकली नोट, 8 गिरफ्तार :

बालाघाट – मध्य प्रदेश में बड़े स्तर पर नकली नोट खपाए जा रहे हैं. प्रदेश की बालाघाट पुलिस को इसमें बड़ी सफलता हाथ लगी है. बालाघाट में नकली नोट की बड़ी खेप पकड़ी गई है. पुलिस ने 8 लोगों को गिरफ्तार किया है. इनके पास से 5 करोड़ से ज्यादा के नकली नोट मिले हैं. इनमें 10 से लेकर 2 हजार रुपए के नोट हैं. यह गिरोह बालाघाट और महाराष्ट्र के गोंदिया में नकली नोट चला रहा था. पकड़े गए आरोपियों में 6 बालाघाट और 2 महाराष्ट्र के गोंदिया के हैं. पुलिस को नक्सली कनेक्शन की भी आशंका है. मध्यप्रदेश में संभवत: पहली बार नकली नोट की इतनी बड़ी खेप पकड़ी गई है.

lockdown में ऑनलाइन क्लास नहीं लगाई, फिर भी बच्चों से ली जा रही पूरी फ़ीस :

सिवनी – जिले के आदिवासी बाहुल्य विकासखंड कुरई में स्थित स्वामी विवेकानंद प्रायमरी स्कूल को पूरे एक साल तक बंद रखने के बाद के बाद भी पूरे साल की फीस लेने से अभिभावकों में आक्रोश व्याप्त है। अभिभावकों ने इसकी शिकायत की है।

अभिभावकों ने शिकायत में बताया है कि स्वामी विवेकानंद प्रायमरी स्कूल में साल भर सभी तरह की शैक्षणिक गतिविधियों को बंद रख शासन के निर्देशानुसार ऑनलाइन पढ़ाई कराए बिना स्कूल के छात्रों से पूरे वर्ष का शैक्षणिक शुल्क वसूली की जा रही है। अभिभावकों ने भी आपत्ति दर्ज कराते हुए इस मामले की शिकायत विकासखंड शिक्षा अधिकारी कुरई से की।

अभिभावकों ने बताया कि उनके बच्चें स्वामी विवेकानंद स्कूल कुरई में अध्ययनरत थे। कोरोना संक्रमण के चलते मार्च 2020 से लॉकडाउन किया गया जिसके बाद से स्कूल पूर्णतह बंद कर दिए गए। बीच में हाई व हायर सेकेंडरी स्कूलों को खोला गया लेकिन प्रायमरी व मिडिल स्कूलों को बंद ही रखा गया। फिर कोरोना की दूसरी लहर अप्रैल से प्रभावी हो गयी। इसके कारण फिर लॉकडाउन लगाया गया। इसके कारण स्कूलों की वार्षिक परीक्षा नहीं हो पायी। प्रदेश सरकार द्वारा कक्षा पहली से आठवीं तक के बच्चों को क्रमोन्निा्‌त प्रदान कर दूसरी कक्षा में प्रवेश देने के निर्देश जारी किए गए। साथ ही लॉकडाउन अवधि के दौरान ऑनलाइन माध्यम से बच्चों की पढ़ाई के लिए भी निर्देशित किया गया था। साथ ही स्कूल संचालकों को फीस के संबंध में भी निर्देश समय-समय पर जारी किए गए।

फीस नहीं तो टीसी नहीं: अभिभावकों ने बताया कि स्वामी विवेकानंद स्कूल में कोरोना काल के दौरान शिक्षकों द्वारा बच्चों को किसी तरह की कोई शैक्षणिक गतिविधियों को नहीं कराया गया, न ही ऑनलाइन माध्यम से ही पढ़ाई करायी गयी। जब शासन द्वारा छात्रों को क्रमोन्निा्‌त प्रदान की गई तो दूसरी कक्षा में प्रवेश पाने के लिए जब छात्र-छात्रा स्कूल से स्थानांतरण प्रमाण पत्र और अंकसूची लेने के लिए जा रहे है तो स्कूल संचालक द्वारा पूरे वर्ष भर का शुल्क 4700 र्स्पये की मांग कर रहा है। शुल्क जमा नहीं करने पर स्थानांतरण प्रमाण पत्र और अंकसूची प्रदान नहीं कर रहा है। जिससे अभिभावकों में आका्‌रेश व्याप्त है। इस दौरान अभिभावकों ने संस्था प्रमुख से मुलाकात कर इस बात में भी आपत्ति दर्ज करायी गई और पूरे वर्ष किसी तरह की शैक्षणिक गतिविधि नहीं होने पर फीस की मांग क्यों करे के सवाल पर संस्था प्रमुख गोल-मोल जबाब देते रहे और पालकों को साफ कह दिया कि जब तक फीस नहीं तब तक टीसी अंकसूची नहीं। इस मामले की शिकायत अभिभावकों ने बीआरसीसी कुरई से की गई।

जांच के हो गए है आदेशः इस संबंध में जब बीआरसीसी कुरई डीएस राहंगडाले से चर्चा की गई तो उन्होने कहां कि अभिभावकों द्वारा शिकायत की गई है। इस मामले के जांच के आदेश कर दिए गए है। कल तक जांच करके प्रतिवेदन तैयार कर आगे की कार्रवाई के लिए एसडीएम को सौंप दिया जाएगा।

ज्वेलर्स की दुकान से दिन-दहाड़े लाखों के हार चुरा ले गए दो चोर :

सिवनी – जिले के आदिवासी बाहुल्य विकासखंड लखनादौन मुख्यालय के हृदय स्थल बाजार चौक वार्ड क्रमांक 8 में स्थिति सोनी ज्वेलर्स की दुकान से बुधवार को दिन-दहाड़े लाखों र्स्पये कीमत के सोने के हार चुराकर दो संदिग्ध व्यक्ति मौके से फरार हो गए। लखनादौन थाने में इस मामले की सूचना के बाद पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। लखनादौन थाना प्रभारी केएस मरावी ने बताया है बाजार चौक स्थित सोनी ज्वेलर्स की दुकान पर सुबह लगभग 11.30 से 12 बजे के बीच एक व्यक्ति पहुंचा और दुकानदार से सोने के हार खरीदने की बात कहते हुए हार दिखाने के लिए कहां। इस पर दुकानदार द्वारा उक्त व्यक्ति को छह अलग-अलग डिजाइन के हार देखने के लिए दिए गए। उक्त व्यक्ति ने हारों को देखने के लिए अपने हाथों में लिया देखते-देखते वह दुकान से बाहर भाग गया। उसे कोई पकड़ पाता उसके पहले ही वह दुकान के बाहर पहले से खड़े बाइक सवार साथी के साथ बाइक में बैठकर हार लेकर मौके से फरार हो गया। घटना की सूचना पीड़ित द्वारा लखनादौन थाने में दी गई। इस पर लखनादौन पुलिस मौके पर पहुंची और अज्ञात आरोपितों के विरूद्ध मामला पंजीबद्ध करके दुकान के सीसीटीवी फोटेज निकलवाए। साथ ही नगर के अन्य स्थानों में लगे सीसीटीवी फोटेज भी पुलिस ने एकत्र किए। बताया जाता है कि उक्त आरोपित दो-तीन दिनों से लखनादौन के बाजार क्षेत्र में स्थित सोने-चांदी की दुकानों के सामने घूमते हुए देखे गए। संभवतह उक्त चोरों द्वारा दुकानों पर नजर रखी जा रही थी, और मौका पाते ही चोरों ने बुधवार को सोनी ज्वेलर्स में धाबा बोलकर सोने के हार चुरा लिए। चोर छह हार लेकर मौके से फरार हुए है जिनकी कीमत लगभग 6 लाख र्स्पये बतायी जा रही है। लखनादौन थाना क्षेत्र में दिन-दहाड़े हुई चोरी की इस घटना ने पुलिस की चाक-चौबध सुरक्षा व्यावस्था की पोल खोलकर रख दी है। अगर दिन और वो भी मुख्य बाजार क्षेत्र में लोगों की जान माल सुरक्षित नहीं है तो फिर रात के दरम्यान तो लोगों की सुरक्षा भगवान भरोसे है।

सिवनी जिले में गांवों में भ्रम, केंद्रों में नहीं वैक्सीन, ठप पड़ा वैक्सीनेशन :

सिवनी – जिले के अधिकांश ग्रामीण क्षेत्रों में जहां कोरोना वैक्सीन को लेकर भ्रम की स्थिति से वैक्सीनेशन का काम प्रभावित हो रहा है वहीं अब वैक्सीनेशन केंद्रों में कोविशील्ड वैक्सीन नहीं होने से जागरूक लोगों को भी वैक्सीन नहीं लग पा रही है। 2 दिनों से को कोविशील्ड वैक्सीन नहीं होने की वजह से पंजीयन कराने व केंद्रों पर ही पंजीयन कराकर वैक्सीन लगवाने के इच्छुक जागरूक लोगों को परेशान होना पड़ रहा है।

को-वैक्सीन की दूसरी डोज ही उपलब्धः जिला टीकाकरण अधिकारी के मुताबिक वर्तमान में सिर्फ को-वैक्सीन ही उपलब्ध है, वह भी दूसरा डोज लगवाने वालों के लिए सुरक्षित रखी गई है। पहले डोज वालों के लिए को-वैक्सीन भी उपलब्ध नहीं है। वहीं कोविशील्ड वैक्सीन संभाग स्तर से नहीं मिल रही है। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉक्टर लोकेश चौहान के मुताबिक जिला प्रशासन व संभाग स्तर पर जानकारी देकर को कोविशील्ड की डिमांड की गई है। संभवत रविवार शाम तक वैक्सीन उपलब्ध हो सकती है। उन्होंने बताया कि वैक्सीन जबलपुर में आने के बाद सिवनी से वाहन भेजकर बुलाई जाएगी।

नहीं है वैक्सीन बाद में आनाः मुख्यालय समेत जिले के अन्य वैक्सीनेशन केंद्रों में जागरूक लोग वैक्सीन लगवाने के लिए पहुंच रहे हैं, लेकिन उन्हें केंद्र में मौजूद कर्मचारियों से एक ही जवाब मिल रहा है। शुक्रवार व शनिवार को वैक्सीन लगवाने पहुंचे लोगों को वैक्सीनेशन केंद्र के कर्मचारियों ने कहां की अभी कोविशील्ड वैक्सीन नहीं है, बाद में आकर लगवाना। वैक्सीन लगवाने पहुंचे संतोष रजक, राजेश पाठक, व सोनू यादव सहित अन्य लोगों ने बताया कि वह बड़ी उम्मीद से वैक्सीन लगवाने के लिए पहुंचे थे, लेकिन केंद्रों में वैक्सीन नहीं होने की बात कहकर उन्हें वापस लौटा दिया गया। वैक्सीन कब तक उपलब्ध होगी इसकी भी कोई जानकारी केंद्र के कर्मचारियों ने नहीं दी। केंद्र सरकार ने बीते अप्रैल माह में अवकाश के दिन भी कोविड वैक्सीनेशन जारी रखने के निर्देश दिए थे। वहीं जिला अस्पताल के वैक्सीनेशन केंद्र सहित जिले के किसी भी केंद्र में शुक्रवार व शनिवार को कोविशील्ड वैक्सीन नहीं लगाई गई।

दो दिन करना पड़ सकता है इंतजारः कोविशील्ड वैक्सीन खत्म होने के कारण अब जिले के लागों को वैक्सीन लगवाने के लिए दो दिनों तक इंतजार करना पड़ सकता है। रविवार को भी वैक्सीन नहीं होने की वजह से लोगों को इसका लाभ नही मिल सकेंगा। वहीं सोमवार को भी वैक्सीनेशन किया जाना मुश्किल लग रहा है। वैक्सीन की खेप आने में समय लगने के कारण वैक्सीनेशन का काम प्रभावित हो हुआ है।

लोग बोले देनी थी सूचनाः शुक्रवार के बाद शनिवार को भी बड़ी संख्या में लोग वैक्सीनेशन केंद्र पहुंचे, लेकिन केंद्र में कोविशील्ड वैक्सीन नहीं होने वजह से उन्हें परेशान होकर वापस लौटना पड़ा। वैक्सीन लगवाने पहुंचे लोगों ने बताया कि प्रशासन ने शनिवार को वैक्सीन नहीं लगने की कोई सूचना जारी नहीं की। उन्होंने बताया कि प्रशासन को प्राथमिकता से कोरोना वैक्सीन खत्म होने के कारण शनिवार को वैक्सीनेशन नहीं होने की सूचना दी जानी थी। यदि प्रशासन सूचना देता तो लोगों को वैक्सीनेशन केंद्र आकर परेशान नहीं होना पड़ता। प्रशासन की लापरवाही से कई बुजुर्ग भी वैक्सीनेशन केंद्र पहुंचने के बाद टीका नहीं लगने के कारण परेशान होकर वापस लौट गए।

अब तक दो लाख से ज्यादा को लगा कोविड टीकाः जिले में 16 जनवरी से वैक्सीनेशन प्रारंभ हुआ था। अब तक कुल 2 लाख 3 हजार 76 लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। अब तक जिले में हेल्थकेयर वर्कर व फ्रंटलाइन वर्कर को प्रथम डोज 13579 व 9829 को द्वितीय डोज लगाए जा चुके हैं। इसी तरह 18 से 44 वर्ष के आयु वर्ग वाले लोगों को प्रथम डोज 44709 व द्वितीय डोज 565 लग गए हैं। 45 वर्ष से अधिक उम्र वाले लोगों को प्रथम डोज 114056 व द्वितीय डोज 20338 को लगाए गए हैं। विभागवार जानकारी के अनुसार स्वास्थ्य विभाग शहरी में 250, कलेक्ट्रेट कार्यालय में 305, जिला न्यायालय सिवनी में 210, पुलिस विभाग सिवनी में 587, जिला पंचायत में 313, शिक्षा विभाग में 500, वन विभाग में 302 , नगरपालिका में 704, लोक निर्माण विभाग में 226 तथा बिजली विभाग के अमले को 249 डोज लगाए जा चुके हैं। इसी तरह 99 बैंक कर्मचारी, जिला जेल नगझर में 279, मत्स्य विक्रेताओं को 250, पथ विक्रेताओं को 193, दवा दुकान संचालकों को 235 व वाहन चालकों को 128 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। जिला टीकाकरण अधिकारी ने बताया है कि वैक्सीन के दोनों डोज लेने के बाद ही संक्रमण के प्रति प्रतिरोधक क्षमता बनना प्रारंभ होगी।

इन परिस्थितियों में किया जा सकेगा टीकाकरणः सीएमएचओ ने बताया कि कोविड19 का टीकाकरण इन स्थितियों में किया जा सकता है। ऐसे व्यक्ति कोविड19 से पीड़ित है तो उसके पूर्ण रूप से स्वस्थ्य होने के 3 माह बाद कोविड टीकाकरण किया जा सकता है। इसी तरह कोविड19 पॉजिटिव पेंशेंट जिन्हे कोविड19 संक्रमण के दौरान एंटी सार्स मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज या कंवलसेंट प्लाज्मा दिया गया है। ऐसे मरीजों को भी ठीक होने के 3 माह बाद कोविड टीकाकरण किया जा सकता है। ऐसे व्यक्ति जिन्हे कोविड 19 के प्रथम टीके का डोज लगने के बाद यदि वह कोविड पॉजिटिव हो जाता है तो उसे स्वस्थ्य होने के बाद कोविड का दूसरा टीका 3 माह बाद लेना चाहिए। इसी तरह ऐसे व्यक्ति जिन्हे अन्य गंभीर बीमारियों के कारण अस्पताल में भर्ती होना पड़ा या आईसीयू की सेवाएं लेनी पड़ी ऐसे लोगो को भी अपना टीकाकरण स्वस्थ्य होने के 4 से 8 सप्ताह बाद करवाना चाहिए। ऐसे व्यक्ति जिन्होने कोविड 19 का टीका लगवा लिया है या जो पूर्व में कोविड पॉजिटिव थे लेकिन अब आरटीपीसीआर जांच में निगेटिव पाए गए है, वे 14 दिन बाद अपना रक्तदान कर सकते है। उन्होने बताया कि विशेषज्ञ समिति ने सभी स्तनपान कराने वाली माताओं को भी कोविड 19 टीकाकरण कराने की अनुशंसा की है। किसी भी व्यक्ति को कोविड टीकाकरण कराने से पूर्व रैपिड एंटीजन टेस्ट कराना आवश्यक नही है।

हाईवे पर चलती बाइक में लगी अचानक आग, जानिए युवक ने कैसे बचाई जान :

छपारा –  नगर से लगे राष्ट्रीय राज्य मार्ग में बीती शाम अप्रत्याशित घटना घटी। चलती बाइक में अचानक आग लगने से बहुत ही जल्द बाइक ने आग पकड़ ली, तत्काल बाइक सवार ने कूदकर अपनी जान बचाई।

जबलपुर की जाने वाले फौरलेन बाइपास मार्ग पर रविवार शाम लगभग 6 बजे के आसपास नगर के लालमाटी निवासी वन मंडल में कार्यरत लोकू शिववेदी अपनी बाइक से नगर की ओर आ रहे थे। इसी दौरान बायपास स्थित पैट्रोल पंप के पास अचानक बाइक में आग लग गई। तत्काल उन्होंने बाइक से कूद कर जान बचाई। वहीं देखते ही देखते तेजी से आग ने वाहन को चपेट में ले लिया। छपारा हंड्रेड डायल का घटना की सूचना दी गई। थाना प्रभारी गौरव चाटे के निर्देशन पाकर तुरंत मौके पर पहुंच कर हंड्रेड डायल के पुलिस आरक्षक प्रशांत कुमार, सैनिक श्याम सिंह ठाकुर व हंड्रेड डायल पायलट पहलाद बघेल ने अग्निशमन यंत्र की सहायता से आग बुझाने की कोशिश की, लेकिन तब तक बाइक लगभग पूरा जलकर खाक हो गई।

ट्रांसफर कराने के नाम पर धोखाधड़ी

जिले की आजीविका मिशन की जिला प्रबंधक आरती चौपड़ा के साथ एक अज्ञात व्यक्ति ने ट्रांसफर कराने के नाम पर 25 हजार की धोखाधड़ी कर ली। मामला भोपाल के हबीबगंज थाने में दर्ज हुआ है। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। शिकायत मध्यप्रदेश में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया के ओसडी बीके श्रीवास्तव ने दर्ज कराई है। जानकारी के अनुसार आजीविका मिशन की जिला प्रबंधक आरती चौपड़ा के पास एक व्यक्ति ने फोन कर कहा कि वे मंत्री सिसोदिया का ओएसडी बोल रहा हूं। यदि ट्रांसफर चाहती हैं तो 25 हजार जमा कर दें। बाकी काम होने के बाद शेष राशि जमा कर देना। आरती चौपड़ा ने एक जून को र्स्पये भी संबंधित के खाते में जमा कर दिए लेकिन बाद में तबादला न होने की स्थिति में जब दोबारा फोन लगाया तो फोन बंद बताया। तब आरती ने संबंधित विभाग से जानकारी ली तो पता लगा कि उसके साथ धोखाधड़ी हुई है। इस मामले में हबीबगंज थाना के प्रभारी ने बताया कि संबंधित मोबाइल नंबर धारक और खाते की जानकारी मिल गई है। जल्द ही मामले का खुलासा हो सकता है। फिलहाल अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।