8वीं, 10वीं और 12वीं पास के लिए सेना में नौकरी का मौका, जल्द करें आवेदन

भारतीय सेना ने 8वीं, 10वीं और 12वीं पास अभ्यर्थियों के लिए सिपाही के पदों पर भर्तियों के लिए नोटिफिकेशन जारी किया है. इस भर्ती रैली के लिए आवेदन की प्रक्रिया 15 जुलाई 2021 से जारी है. अभ्यर्थी भर्ती रैली में शामिल होने के लिए सेना की आधिकारिक वेबसाइट joinindianarmy.nic.in के जरिए 25 अगस्त 2021 तक आवेदन कर सकते है.

इस संबंध में सेना ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर नोटिफिकेशन जारी किया है. जारी अधिसूचना के अनुसार सैनिक ट्रेडमैन पद के लिए रैली हिमाचल प्रदेश के पृथ्वी मिलिट्री स्टेशन, एवरीपट्टी रामपुर बुशर, शिमला में 2 मार्च से 14 मार्च 2022 तक संभावित है. वहीं सिपाही डी फार्मा पद के लिए भर्ती रैली का आयोजन 6 नवंबर से 16 नंबर 2021तक कुल्लू/लाहौल स्पीति/मंडी, हिमाचल प्रदेश में किया जाएगा.

इन पदों के लिए होगी भर्ती रैली

सिपाही जनरल ड्यूटी, सिपाही क्लर्क, सिपाही ट्रेड्समैन (8वीं पास), सिपाही ट्रेड्समैन (10वीं पास) और सिपाही (फार्मा) के पदों पर भर्तियों के लिए रैली का आयोजन किया जाएगा.

शैक्षणिक योग्यता

सिपाही (फार्मा) के पदों के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थी के पास किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से डी. फार्मा की डिग्री होनी चाहिए. वहीं सिपाही जनरल ड्यूटी के लिए अभ्यर्थी का 45 फीसदी नंबरों के साथ 10वीं और सिपाही क्लर्क पद  के लिए अभ्यर्थी का 60 फीसदी नंबरों के साथ 12वीं पास होना अनिवार्य हैं. सिपाही ट्रेड्समैन (8वीं पास) के लिए अभ्यर्थी 8वीं पास होना चाहिए.

आयु सीमा

सिपाही जनरल ड्यूटी पद के लिए अभ्यर्थी का डेट ऑफ बर्थ 1 Oct  2000 से 1 Apr 2004 के बीच का होना चाहिए. वहीं सिपाही (फार्मा) पद के लिए अभ्यर्थी का डेट ऑफ बर्थ 1 Oct 1996 से 30 Sep 2002 के बीच का होना चाहिए. अन्य पदों के लिए अभ्यर्थी की जन्म तिथि 1 Oct 1998 से 1 Apr 2004  के बीच होनी चाहिए.

चयन प्रक्रिया

इन पदों के लिए रैली के दौरान अभ्यर्थियों का फिजिकल फिटनेस टेस्ट, फिजिकल मैजरमेंट और मेडिकल टेस्ट किया जाएगा. इन सभी में सफल अभ्यर्थियों को कॉमन प्रवेश परीक्षा के लिए चुना जाएगा. अंतिम चयन कॉमन प्रवेश परीक्षा में सफल घोषित किए गए अभ्यर्थियों का ही किया जाएगा.

महत्वपूर्ण तिथियां

आवेदन शुरु होने की तिथि- 15 जुलाई 2021

आवेदन की अंतिम तिथि- 28 अगस्त 2021

आधिकारिक वेबसाइट – joinindianarmy.nic.in

मुंबई पोर्ट ट्रस्ट में कंप्यूटर ऑपरेटर सहित विभिन्न पदों पर भर्तियां

Mumbai Port Trust Recruitment 2021 – मुंबई पोर्ट ट्रस्ट ने कंप्यूटर ऑपरेटर सहित विभिन्न पदों पर भर्तियों के लिए नोटिफिकेशन जारी किया है. इन पदों के लिए अभ्यर्थी पोर्ट ट्रस्ट की आधिकारिक वेबसाइट mumbaiport.gov.in के जरिए आवेदन कर सकते हैं. जारी नोटिफिकेशन के अनुसार कुल 41 रिक्त पदों पर भर्तियां की जाएगी.

इन रिक्त पदों पर होगी भर्तियां

कंप्यूटर ऑपरेटर और प्रोग्रामिंग असिस्टेंट (COPA) – 30 पद
ग्रेजुएट अपरेंटिस (मैकेनिकल इंजीनियरिंग) – 2 पद
ग्रेजुएट अपरेंटिस (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग) – 3 पद
तकनीशियन अपरेंटिस (मैकेनिकल इंजीनियरिंग) – 3 पद
तकनीशियन अपरेंटिस (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग) – 3 पद

शैक्षणिक योग्यता

कंप्यूटर ऑपरेटर और प्रोग्रामिंग असिस्टेंट के पदों पर आवेदन करने वाले अभ्यर्थी के पास नेशनल काउंसिल ऑफ वोकेशनल ट्रेनिंग द्वारा जारी COPA ट्रेड सर्टिफिकेट होना चाहिए. वहीं अन्य पदों के लिए अभ्यर्थी के पास संबंधित ट्रेड में डिप्लोमा होना चाहिए.

आयु सीमा

इन विभिन्न पदों के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थी की उम्र 14 वर्ष से 18 वर्ष के बीच होनी चाहिए. 

चयन प्रक्रिया

इन पदों पर अभ्यर्थियों का चयन शैक्षणिक योग्यता के आधार पर तैयार की गई मेरिट लिस्ट के अनुसार किया जागा. अभ्यर्थी इस भर्ती से संबंधित अधिक जानकारी के लिए जारी आधिकारिक नोटिफिकेशन को देख सकते हैं.

इन तिथियों का रखें ध्यान

आवेदन शुरू होने की तिथि –  29 जुलाई 2021
आवेदन की अंतिम तिथि – 27 अगस्त 2021
आधिकारिक वेबसाइट – mumbaiport.gov.in

बिजली विभाग में 200 से अधिक पदों पर नौकरियां, जल्द करें आवेदन

नई दिल्ली – मध्य प्रदेश पावर जनरेटिंग कंपनी लिमिटेड ने स्नातक अपरेंटिस सहित विभिन्न पदों पर भर्तियां निकाली हैं. इन पदों के लिए 14 जुलाई 2021 से आवेदन की प्रक्रिया जारी है. आवेदन की अंतिम तिथि 16 अगस्त 2021 हैं. अभ्यर्थी इन पदों के लिए आधिकारिक वेबसाइट mppgcl.mp.gov.in के जरिए आवेदन कर सकते हैं. जारी नोटिफिकेशन के अनुसार कुल 209 रिक्त पदों पर भर्तियां की जाएगी.

रिक्त पदों की संख्या

आईटीआई अपरेंटिस – 190
स्नातक अपरेंटिस – 11
टेक्निकल अपरेंटिस – 8

शैक्षणिक योग्यता

आईटीआई अपरेंटिस के पदों पर आवेदन करने वाले अभ्यर्थी के पास आईटीआई की डिग्री होनी चाहिए.वहीं स्नातक अपरेंटिस के पदों पर आवेदन करने वाले अभ्यर्थी के पास किसी भी मान्यता प्राप्त  विश्वविद्यालय से संबंधित ट्रेड में इंजीनियरिंग की डिग्री होनी चाहिए.

आयु सीमा

इन विभिन्न पदों पर आवेदन करने वाले अभ्यर्थी की उम्र 18 वर्ष से 25 वर्ष के बीच होनी चाहिए. वहीं अधिकतम आयु सीमा में अन्य पिछड़ा वर्ग, एससी व एसटी वर्ग के अभ्यर्थियों को पांच वर्ष की छूट  दी गई है.

चयन प्रक्रिया 

इन पदों पर अभ्यर्थियों का चयन शैक्षणिक योग्यता के आधार पर तैयार की गई मेरिट लिस्ट के अनुसार किया जाएगा.अभ्यर्थी इस भर्ती से संबंधिक अधिक जानकारी के लिए जारी आधिकारिक नोटिफिकेशन को देख सकते हैं.

महत्वपूर्ण तिथियां

आवेदन शुरू होने की  तिथि- 14 जुलाई 2021
आवेदन की अंतिम तिथि- 16 अगस्त  2021
आधिकारिक वेबसाइट –  mppgcl.mp.gov.in

विदेश में पढ़ाई के लिए ये हैं बेस्ट कोर्स, मिलेगी अच्छी जॉब

बाहर जाकर विदेश में पढ़ाई करने की इच्‍छा हर युवा का होता है, लेकिन कोर्स की जानकारी न होने और कोर्स के चयन को लेकर कन्फ्यूजन, कई बार इन युवाओं की मेहनत को बेकार कर देता है। आज हम बताने जा रहे हैं विदेश में पढ़ाए जाने वाले कुछ ऐसे कोर्स के बारे में जिसे करने के बाद युवाओं को अच्‍छी जॉब की सौ फीसदी गारंटी है।

Career In Food Technology: क्या है फूड टेक्नोलॉजी? जानें कैसे बनाएं करियर और कितनी होगी सैलरी

कंप्यूटर साइंस में मास्टर्स

कोरोन के बाद दुनियाभर में डिजिटल वर्ल्‍ड के अंदर क्रांति आ गई है, हर क्षेत्र में इस समय ऑनलाइन कार्य हो रहा है। ऐसे में कंप्यूटर साइंस में मास्टर्स करना एक अच्छा विकल्प हो सकता है। इसके पाठ्यक्रम में काफी कुछ शामिल होता है, जैसे- सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग, प्राकृतिक गणना, आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस आदि। अगर किसी छात्र को आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पसंद है, तो वह मशीन बनाना सीख सकता है।

Career in Gaming – एनिमेशन और VFX एक्सपर्ट की काफी डिमांड, ऐसे बनाएं करियर

मैकेनिकल इंजीनियरिंग में मास्‍टर

मकैनिकल इंजीनियरिंग में मास्‍टर करना युवाओं के लिए बेहत फायदेमंद रहेगा। क्‍योंकि आज का समय मशीनों का है, इस कोर्स में मशीनरी और उनके पार्ट्स का डिजाइन बनाने का काम सिखाने समेत ही मैन्यूफैक्चरिंग प्रक्रिया की देखरेख का काम भी सिखाया जाता है। मकैनिकल इंनीजनियरिंग कोर्स की डिमांड हर देश में है।

इंडियन पोस्ट सर्विस ने 10वीं पास कैंडिडेट्स के लिए निकाली भर्ती, 2357 पदों के लिए 19 अगस्त तक करें अप्लाई :

इंडियन पोस्ट सर्विस ने 10वीं पास कैंडिडेट्स के लिए बंपर भर्ती निकाली हैं। इंडिया पोस्ट के पश्चिम बंगाल पोस्टल सर्कल ने ग्रामीण डाक सेवक (GDS) के पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन किया है। इस रिक्रूटमेंट ड्राइव के जरिए कुल 2357 पदों पर भर्ती की जाएगी। इच्छुक कैंडिडेट्स appost.in के जरिए 19 अगस्त तक अप्लाई कर सकते हैं।

career

Career In Food Technology: क्या है फूड टेक्नोलॉजी? जानें कैसे बनाएं करियर और कितनी होगी सैलरी

पदों की संख्या- 2357

योग्यता

इन पदों के लिए आवेदन करने वाले कैंडिडेट्स किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10वीं कक्षा पास होने चाहिए। ज्यादा जानकारी के लिए ऑफिशियल नोटिफिकेशन देखें।

आयु सीमा

इन पदों के लिए आवेदन करने वाले कैंडिडेट्स की उम्र 18 से 40 साल के बीच होनी चाहिए। आयु सीमा से जुड़ी ज्यादा जानकारी के लिए ऑफिशियल नोटिफिकेशन देखें।

सिलेक्शन प्रोसेस

इन पदों के लिए आवेदन करने वाले कैंडिडेट्स का सिलेक्शन मेरिट लिस्ट के आधार पर किया जाएगा।

जरूरी तारीखें

  • आवेदन शुरू होने की तारीख- 20 जुलाई
  • आवेदन की आखिरी तारीख- 19 अगस्त

एप्लीकेशन फीस

UR/OBC/EWS- 100 रुपए

SC/ST PwD/महिला/ ट्रांस-महिला- कोई शुल्क नहीं

ऐसे करें आवेदन

इच्छुक और योग्य कैंडिडेट्स 19 अगस्त तक https://indiapost.gov.in या https://appost.in/gdsonline के जरिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए ऑफिशियल नोटिफिकेशन देखें।

Career In Food Technology: क्या है फूड टेक्नोलॉजी? जानें कैसे बनाएं करियर और कितनी होगी सैलरी :

How To Start A Career In Food Technology –  फूड टेक्नोलॉजी फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री में में रॉ मटेरिअल्स को फूड और अन्य रूपों में बदलने के लिए फिजिक्स, कैमिकल या माइक्रोबायोलॉजी टेक्नीक्स और प्रोसेस के ट्रांसॉर्मिंग से संबंधित है। फूड प्रोसेसिंग का मतलब रॉ मटेरिअल्स को फूड प्रोडक्ट्स में बदलना या फूड को अन्य रूपों में ढालना है। बीई/बी. टेक इन फूड टेक्नोलॉजी 4 साल का प्रोग्राम है। फूड टेक्नोलॉजी विभिन्न कैमिकेल प्रोसेस से संबंधित है जो फूड प्रोडक्ट को मार्केट के लिए तैयार करता है। आप बीई/बी.टेक कोर्स पूरा करने के बाद फूड टेक्नोलॉजी में एम.टेक कर सकते हैं।

फूड टेक्नोलॉजी ग्रेजुएट्स के लिए जॉब रोल (Job Roles for Food Technology Graduates)

  • फूड टेक्नोलॉजिस्ट
  • न्यूट्रिशनल थेरेपिस्ट
  • प्रोडक्ट / प्रोसेस डेवलपमेंट साइंटिस्ट
  • क्वालिटी मैनेजर
  • रेगुलेटरी अफेयर्स ऑफिसर
  • साइंटिफिक लेबरोट्री टेक्नीशियन
  • टेक्नीकल ब्रेवर
  • प्रोडक्शन मैनेजर
  • पर्चेजिंग मैनेजर
  • रिसर्च साइंटिस्ट (life sciences)
  • टॉक्सिलॉजिस्ट

सैलरी –  फूड टेक्नोलॉजी इंजीनियरिंग करने के बाद एक फ्रेशर ग्रेजुएट प्रति वर्ष न्यूनतम 3 लाख रुपए कमाता है।

एडमिशन के लिए योग्यता (Eligibility for Admission in Food Technology)

फूड टेक्नोलॉजी में बी.टेक कोर्स करने के लिए एक छात्र के पास 10+2 में फिजिक्स, कैमेस्ट्री और मैथ्स में 50 प्रतिशत अंक होने चाहिए। मास्टर लेवल के कोर्स करने के इच्छुक छात्रों को बी.ई./बी. टेक. फूड साइंस / फूड साइंस और टेक्नोलॉजी / फूड टेक्नोलॉजी और मैनेजमेंट / फूड टेक्नोलॉजी / फूड प्रोसेस इंजीनियरिंग / फूड इंजीनियरिंग / डेयरी इंजीनियरिंग / डेयरी टेक्नोलॉजी / एग्रीकल्चर और फूड इंजीनियरिंग / डेयरी और फूड इंजीनियरिंग में, किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से न्यूनतम कुल स्कोर के साथ 45 – 50% होने चाहिए।

Career in Gaming: एनिमेशन और VFX एक्सपर्ट की काफी डिमांड, ऐसे बनाएं करियर

फूड टेक्नोलॉजी में कोर्स (Course in Food Technology)

भारत में फूड टेक्नोलॉजी में दो प्रमुख कोर्स उपलब्ध हैं। ये फूड टेक्नोलॉजी में बी.टेक और फूड टेक्नोलॉजी में एम.टेक हैं।

फूड टेक्नोलॉजी के लिए एंट्रेस एग्जाम (Entrance Exam For Food Technology)

फूड टेक्नोलॉजी में बी.टेक के लिए एंट्रेस एग्जाम

  • CFTRI: सेंट्रल फूड टेक्नोलॉजी रिसर्च इंस्टीट्यूट एंट्रेस एग्जाम : सीएफटीआरआई, मैसूर द्वारा एमएससी फूड टेक्नोलॉजी में एडमिशन के लिए आयोजित
  • IICPT: इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ क्रॉप प्रोसेसिंग टेक्नोलॉजी एंट्रेंस एग्जाम
  • AIJEE: फूड टेक्नोलॉजी और बायोकैमिकल साइंस में बी.टेक कोर्स में छात्रों को एडमिशन देने के लिए ऑल इंडिया ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जाम आयोजित की जाती है। कोर्स में शामिल होने के लिए उम्मीदवारों को जेईई state Joint Entrance Exams या एआईजेईई All India Joint Entrance Exam पास करना होता है।

डिजाइनिंग में है ब्राइट फ्यूचर, इन 4 टॉप डिजाइन जॉब्स के लिए हों तैयार

भरत में टॉप फूड टेक्नोलॉजी कॉलेज (Top Food Technology Colleges in India)

  • सेंट्रल फूड टेक्नोलॉजी रिसर्च इंस्टीट्यूट (CFTRI)
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फूड टेक्नोलॉजी इंटरप्रेन्योरशिप एंड मैनेजमेंट (NIFTEM)
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ कोर्प प्रोसेसिंग टेक्नोलॉजी (IICPT)
  • नेशनल एग्री-फूड बायोटेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट (NABI)
  • फूड एंड ड्रग टॉक्सिक्लोजी रिसर्च सेंटर (FDTRC)
  • नेश्नल इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूट्रीशन (NIN)
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टॉक्सिक्लोजी रिसर्च (IITR)
  • इंडियन एग्रीकल्चरल रिसर्च इंस्टीट्यूट (IARI)
  • डिपार्टमेंट ऑफ फूड साइंस एंड टेक्नोलॉजी, पांडिचेरी यूनिवर्सिटी
  • इंटरनेशनल लाइफ साइंस इंस्टीट्यूट – इंडिया (ILSI)

फूड टेक्नोलॉजी में करियर (Career In Food Technology)

  • ऑर्गेनिक केमिस्ट के रूप में, फूड टेक्नोलॉजिस्ट उन तरीकों पर सलाह देते हैं जिनके द्वारा रॉ मटेरिअल्स को प्रोसेसिंग फूड में परिवर्तित किया जाना है।
  • बायोकेमिस्ट के रूप में, वे फेलेवर, टेक्सचर, स्टोरेज और क्वालिटी में सुधार का सुझाव देते हैं।
  • होम इकोनॉमिस्केट रूप में, वे डायटेटिक्स सांइस और न्यूट्रिशंस एक्सपर्ट बन जाते हैं और वे कंटेनरों पर निर्देशों के अनुसार फूड और रेसिपी का टेस्ट करते हैं।
  • इंजीनियरों के रूप में वे प्रोसेसिंग सिस्टम की प्लानिंग, डिजाइन, इंप्रुविंग और मेंटेनिंग का काम करते हैं।
  • रिसर्च साइंटिस्ट के रूप में, वे उपज में सुधार, फ्लेवर, न्यूट्रिटिव वैल्यू और पैकेज्ड फूड की जेनरल एक्सेप्बलिटी के संबंध में प्रयोग करते हैं।
  • मैनेजर और अकाउंटेंट के रूप में, वे प्रोसेसिंग वर्क की निगरानी के अलावा एडमिनिस्ट्रेश्न और फाइनांस की सुपरवाइजिंग करते हैं।

प्राइवेट नौकरी

कई प्राइवेट सेक्टर के ऑरग्नाइजेशन बी.टेक फूड टेक्नोलॉजी में स्नातकों की भर्ती करते हैं। शुरुआत में छह महीने का प्रशिक्षण दिया जाता है। प्रशिक्षण अवधि पूरी करने के बाद उन्हें उच्च ग्रेड में पदोन्नत किया जाता है। ट्रेनिंग के पीरिएड में ही उम्मीदवार 15,000/- प्रति माह तक कमा सकते हैं। ट्रेनिंग के बाद पोस्ट और सैलरी में वृद्धि होती है।

सरकारी नौकरी

बी.टेक फूड टेक्नोलॉजी में स्नातक विभिन्न सरकारी संगठनों, लैब आदि में नौकरी पा सकते हैं। भारतीय खाद्य निगम के तहत काम करने वाली कई फर्में इस क्षेत्र में स्नातकों की भर्ती करती हैं। प्रारंभ में उन्हें प्रशिक्षु के रूप में भर्ती किया जाता है। प्रशिक्षण अवधि में ही वे 20,000/- प्रति माह कमा सकते हैं। ट्रेनिंग पीरियड छह माह की होती है। शुरुआती ट्रेनिंग के बाद उन्हें उनकी क्षमताओं के आधार पर उच्च ग्रेड में पदोन्नत किया जाता है। वेतनमान में भी वृद्धि होती है। ग्रेजुएट्स उन लैब में भी नौकरी के लिए प्रयास कर सकते हैं जहां फूड प्रोडक्ट का क्वालिटी टेस्ट किया जाता है।

Career in Gaming: एनिमेशन और VFX एक्सपर्ट की काफी डिमांड, ऐसे बनाएं करियर :

Job Opportunities In Gaming Industry – गेमिंग इंडस्ट्री टेक्नोलॉजी और क्रिएटिविटी दोनों का कॉम्बिनेशन है। गेमिंग इंडस्ट्री में तेजी गेम डिजाइनरों, वीएफएक्स और एनीमेशन स्टूडेंट्स के लिए नए अवसर और करियर के रास्ते खोल रहा है। यह इंडस्ट्री गेम डिजाइनर, एनिमेटर, विजुअल आर्टिस्ट, विजुअल इफेक्ट्स एडिटर, आर्टिस्ट, साउंड डिजाइनर, ऑडियो इंजीनियर, गेम डेवलपर, प्रोग्रामर, गेम टेस्टर समेत अन्य कई रोल ऑफर करता है। IMARC ग्रुप की हालिया रिपोर्ट में गेमिंग मार्केट का ग्लोबल इंडस्ट्री ट्रेंड्स, शेयर, साइज, ग्रोथ, अपॉर्चुनिटी और फोरकास्ट 2020-2025 दिया गया है। इसके अनुसार अनुमान लगाया गया है कि ग्लोबल गेमिंग मार्केट ग्रोथ 2020-2025 तक 204.6 बिलियन अमेरिकी डॉलर के आसपास पहुंच जाएगी।

गेमिंग उद्योग क्यों बढ़ रहा है?

इंटरनेट और मोबाइल फोन की बढ़ती पहुंच, ग्लोबल गेमिंग मार्केट के विकास को प्रमुख रूप से प्रोत्साहित कर रही है। इसके अलावा, गेम मैन्युफैक्चरर डाउनलोड करने योग्य कंटेट (डीएलसी) भी पेश कर रहे हैं जिससे गेम में लोगों की दिलचस्पी बढ़ती जा रही है। कस्टमर्स की बढ़ती आय के कारण गेमिंग डिवाइस की बढ़ती बिक्री भी मार्केट के ग्रोथ को बढ़ावा दे रही है। इसके अलावा फ्री-टू-प्ले बिजनेस मॉडल देने वाले ब्राउजर और मोबाइल गेम्स को अपनाने के साथ-साथ ऑनलाइन गेम्स में पॉजिटिव बदलाव आया है।

वीएफएक्स और एनिमेशन विशेषज्ञों की बढ़ती मांग
गेमर्स अट्रैक्टिव विजुअल इफेक्ट्स और रियलिटी बेस्ड एनीमेशन के साथ हाई क्वालिटी प्रोडक्शन की डिमांड कर रहे हैं और स्टूडियो में अब अधिक एनीमेशन और वीएफएक्स शॉट्स शामिल किए जा रहे हैं। एनीमेशन, वीएफएक्स और वीडियो गेमिंग की मांग केबल और सैटेलाइट टीवी द्वारा टारगेट ब्रॉडकास्टिंग के घंटों में वृद्धि, कम लागत वाली इंटरनेट एक्सेस की उपलब्धता, मोबाइल उपकरणों के साथ-साथ स्ट्रीमिंग वीडियो की बढ़ती लोकप्रियता के साथ बढ़ी है।

इसके अलावा ऑगमेंटेड रियलिटी और वर्चुअल रियलिटी जैसे इमर्सिव एक्सपीरियंस को पावर देने के लिए एनिमेशन और वीएफएक्स कंटेंट की मांग तेजी से बढ़ रही है। टेक्नोलॉजी के तेजी से विकास ने एनीमेशन, वीएफएक्स और गेम को आम लोगों के लिए उपलब्ध कराया है और यह इंडस्ट्री ग्लोबल मीडिया और इंटरटेनमेंट मार्केट में सबसे तेजी से बढ़ते फील्ड में से एक बन गया है। इस हाई डिमांड के लिए गेम, मूवी और एआर-वीआर जैसे विभिन्न प्लेटफार्मों के लिए कंटेंट बनाने के लिए वीएफएक्स और एनीमेशन के क्षेत्र में विशेषज्ञ प्रोफेशनल्स की जरूरत है।

भारत गेमिंग इंडस्ट्री के लिए सोने की खान जैसा है

1.3 बिलियन आबादी और उनमें से दो-तिहाई 35 वर्ष से कम आयु के लोग यानी दुनिया की सबसे बड़ी युवा आबादी, भारत में है। जो गेमिंग में भारत को दुनिया का सबसे बड़ा बाजार बनाने के लिए काफी है। भारत तेजी से गेमिंग इंडस्ट्री में एक प्रमुख खिलाड़ी बन रहा है क्योंकि यहां कंपीटिटिव कॉस्ट पर टेक्नीकल और क्रिएटिव स्किल सेट और इंटरनेशनल गेमिंग ग्रोथ की जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रोफेशनल एबिलिटी अवलेबल है। अंग्रेजी भाषा की सुविधा के कारण कम्यूनिकेशन में आसानी भी हमें ग्लोबल कंपीटिशन में मेन पाेल पर रखती है। इसलिए यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि भारत में युवा अब गेम डेवलपमेंट को एक सीरियस कैरियर के रूप में देख रहे हैं जिसमें ग्रोथ की पूरी संभावना है।

VFX इंडस्ट्री केसे जॉब की संभावना

वीएफएक्स एनिमेटर का काम आमतौर पर फिल्मों, टीवी शो और वीडियो गेम में होता है। वे रियल ईस्टेट, विज्ञापन और विजुअल रिप्रेजेंटेशन वाले किसी भी फील्ड में काम कर सकते हैं।

डिजाइनिंग में है ब्राइट फ्यूचर, इन 4 टॉप डिजाइन जॉब्स के लिए हों तैयार :

High Salary Jobs – डिजाइन में करियर अब फैशन, इंटीरियर, वेब या यहां तक कि विजुअल डिजाइन तक सीमित नहीं रह गया है। अब डिजाइन हमारे जीवन का एक आंतरिक हिस्सा है, हमारे आस-पास की वास्तुकला से लेकर सबसे छोटे, रोजमर्रा के गैजेट तक इसमें शामिल है। इनमें से प्रत्येक तत्व विकसित हुआ है क्योंकि डिजाइन स्वयं विकसित और रूपांतरित हुआ है। उद्योग 4.0 के युग में, डिजाइन प्रौद्योगिकी और उपयोगकर्ता के बीच महत्वपूर्ण कड़ी बन जाएगा, जो निर्बाध और सुचारू रूप से दोनों को मिला देगा। चूंकि हर उद्योग अपने इंटरफेस और अनुभव को बेहतर बनाना चाहता है, इसलिए डिजाइन में करियर बनाने का यह सही समय है।

इंटरेक्शन डिजाइनर (Interaction Designer)

जैसे-जैसे दुनिया तेजी से डिजिटल होती जा रही है, इंटरेक्शन डिजाइनर की अत्यधिक मांग बढ़ रही है। जैसा कि नाम से पता चलता है, इंटरेक्शन डिजाइनर प्रोडक्ट, सर्विस और सिस्टम के लिए इंटरैक्टिव डिजिटल इंटरफेस डिजाइन करते हैं। ये टेक्नोलॉजी के संयोजन, संचार के सिद्धांतों और व्यवहार विश्लेषण के माध्यम से प्रोडक्ट को आकर्षक बनाते हैं। एक इंटरेक्शन डिजाइनर हमारे अधिकांश डिजिटल इंटरैक्शन के लिए जिम्मेदार होता है, चाहे वह ऐप के साथ हो या उपकरण के साथ।

एम्स में कई पदों पर 100 से ज्यादा वैकेंसी, 1.68 लाख रुपये तक सैलरी, देखें डिटेल्स :

इंटरेक्शन डिजाइनर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की कार्यक्षमता में सुधार से लेकर गेमिंग, हेल्थकेयर और लर्निंग सिस्टम के लिए यूजर इंटरफेस डिजाइन करने तक, तकनीक के लगभग हर पहलू पर काम करते हैं।

एक्सपीरिएंस डिजाइनर (Experience Designer)

एक्सपीरिएंस डिजाइनर का काम प्रोडक्ट या सर्विस एक्सपीरिएंस का निर्माण करना है। एक्सपीरिएंस डिजाइनर बेहद विस्तार-उन्मुख होते हैं। संवर्धित वास्तविकता और आभासी वास्तविकता जैसी इमर्सिव तकनीकों से जुड़े समाधानों के डिजाइन में एक्सपीरिएंस डिजाइनरों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उनका काम सहयोग और व्यवहार की समझ के साथ-साथ विभिन्न मीडिया के ज्ञान की अपेक्षा करता है।

आज लगभग हर सेवा के डिजिटलीकरण को देखते हुए, भौतिक और डिजिटल की जटिलता को संभालने के लिए, एक्सपीरिएंस डिजाइनरों की विनिर्माण, परामर्श, दूरसंचार, सॉफ्टवेयर, सार्वजनिक क्षेत्र और शिक्षा क्षेत्र सहित विभिन्न उद्योगों में मांग है।

डिजाइन रिसर्चर (Design Researcher)

अच्छे डिजाइन रिसर्चर में न केवल क्रिएटिविटी और इनोवेशन की चिंगारी होती है, वे मानव व्यवहार और मनोविज्ञान को भी समझते हैं, और रिसर्च टूल्स के उपयोग में कुशल होते हैं। डिजाइन रिसर्चर सॉल्युशन के लिए यूजर, सिनैरियो और यूजर जर्नी के बारे में डेटा एकत्र करने के लिए भी जिम्मेदार हैं। वे अक्सर अत्याधुनिक उत्पादों पर काम करते हैं जो उन्हें प्रोडक्ट मैनेजरों और मार्केटिंग से लेकर मनोवैज्ञानिक और जीवविज्ञानी तक विभिन्न पृष्ठभूमि के लोगों के साथ सहयोग करने का अवसर देते हैं। उन्हें कई परामर्श और तकनीकी कंपनियों के साथ काम करने के अवसर मिलते हैं।

डाटा विजुअलाइजर (Data Visualizer)

आज लगभग हर व्यावसायिक निर्णय बिग डाटा पर निर्भर करता है। हालांकि, यह डाटा अपने रॉ रूप में अर्थहीन है और अर्थ निकालने के लिए एक सक्षम दुभाषिया की आवश्यकता है। एक डाटा विजुअलाइजर का काम डाटा से अंतर्दृष्टि प्राप्त करना है और मानचित्र, चार्ट और ग्राफ जैसी चीजों का उपयोग करके इसे समझना आसान बनाता है। डाटा विजुअलाइजर को डाटा विश्लेषण, डाटा प्रबंधन और डिजाइन क्षमताओं के मिश्रण की आवश्यकता होती है।

सरकारी नौकरी के लिए इंटरव्यू देने से पहले इन 4 बातों का रखें ध्यान

हर क्षेत्र में डाटा की भूमिका को देखते हुए, फार्मास्युटिकल से लेकर सॉफ्टवेयर से लेकर बैंकिंग तक, हर उद्योग में रोजगार मिल सकता है। अन्य समान जॉब रोल में बिजनेस इंटेलिजेंस एनालिस्ट, डाटा इंजीनियर और डाटा एनालिस्ट शामिल हैं।

एम्स में कई पदों पर 100 से ज्यादा वैकेंसी, 1.68 लाख रुपये तक सैलरी, देखें डिटेल्स :

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS), कल्याणी ने एनाटॉमी, साइकोलॉजी, माइक्रोबायोलॉजी, जेनेरिक मेडिसिन, जनरल सर्जरी समेत अलग-अलग 39 विभागों के लिए असिस्टेंट प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर, एडिशनल प्रोफेसर और प्रोफेसर पदों पर भर्ती निकाली है। योग्य उम्मीदवारों के लिए, एम्स (All India Institute of Medical Sciences Kalyani) में फैकल्टी पदों पर सीधी भर्ती (Medical Jobs 2021) के लिए आवेदन करने का मौका है।

सरकारी नौकरी के लिए इंटरव्यू देने से पहले इन 4 बातों का रखें ध्यान

इच्छुक और योग्य उम्मीदवार निर्धारित प्रारूप में आधिकारिक वेबसाइट aiimskalyani.edu.in पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि, रोजगार समाचार में विज्ञापन पब्लिश होने के 30 दिनों के अंदर (18 जुलाई 2021 तक) तक है |

वैकेंसी डीटेल्स (AIIMS Kalyani Vacancy Details)

इस भर्ती अभियान के माध्यम से एम्स कल्याणी में अलग-अलग विभगों में कुल 147 रिक्त पद भरे जाएंगे। इनमें असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए 28 पद, एसोसिएट प्रोफेसर के 22 पद, एडिशनल प्रोफेसर के 32 पद और प्रोफेसर के 65 पद शामिल हैं।

नर्सिंग में बनाना है करियर, जरूर जानें इन जॉब्स के बारे में

कौन कर सकता है अप्लाई?

इन पदों पर आवेदन करने वाले उम्मीदवारों के पास किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से एमबीबीएस (MBBS) की डिग्री होनी चाहिए। इसके अलावा, संबंधित विषय में एमडी (MD) और डीएम (DM) की भी डिग्री मांगी गई है। इसके अलावा, पदानुसार शिक्षण अनुभाव भी मांगा गया है। अधिक जानकारी के लिए नोटिफिकेशन लिंक पर विजिट करें।

यहां जानें 12वीं के बाद क्या हैं यूनिक करियर ऑप्शन

आयु सीमा

योग्य आवेदकों की उम्र 58 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। हालांकि, सरकारी मापदंडों के अनुसार, ओबीसी वर्ग के उम्मीदवारों को 03 वर्ष, एससी, एसटी, सरकारी कर्मचारी के लिए 05 वर्ष और पीड्ब्ल्यूडी (एचओ-ओएल और बीएल) उम्मीदवारों को 10 वर्ष की छूट दी जाएगी।

जानिए कैसे मिलेगी नौकरी? (चयन प्रक्रिया)

योग्य उम्मीदवारों का चयन इंटरव्यू राउंड के आधार पर किया जाएगा। इस भर्ती से संबंधित अधिक जानकारी के लिए जारी अधिकारिक नोटिफिकेशन को देख सकते हैं।

आवेदन शुल्क

जनरल और ओबीसी वर्ग के उम्मीदवारों के लिए आवेदन शुल्क 1000 रुपये निर्धारित किया गया है। जबकि एससी, एसटी के लिए कोई आवेदन शुल्क नहीं है |

वेतन

प्रोफेसर – पे मैट्रिक्स लेवल- 14 ए के तहत 1,68,900 रुपये (कम से कम वेतन) के साथ एनपीए भत्ता मिलेगा।एडिशनल प्रोफेसर -पे मैट्रिक्स लेवल- 13 ए 2 के तहत 1,48,200 रुपये (कम से कम वेतन) के साथ एनपीए भत्ता मिलेगा।
एसोसिएट प्रोफेसर – पे मैट्रिक्स लेवल- 13 ए 1 के तहत 1,38,300 रुपये (कम से कम वेतन) के साथ एनपीए भत्ता मिलेगा।
असिस्टेंट प्रोफेसर – पे मैट्रिक्स लेवल- 12 के तहत 1,01,500 रुपये (कम से कम वेतन) के साथ एनपीए भत्ता मिलेगा।

सरकारी नौकरी के लिए इंटरव्यू देने से पहले इन 4 बातों का रखें ध्यान :

Govt Job Interview Tips –  इंटरव्यू में केवल ज्ञान होने से आप सफल हो जाएंगे ऐसा नहीं है। इसमें कई और भी बातें हैं जिनका टेस्ट लिया जाता है। ऐसे में ये ‘जंग’ जीतने के लिए आपको ज्ञान के अलावा दूसरे अस्त्र और शस्त्र भी उठाने पढ़ते हैं।

देश में हर साल करोड़ों छात्र अरबों परीक्षाएं देते हैं। ये परीक्षाएं सरकारी नौकरी पाने का जरिया होते हैं। ऐसे में छात्र अपनी किस्मत आजमाने के साथ ही अपना भविष्य बनाने की उम्मीद भी करते हैं। लेकिन कई बड़ी और अहम परीक्षाओं में कई सारी स्टेज होती हैं। यानी 1 से ज्यादा परीक्षाएं, जिसका मतलब ये है कि आपको केवल लिखित परीक्षा में अपनी योग्यता नहीं दिखानी होती, बल्कि बार बार इसका प्रदर्शन और आभास करवाना होता है। ये सिलसिला तब तक चलता है जब तक ज्वाइनिंग लेटर ना मिल जाए और आप सभी राउंड को पार ना कर लें।

जानें कुछ जरूरी बातें

एक सच ये भी है कि इन परीक्षाओं में बैठने वाले ज्यादातर छात्र आमतौर पर पहले दौर में ही बाहर हो जाते हैं। दूसरे दौर में भाग लेने के लिए चुनिंदा उम्मीदवार ही आगे बढ़ते हैं, इनमें से भी मुट्ठी भर ही उम्मीदवारों को अंतिम दौर में पहुंचने का मौका मिलता है। ज्यादातर परीक्षाओं में अंतिम दौर आम तौर पर इंटरव्यू होता है।

इंटरव्यू देने से पहले ध्यान रखें ये टिप्स
सरकारी नौकरी के लिए इंटरव्यू देना भी एक कला है, और किसी भी दूसरी कला की तरह, इसे पूरा करने के लिए उम्मीदवार को कड़ी प्रैक्टिस और तैयारी करनी होगी। जब कोई उम्मीदवार इंटरव्यू तक पहुंचता है, तो इसका आमतौर पर मतलब होता है कि उसके पास दूसरे उम्मीदवारों से ज्यादा ज्ञान होगा या वो ज्यादा अच्छे तरीके से उसे व्यक्त कर पा रहा होगा।

हालांकि, जैसा हमने आपको बताया कि केवल ज्ञान होने से आप इंटरव्यू क्रैक नहीं कर पाएंगे। इसीलिए हम आपको कुछ टिप्स देने जा रहे हैं, जिनकी मदद से आप दूसरों से 2 कदम आगे निकलकर सरकारी नौकरी पाने में सक्षम बन सकते हैं।

बायोडाटा फॉर्म में दी जानकारी को लेकर सावधान रहें

बायोडाटा फॉर्म में ज्यादातर 4 पार्ट होते हैं। पहला जिस फील्ड से आप जुड़े हैं, दूसरा शैक्षणिक योग्यता, तीसरा हॉबी या शौक और चौथा काम का अनुभव या एक्सपीरियंस।
इन चारों पार्ट को लेकर इंटरव्यू से पहले खुद ही सवालों के बारे में सोचें। जो सवाल पूछे जा सकते हैं उनकी एक लिस्ट बनाएं और उनकी तैयारी करना शुरू कर दें।

उदाहरण के लिए, जिस फील्ड से आप जुड़े हैं उससे सवाल पूछे जा सकते हैं। आपके इलाके में कौनसी मिट्टी है, और बैंकों की स्थिति क्या है। इसके अलावा ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन के दौरान आपने जिन विषयों को पढ़ा है उनके बारे में आपकी जानकारी परखी जा सकती है। इससे इतर आपके शौक और वर्क एक्सपीरियंस से जुड़े सवालों के जवाब देने के लिए आपको एकदम तैयार रहना चाहिए।

संस्थान आपसे क्या चाहता है?

जिस पद के लिए आवेदन किया है, उसके सभी बुनियादी कामों के बारे में अच्छी तरह से जानकारी होनी चाहिए, इसके अलावा कोशिश करें कि संगठन या संस्था के कामकाज के बारे में भी आपको पूरी जानकारी हो।
जिस फील्ड से संगठन या संस्था जुड़ी है, उसकी बेसिक जानकारी के बारे में जरूर पूछा जाता है।

उदाहरण के लिए, बैंक से जुड़े इंटरव्यू में, आम तौर पर बैंकिंग क्षेत्र से जुड़ी बेसिक टर्मिनोलॉजी यानी शब्दावली और कॉन्सेप्ट्स के बारे में पूछा जाता है। BASIL नॉम्स, या बैंकों के लिए जोखिम कम करने में उपयोग किए जाने वाले रेश्यो के बारे में भी पूछा जा सकता है। कुल मिलाकर इंटरव्यू की तैयारी कर रहे हैं तो संगठन या संस्था की फील्ड के बारे में छोटी से छोटी जानकारी भी जुटा लें।

ईमानदार और कमिटेड रहें

इंटरव्यू के दौरान उम्मीदवारों को अक्सर उनके निर्णय लेने, या एनालिसिस करने, नेतृत्व, साथ मिलकर काम करने और ईमानदारी के आधार पर परखा जाता है। इसी के लिए काल्पनिक स्थिति में उनको खड़ा करके सवाल पूछे जाते हैं। जिससे समझ आए कि मुश्किल परिस्थितियों में कोई कैसी प्रतिक्रिया दे सकता है।

  • ऐसी स्थिति में सवालों का जवाब देते वक्त किसी भी उम्मीदवार को ईमानदार बने रहने की जरूरत होती है। इससे इतर आपको खुद को संभालना आना चाहिए, अपनी कमिटमेंट का एहसास कराना चाहिए और एकदम सच कहना चाहिए।
  • अगर आप इन बेसिक रूल्स से इधर उधर भटके और जवाब घुमाकर देने की कोशिश की, और इसका अंदाजा इंटरव्यू के पैनलिस्ट को हो गया। तो आपकी जरा सी भी जिद या बेईमानी आपके लिए घातक हो सकती है। ये तुरंत आपको बाहर का रास्ता दिखाने में मदद करेगी।

इंटरव्यू लेने वाले की तरह सोचें

  • एक इंटरव्यू की तैयारी करने का सबसे अच्छा तरीका है कि जो भी प्रश्न मन में आए, उनकी एक लिस्ट बनाएं और खुद को इंटरव्यू लेने वाले की जगह रखकर सोचें।
  • इंटरव्यू को क्रैक करने की सबसे बड़ी टिप और ट्रिक यही है कि इंटरव्यू में पूछे जाने वाले सवालों का तो आपको अंदाजा हो ही, साथ ही साथ उनके जवाबों के लिए भी आप तैयार रहें। इस तरह, हजार या उसके आस-पास के सवालों की एक लिस्ट बनाना आपके लिए फायदेमंद और पर्याप्त होना चाहिए।