क्या आप जानते है ?

आसमान में बिजली क्यों चमकती है ? 

बादलों में नमी होती है। यह नमी बादलों में जल के बहुत बारीक कणों के रूप में होती है। हवा और जलकणों के बीच घर्षण होता है। घर्षण से बिजली पैदा होती है और जलकण आवेशित हो जाते हैं यानी चार्ज हो जाते हैं।

बादलों के कुछ समूह धनात्मक तो कुछ ऋणात्मक आवेशित होते हैं। धनात्मक और ऋणात्मक आवेशित बादल जब एक-दूसरे के समीप आते हैं तो टकराने से अति उच्च शक्ति की बिजली उत्पन्न होती है। 

हमें किसी चीज़ का स्वाद कैसे पता चलता है

जीभ हमें स्वाद का ज्ञान कराती है। जीभ मुँह के भीतर स्थित है। यह पीछे की ओर चौड़ी और आगे की ओर पतली होती है। यह मांसपेशियों की बनी होती है। इसका रंग लाल होता है। इसकी ऊपरी सतह को देखने पर हमें कुछ दानेदार उभार दिखाई देते हैं, जिन्हें स्वाद कलिकाएं कहते हैं।

ये स्वाद कलिकाएं कोशिकाओं से बनी है। इनके ऊपरी सिरे से बाल के समान तंतु निकले होते हैं। ये स्वाद कलिकाएं चार प्रकार की होती है, जिनके द्वारा हमें चार प्रकार की मुख्य स्वादों का पता चलता है। मीठा, कड़वा, खट्टा और नमकीन।

जीभ का आगे का भाग मीठे और नमकीन स्वाद का अनुभव कराता है। पीछे का भाग कड़वे स्वाद का और किनारे का भाग खट्टे स्वाद का अनुभव कराता है। जीभ का मध्य भाग किसी भी प्रकार के स्वाद का अनुभव नहीं कराता, क्योंकि इस स्थान पर स्वाद कलिकाएं प्रायः नहीं होती है।

स्वाद का पता लगाने के लिए भोजन का कुछ अंश लार में घुल जाता है और स्वाद-कलिकाओं को सक्रिय कर देता है। खाद्य पदार्थों द्वारा भी एक रासायनिक क्रिया होती है, जिससे तंत्रिका आवेग पैदा हो जाते हैं। ये आवेग मस्तिष्क के स्वाद केंद्र तक पहुँचते हैं और स्वाद का अनुभव देने लगते हैं। इन्हीं आवेगों को पहचान कर हमारा मस्तिष्क हमें स्वाद का ज्ञान कराता है।

उल्लू अंधेरे में कैसे देख लेता है ? 

 उल्लू रात्रि में मानव से कई गुना अधिक देख सकता है क्योंकि उसकी आँखों में प्रतिबिम्ब वाली विशेष कोशिकाएं होती हैं जो रोशनी को अपने भीतर सोख लेती हैं। यह एक ऐसा विचित्र पक्षी है, जिसे दिन कि अपेक्षा रात में अधिक स्पष्ट दिखाई देता है।

उसे दिखाई तो दिन में भी देता है, लेकिन उतना स्पष्ट नहीं देता जितना कि रात में और जिन पक्षियों को रात में अधिक दिखाई देता है, उन्हें रात का पक्षी कहते हैं।

मुर्गी पहले आई या अंडा ?

जीव विज्ञान के अनुसार जीवों का विकास क्रमिक रूप से हुआ है। मुर्गी और अंडे के विकास मे लाखों वर्ष लगे है। मुर्ग़ी और अंडे मे पहले कौन आया? इस प्रश्न के कोई मायने नहीं है क्योंकि इन दोनो का विकास एक साथ एक क्रम मे हुआ है। 

आग पानी से क्यों बुझ जाती है ?

दहनशील पदार्थ पर्याप्त ऑक्सीजन की उपस्थिति में जब पर्याप्त उष्मा, जो श्रृंखलाबद्ध प्रतिक्रिया को सुचारू रूप से चलाने में सक्षम हो, संपर्क में आता है, तो आग पैदा होती है। इनमें से किसी एक की अनुपस्थिति से आग पैदा नहीं हो सकती है। अगर आग एकबार जल जाती है यानी श्रृंखलाबद्ध प्रतिक्रिया शुरू हो जाती है तो जब तक ऑक्सीजन और दहनशील पदार्थ की उपस्थिति रहती है तब तक वह जलती और फैलती रहती है।

आग को ऑक्सीजन और ईंधन में से किसी एक को अलग कर बुझाया जा सकता है। आग पर पानी की पर्याप्त बौछार पड़ती है तो ईंधन को ऑक्सीजन की उपस्थिति में बाधा पड़ती है और आग बुझ जाती है। आग पर कार्बन-डाइऑक्साइड के प्रयोग से भी आग बुझाई जा सकती है। जंगल की आग बुझाने के लिए मुख्य ज्वाला से दूर छोटी छोटी ज्वाला पैदा कर ईंधन की आपूर्ति बंद की जाती है।

बरसात कैसे होती है ? 

आर्द्र मानसून हवाएं जब पर्वत से टकराती है तो ऊपर उठ जाती हैं, परिणामस्वरूप पर्याप्त बारिश होती है। हम जानते हैं कि ज्यों-ज्यों उंचाई बढ़ती है तापमान कम होने लगता है। 165 मीटर ऊपर जाने पर एक डिग्री सेंटीग्रेट तापमान कम हो जाता है। हवाएं जब ऊपर उठती हैं तो इसमें मौजूद वाष्पकण ठंडे होकर पानी की बूंदों में बदल जाते है।

जब पानी की बूंद भारी होने लगती है तो यह धरती पर गिरती है। इसे हम बारिश कहते हैं। चूंकि मानसूनी हवा में वाष्पकण भरपूर मात्रा में होते हैं इसलिए बारिश भी जमकर होती है। 

सूर्य प्रातः और शाम के समय में लाल क्यों दिखता है ? 

धरती के चारों ओर वायुमंडल यानी हवा है। इसमें कई तरह की गैसों के मॉलीक्योंल और पानी की बूँदें या भाप है। गैसों में सबसे ज्यादा करीब 78 फीसद नाइट्रोजन है और करीब 21 फीसद ऑक्सीजन। इसके अलावा ऑरगन गैस और पानी है। इसमें धूल, राख और समुद्री पानी से उठा नमक वगैरह है।

हमें अपने आसमान का रंग इन्हीं चीजों की वजह से आसमानी लगता है। दरअसल हम जिसे रंग कहते हैं वह रोशनी है। रोशनी वेव्स या तरंगों में चलती है। हवा में मौजूद चीजें इन वेव्स को रोकती हैं।

जो लम्बी वेव्स हैं उनमें रुकावट कम आती है। वे धूल के कणों से बड़ी होती हैं। यानी रोशनी की लाल, पीली और नारंगी तरंगें नजर नहीं आती। पर छोटी तरंगों को गैस या धूल के कण रोकते हैं। और यह रोशनी टकराकर चारों ओर फैलती है। रोशनी के वर्णक्रम या स्पेक्ट्रम में नीला रंग छोटी तरंगों में चलता है। यही नीला रंग जब फैलता है तो वह आसमान का रंग लगता है। दिन में सूरज ऊपर होता है। वायुमंडल का निचला हिस्सा ज्यादा सघन है। आप दूर क्षितिज में देखें तो वह पीलापन लिए होता है। कई बार लाल भी होता है।

सुबह और शाम के समय सूर्य नीचे यानी क्षितिज में होता है तब रोशनी अपेक्षाकृत वातावरण की निचली सतह से होकर हम तक पहुँचती है। माध्यम ज्यादा सघन होने के कारण वर्णक्रम की लाल तरंगें भी बिखरती हैं। इसलिए आसमान अरुणिमा लिए नज़र आता है। कई बार आँधी आने पर आसमान पीला भी होता है।

आसमान का रंग तो काला होता है। रात में जब सूरज की रोशनी नहीं होती वह हमें काला नजर आता है। हमें अपना सूरज भी पीले रंग का लगता है। जब आप स्पेस में जाएं जहाँ हवा नहीं है वहाँ आसमान काला और सफेद सूरज नजर आता है।

भूकम्प क्यों आते है ? 

 हमारी पृथ्वी के अंदर 7 तरह की प्लेट्स हैं जो लगातार घूम रही होती हैं। ऐसे में जब कभी ये प्लेट्स ज्यादा टकरा जाती हैं, उसे जोन फॉल्ट लाइन कहा जात है। यही नहीं ज्यादा दबाव बनने पर प्लेट्स टूटने लगती हैं और नीचे की एनर्जी बाहर आने का रास्ता खोजती है।

पृथ्वी के नीचे इस उथलपुथल का नतीजा ही भूकंप के रूप में नज़र आता है।

आदमी और जानवर में से पहले कौन आया ? 

जीवन का विकास क्रमिक रूप से हुआ है। सबसे पहले एक कोशीय जीव जैसे अमीबा, जीवाणु बने, उसके पश्चात बहुकोशीय जीव बने। जीवन का विकास पहले पानी मे अर्थात समुद्र मे हुआ उसके पश्चात जमीन पर।

मनुष्य का विकास तो जीवन की उत्पत्ति के लाखों करोडों वर्ष बाद मे हुआ है। हम कह सकते है कि जानवर मनुष्यों से करोडो वर्ष पहले आये है।

ताजे अंडे पानी में डूब जाते हैं, पुराने नहीं क्यों ? 

 ताजा अंडे पानी में डूब जाते हैं पुराने नहीं डूबते। इसका कारण यह है कि पुराने अंडों के भीतर वायु कण बढ़ जाते हैं। इससे उसका आकार बढ़ जाता है।

नमकीन पानी में अंडे तैरते हैं इसका कारण है कि नमक मिलने के कारण पानी का घनत्व बढ़ जाता है और अंडा तैरने लगता है।

लौहे का बड़ा जहाज पानी में क्यों नहीं डूबता ?

आर्किमीडीज़ का सिद्धांत है कि कोई वस्तु जब पानी में डाली जाती है तब उसके द्वारा हटाए गए जल का भार उस वस्तु के भार के बराबर होता है। और हटाए गए पानी की ताकत उसे वापस ऊपर की ओर उछालती है। 

इसलिए लोहे का एक टुकड़ा जब पानी में डाला जाता है तब उसके द्वारा हटाए गए पानी की ऊपर को लगने वाली शक्ति को छोटा आकार मिलता है।यदि इसी लोहे के टुकड़े की प्लेट बना दी जाती तो उसका आकार बड़ा हो जाता और वह पानी के नीचे से आनी वाली ताकत का फायदा उठा सकती थी।

लोहे के जहाज़ का आयतन(volume) उसके भार(weight) से अधिक होता है।  लोहे का जहाज़ अपने आयतन के बराबर पानी विस्थापित(displace) करता है, यह विस्थापित जल अपने आयतन के तुल्य बल(force) जहाज़ पर लगाता है जिससे जहाज़ पानी पर तैरता है। जबकि लोहे के टुकड़े का आयतन उसके भार से कम होता है, उसके द्वारा विस्थापित जल उसके भार से कम होता है जिससे वह डूब जाता है।

लाल किले की अनोखी बातें, जो शायद ही आपने सुनी होंगी

लाल किले का इतिहास (History of Red Fort)

लाल किले का निमार्ण शाहजहां ने 1638 ईसवी में करवाई थी। इसे विश्व धरोहर की सूची में शामिल किया गया है। इस किले को बनवाने के लिए शाहजहां ने अपनी राजधानी आगरा को दिल्ली स्थानांतरित कर लिया था। यहां पर रहकर उन्‍होंने इस शानदार किले को दिल्ली के केन्द्र में यमुना नदी के पास बनवाया। यह यमुना नदीं के तीन तरफ से घिरा हुआ है, जिसके अद्भुत सौंदर्य और आर्कषण को देखते ही बनता है। इस किले का निर्माण 1638 से शुरू होकर 1648 ईसवी तक चला, इसके निमार्ण में करीब 10 साल का समय लगा। इस भव्य किला बनने की वजह से भारत की राजधानी दिल्ली को शाहजहांनाबाद कहा जाता था, साथ ही यह शाहजहां के शासनकाल की रचनात्मकता का मिसाल माना जाता था।

ये भी पढ़िए – साइंस में नोबेल पुरस्कार विजेता सीवी रमन के बारे में जानें ये 11 फैक्ट्स

लाल किला न सिर्फ दिल्ली की शान अपितु पूरे भारत की शान है। 15 अगस्त, 1947 में भारत को अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिलने के बाद, देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने दिल्ली के लाल किले से पहली बार ध्वजा रोहण कर देश की जनता को संबोधित किया था और अपने देश में अमन, चैन, शांति बनाए रखने एवं इसके अभूतपूर्व विकास करने का संकल्प लिया था। इसलिए लाल किले को जंग-ए-आजादी का गवाह भी माना जाता है। वहीं तभी से हर साल यहां स्वतंत्रता दिवस के मौके पर देश के प्रधानमंत्री द्धारा लाल किले पर झंडा फहराए जाने की परंपरा है।

सैनिकल प्रशिक्षण के लिए इस्‍तेमाल

देश की आजादी के बाद भी इस किले का महत्‍व कम नहीं हुआ, इसका उपयोग भारतीय सैनिकों को प्रशिक्षण देने में किया जाने लगा।, साथ ही यह एक प्रमुख पर्यटन स्थल के रुप में मशहूर हुआ, वहीं इसके आर्कषण और भव्यता की वजह से इसे 2007 में विश्व धरोहर की सूची में शामिल किया गया था और आज इसकी खूबसूरती को देखने दुनिया के कोने-कोने से लोग दिल्ली आते हैं।

ये भी पढ़िए – गेटवे ऑफ इंडिया के ऐसे फैक्ट्स, जो कम ही लोग जानते होंगे!

लाल किले की संरचना (Red Fort Structure)

लाल किले का निर्माण लाल बलुआ पत्थर एवं सफेद संगमरमर के पत्थरों से किया गया है। इस किले के निर्माण के समय इसे कई बहुमूल्‍य रत्‍नों व सोने-चांदी से सजाया गया था, लेकिन जब मुगलों का शासन खत्‍म हुआ और अंग्रेजों ने लाल किले पर कब्‍जा जमाई तो उन्‍होंने इस किले से सभी बहुमूल्‍य रत्‍न और धातु निकाल ले गए। करीब डेढ़ किलोमीटर की परिधि में फैले भारत के इस भव्य ऐतिहासिक स्मारक के चारों तरफ करीब 30 मीटर ऊंची पत्थर की दीवार बनी हुई है, जिसमें मुगलकालीन वास्तुकला का इस्तेमाल कर बेहद सुंदर नक्काशी की गई है।

लाल किले के बारे में रोचक तथ्य

  1. शाहजहाँ ने अपनी राजधानी आगरा की जगह दिल्ली को बनाने के लिए एक पुराने किले की जगह पर 1638 में लाल किले का निर्माण शुरू करवाया जो 1648 में पूरा हुआ।
  2. जब 1648 में लाल किले का उदघाटन किया गया तब इसके मुख्य कमरों को कीमती पर्दों से सजाया गया। तुर्की की मखमल और चीन की रेशम से इसकी सजावट की गई।
  3. इसे बनाने में करीब एक करोड़ रूपए खर्च हुए थे। इस हिसाब से यह उस समय का सबसे महंगा किला था।
  4. एक करोड़ रूपए में से आधी रकम इसके शानदार महलों को बनाने में खर्च की गई थी।
  5. शाहजहाँ ने जन्नत की कल्पना करते हुए लाल किले के अंदर के कुछ भागों का निर्माण करवाया था जिसे अंग्रेजों ने जमीन दोज़ कर दिया था। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा खुदाई के दौरान लाल किले के असली तल का पता चला जो दिल्ली गेट के पास 3 फुट पर मिला है और नौबत खाने के पास इसकी गहराई छह फुट तक है।
  6. लाल किले के दो प्रवेश द्वार हैं। एक लाहौर गेट और दूसरा दिल्ली गेट। लाहौर गेट आम सैलानियों के लिए है और दिल्ली गेट सरकार के लिए।
  7. लाल किला भी ताजमहल की तरह यमुना नदी के किनारे पर बना हुआ है। लाल किले को घेरने वाली खाई को यमुना के जल से ही भरा जाता था।
  8. 11 मार्च 1783 ईसवी को सिखों ने लाल किले पर हल्ला बोल दिया और इसे मुगलों से आज़ाद करवा दिया। इस कारनामे का सिहरा सरदार बघेल सिंह धालीवाल को जाता है।
  9. लाल किले को बनाने के लिए लाल बालू पत्थरों का प्रयोग किया गया जिसके कारण ही इसका नाम लाल किला पड़ा।
  10. लाल किले की दीवारों की लंम्बाई 2.5 किलोमीटर है। दिवारों की ऊँचाई यमुना नदी की ओर 18 मीटर जबकि शहर की ओर 33 मीटर है।

वर्ल्ड पॉपुलेशन डे के बारे में 14 रोचक बातें

1987 में, विश्व की जनसंख्या 5 बिलियन के सबसे उच्च आंकड़े पर पहुंच गई थी। इसके दो साल बाद, 11 जुलाई को, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने जनसंख्या के मुद्दों की तात्कालिकता और महत्व को उजागर करने के लिए विश्व जनसंख्या दिवस की शुरुआत की। लेकिन फिर भी तब की अपेक्षा आज की दुनिया उस समय से कहीं आगे निकल चुकी है। वर्ल्डोमीटर के अनुसार- जुलाई 2020 तक 7.8 बिलियन लोगों की आबादी हो चुकी है। विश्व जनसंख्या दिवस पर इससे संबंधित 14 फैक्ट्स।

1. 2024 तक भारत की जनसंख्या चीन से अधिक हो जाएगी

2017 की संयुक्त राष्ट्र विश्व जनसंख्या संभावना रिपोर्ट में कहा गया है कि लगभग सात वर्षों में, भारत की जनसंख्या चीन से अधिक हो जाएगी। चीन की आबादी 1.4 अरब है और उसके बाद भारत की 1.3 अरब है। दोनों देश दुनिया की कुल आबादी का 37 प्रतिशत हिस्सा हैं।

2. 2100 में सबसे बड़ी आबादी वाले 10 देश

संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक और सामाजिक मामलों के विभाग के अनुसार, भारत 2100 तक दुनिया में सबसे अधिक आबादी वाला देश होगा। भारत – 1.5 बिलियन, चीन – 1 बिलियन, नाइजीरिया – 794 मिलियन, संयुक्त राज्य अमेरिका – 447 मिलियन, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य – 379 मिलियन, पाकिस्तान – 352 मिलियन, इंडोनेशिया – 306 मिलियन, तंजानिया – 304 मिलियन, इथियोपिया – 250 मिलियन, युगांडा – 214 मिलियन के साथ सबसे बड़ी जनसंख्या वाले 10 देशों में शामिल होंगे।

3. टोक्यो दुनिया का सबसे बड़ा आबादी वाला शहर है

टोक्यो में 37 मिलियन जनसंख्या के साथ सबसे बड़ी आबादी वाला शहर है जिसके बाद भारत में दिल्ली शहर 29 मिलियन आबादी के साथ दूसरे और शंघाई 26 मिलियन आबादी के साथ तीसरी सबसे बड़ी आबादी वाला शहर है।

4. वेटिकन सिटी की आबादी दुनिया में सबसे कम है

1,000 से कम लोगों की आबादी के साथ, यूरोपीय देश में सबसे छोटी आबादी है। वेटिकन सिटी सबसे छोटा देश भी है जिसका क्षेत्रफल 121 एकड़ है।

5. नेपाल में महिलाओं की आबादी सबसे ज्यादा है

संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या प्रभाग के अनुसार, नेपाल की लगभग 54.19 प्रतिशत आबादी में महिलाएं शामिल हैं। देश में 1,57,88,000 महिलाएं हैं, जबकि पुरुषों की आबादी 1,33,48,000 है। इसके बाद हांगकांग है, जहां महिलाएं 54.12 प्रतिशत हैं और कुराकाओ, जहां महिलाएं 54.01 प्रतिशत हैं।

6. न्यूजीलैंड में लोगों से ज्यादा भेड़ें हैं

1982 में न्यूजीलैंड में 3.18 मिलियन लोग और 70.3 मिलियन भेड़ें थीं। यानी प्रति व्यक्ति 22 भेड़ें। हालांकि, यह संख्या घटकर 5.6 भेड़ प्रति व्यक्ति रह गई है।

7. दुनिया के किसी न किसी हिस्से में हर मिनट 250 बच्चे पैदा होते है

2018 में जारी संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के अनुसार, दुनिया के किसी न किसी हिस्से में हर मिनट 250 बच्चे पैदा होते हैं, जिससे यह सालाना 130 मिलियन से अधिक हो जाता है।

8. दुनिया जल्दी बूढ़ी हो रही है

1970 में, दुनिया में बुजुर्गों से ज्यादा युवा थे। 2017 में युवाओं की तुलना में वृद्ध लोगों की संख्या अधिक थी। 2050 तक, संख्याओं के संतुलित होने की उम्मीद है। 60 वर्ष और उससे अधिक आयु के लोग जनसंख्या का 12.3 प्रतिशत हैं और 2050 तक यह संख्या बढ़कर 22 प्रतिशत हो जाएगी।

9. लेकिन जीवन अवधि बढ़ रही है

2010 और 2015 के बीच, जीवन प्रत्याशा चार साल बढ़कर 67 से 71 हो गई। यह 2045 और 2050 के बीच 77 तक और 2095 और 2100 के बीच की अवधि में 83 साल तक बढ़ने का अनुमान है।

10. घट रही है यूरोप की जनसंख्या

2017 की तुलना में 2050 में यूरोप एक छोटी आबादी वाला एकमात्र क्षेत्र होगा। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, यहां प्रति महिला 2.1 जन्म के साथ, जनसंख्या बढ़ाने के लिए पर्याप्त बच्चे पैदा नहीं हो रहे हैं।

11. भारत में ब्रिटेन की तुलना में अधिक लोग अंग्रेजी बोलते हैं

2012 की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा अंग्रेजी बोलने वाला देश होने का दावा करता है,- देश में 125 मिलियन लोग यह भाषा बोलते हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका पहले स्थान पर है।

12. अफ्रीका की जनसंख्या 2017 और 2050 के बीच दोगुनी होने की संभावना है

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, अगले 30 वर्षों में अफ्रीका की जनसंख्या दोगुनी हो जाएगी। दुनिया में अपेक्षित 2.2 अरब लोगों में से 1.2 अरब महाद्वीप में होंगे। दूसरा योगदानकर्ता एशिया में होगा, जिसमें 2017 और 2050 के बीच 750 मिलियन लोग शामिल होंगे।

13. 2050 तक दो तिहाई आबादी शहरों में रहेगी

आज विश्व की लगभग 55 प्रतिशत जनसंख्या शहरी क्षेत्रों में निवास करती है। संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक और सामाजिक मामलों के विभाग की 2018 की रिपोर्ट के अनुसार, यह संख्या 2050 तक बढ़कर 68 प्रतिशत हो जाएगी। भारत, चीन और नाइजीरिया में शहरीकरण में भारी उछाल देखने को मिलेगा।

14. अगर हर महिला की माध्यमिक शिक्षा तक पहुंच होती, तो दुनिया में 3 अरब लोग कम होते

विश्व जनसंख्या में वृद्धि और महिला शिक्षा के बीच एक मजबूत संबंध है। विस्फोटक वृद्धि को रोका जा सकता है यदि विकासशील देशों में किशोर लड़कियां माध्यमिक विद्यालय शिक्षा प्राप्त करती हैं, क्योंकि इससे उन्हें परिवार नियोजन में मदद मिलती है और बाल विवाह और कम उम्र में गर्भधारण कम होता है।

गेटवे ऑफ इंडिया के ऐसे फैक्ट्स, जो कम ही लोग जानते होंगे!

देश का इतिहास विश्व के सबसे रोचक इतिहासों में से एक है, यहां पर कई अक्रमणकारियों ने शासन किया और उनके शासन के कारण जहां देश को बहुत कुछ खोना पड़ा तो वहीं कुछ रोचक व विश्व प्रसिद्ध इमारते पाई। भारतीय इतिहास में मुगल वास्तुकला के बाद यूरोपीय वास्तुकला सबसे अधिक देखी जा सकती है जिसका सबसे अच्छा उदाहरण गेटवे ऑफ इंडिया है जिसे 20 वीं शताब्दी के दौरान मुंबई भारत में निर्मित किया गया था। आज हम आपको बताने जा रहे हैं इसके इतिहास के साथ कुछ रोचक तथ्‍य।

ये भी पढ़िए – Psychological Facts in Hindi

गेटवे ऑफ इंडिया का निर्माण 1911 में तब शुरू किया गया जब इंग्लैंड के राजा जॉर्ज पंचम और उनकी पत्नी रानी मेर्री भारत भ्रमण पर आए थे। मुंबई बंदरगाह पर स्मृतिपत्र के रूप में इसका निर्माण वास्तुकार जॉर्ज विटेट ने किया। हालांकि जॉर्ज पंचम और उनकी पत्नी रानी मेर्री ने गेटवे ऑफ़ इंडिया की संरचना का मॉडल ही देख सके क्यूंकि इसका निर्माण 1915 तक शुरू नहीं हुआ था, यह 1924 में बनकर तैयार हुआ। यह गेटवे पीले बेसाल्ट और कंक्रीट के साथ बनाया गया था। गेटवे ऑफ इंडिया का संरचनात्मक डिजाइन 26 मीटर की ऊंचाई के साथ एक बड़े मेहराब के रूप में बनाया गया है।
गेटवे ऑफ इंडिया की स्थापत्य शैली भारत-सरसेनिक शैली में डिज़ाइन की गई है। ग्रैंडियोज़ भवन की संरचना में शामिल मुस्लिम वास्तुशिल्प शैलियों के भी निशान पाए जा सकते है। स्मारक के केंद्रीय गुंबद का व्यास लगभग 48 फीट है, जिसमें 83 फीट की कुल ऊंचाई है।

ये भी पढ़िए – साइंस में नोबेल पुरस्कार विजेता सीवी रमन के बारे में जानें ये 11 फैक्ट्स

गेटवे ऑफ इंडिया का रोचक तथ्‍य

  1. गेटवे ऑफ इंडिया के गुम्‍बद निर्मित करने में 21 लाख रू का खर्च आया था और पूरे गेटवे ऑफ इंडिया के निर्माण में 2.1 मिलियन की लागत आई थी।
  2. गेटवे पर बाद में छत्रपति शिवाजी और स्वामी विवेकानंद की मूर्तियों को स्थापित किया गया था।
  3. गेटवे ऑफ इंडिया को मुंबई के ताजमहल के रूप में भी जाना जाता है।
  4. मुंबई के कोलाबा में स्थित गेटवे ऑफ इंडिया इंडो. सरसेनिक वास्तुशिल्प का अद्भुत उदाहारण है जिसकी ऊँचाई लगभग आठ मंजिल के समान है।
  5. गेटवे ऑफ़ इंडिया, एलिफैंटा गुफ़ाओं की ओर जाने के लिए एक प्रारंभिक केंद्र है।
  6. ऑफ इंडिया देश में तीन प्रमुख आतंकवादी हमलों का स्थान रहा है जो 2003 और 2008 में मुंबई के ताज महल होटल और अन्य प्रमुख स्थानों पर हुए थे।
  7. आपको बता दे कीएगेटवे ऑफ़ इंडिया आज भी ब्रिटिश औपनिवेशक शासन को दर्शाता एक स्मारकीय निशानी है।
  8. गेटवे विशाल अरब सागर की ओर बनाया गया हैए जो मुम्‍बई शहर के एक अन्‍य आकर्षण मेरिन ड्राइव से जुड़ा है।
  9. यह स्मारक साउथ मुंबई के अपोलो बन्दर क्षेत्र में अरब सागर के बंदरगाह पर स्थित है।
  10. भारत की स्वतंत्रता के पश्चात अंतिम ब्रिटिश सेना इसी में से होकर वापस यूरोप गई थी।

Interesting Facts

दिन तारे क्यों नही दिखाई देते हैं ?

पृथ्वी के चारों ओर सघन वायुमंडल है जो कि सूर्य के प्रकाश के चारों ओर बिखेर देता है जिससे दिन में आकाश चमकदार हो जाता है तथा तारे दिखाई नहीं देते है जबकि चाँद पर जहाँ वायुमंडल नहीं है वहाँ दिन में भी तारे देखे जा सकते हैं।

बर्फ पानी के ऊपर क्यों तैरता है ?

 जब कोई भी तरल पदार्थ ठोस पदार्थ में बदलता है तो उसका आयतन घट जाता है और वह  भारी हो जाता है लेकिन पानी के साथ ऐसा नहीं होता पानी जब ठोस अवस्था के लिए जमकर बर्फ बनता है तो उसका आयतन घटने के स्थान पर बढ़ जाता है जिसके कारण वह पानी की तुलना में हल्की हो जाती है इसीलिए बर्फ पानी में तैरती रहती है।

मकड़ी अपने जाल में खुद क्यों नही चिपकती ?

मकड़ी अपने शिकार को फंसाने के लिए जाल बुनती है। छोटे-छोटे कीड़े इस जाल में आसानी से फंस जाते हैं। इन कीड़ों का जाल से निकलना काफी मुश्किल होता है। लेकिन आपने कभी गौर से देखा होगा तो पाया होगा कि मकड़ी खुद उस जाल में एक-जगह से दूसरे जगह आसानी से घूम लेती है। क्या आपको पता है कि ऐसा क्यों होता है?

मकड़ी का पूरा जाल चिपकने वाले नहीं होता है। वह इसका कुछ ही हिस्सा चिपचिपा बुनती है। वहीं, इसके अलावा वैसा हिस्सा जहां मकड़ी खुद आराम से रहती है, वह बिना चिपचिपे पदार्थ के बनाया जाता है।

इसलिए वह आसानी से इसमें घूम लेती है। वैसे अपने ही जाल में फंसने से बचने के लिए मकड़ी एक और तरकीब निकालती है। वह रोजाना अपने पैर काफी अच्छे से साफ करती है ताकि इन पर लगी धूल और दूसरे कण निकल जाएं।

कुछ वैज्ञानिक मानते हैं कि मकड़ी का पैर तैलीय होता है इसलिए वह जाल में नहीं फंसती और इसमें घूमती रहती है। लेकिन सच यह है कि मकड़ियों के पास ऑयल ग्लैंड्स (ग्रंथियां) नहीं होते हैं। वहीं कुछ वैज्ञानिक इसकी वजह मकड़ी की टांगों पर मौजूद बालों को मानते हैं जिन पर जाले की चिपचिपाहट का कोई असर नहीं होता है।

छिपकली दीवारों पर कैसे चलती है ?

छिपकली के पैर छोटे छोटे और शरीर बेलनाकर होता है  इनके पैरो की बनावट कुछ ऐसी होती है कि जब छिपकली दीवार के ऊपर चलती है तो उनके पैरो और दीवार के बीच निर्वात अर्थात शुन्य पैदा हो जाता है जिस कारण उनके पैर दीवार पर चिपक जाते हैं बाहरी हवा का दबाव भी उसे  दीवार पर चलने में सहायक होता हैं |

चींटी एक लाइन में कैसे चलती है ?

चींटियों में कुछ ग्रंथियाँ होती हैं जिनसे फ़ैरोमोंस नामक रसायन निकलते हैं। इन्हीं के ज़रिए वो एक दूसरे के संपर्क में रहती हैं। चींटियों के दो स्पर्शश्रंगिकाएं या ऐंटिना होते हैं जिनसे वो सूंघने का काम करती हैं। रानी चींटी भोजन की तलाश में निकलती है तो फ़ैरोमोंस छोड़ती जाती है।

दूसरी चीटियाँ अपने ऐंटिना से उसे सूंघती हुई रानी चींटी के पीछे-पीछे चली जाती हैं। जब रानी चींटी एक ख़ास फ़ैरोमोन बनाना बंद कर देती है तो चीटियाँ, नई चींटी को रानी चुन लेती हैं। फ़ैरोमोंस का प्रयोग और बहुत सी स्थितियों में होता है। जैसे अगर कोई चींटी कुचल जाए तो चेतावनी के फ़ैरोमोन का रिसाव करती है जिससे बाक़ी चींटियाँ हमले के लिए तैयार हो जाती हैं। फ़ैरोमोंस से यह भी पता चलता है कि कौन सी चींटी किस कार्यदल का हिस्सा है |

Psychological Facts in Hindi

  1. एक साइकोलॉजिकल स्टडी में यह पाया गया है कि लोग अपना मोबाइल खो जाने पर ऐसा घबरा जाते हैं जैसे सामने साक्षात् मौत देख लिया हो.
  2. इंसान ख़ुशी और दुःख दोने वजहों से रो देता है. ख़ुशी में, दाहिनी आँख से पहला आँसू निकलता है और दुःख में बायीं आँख से.
  3. महिलाएं किसी भी निर्णय को लेने में पुरुषों ज्यादा वक़्त लेती हैं और अपने निर्णय पर ज्यादा टिकी रहती हैं.
  4. जो लोग अच्छी धुप लेते है वे दुसरो के मुकाबले अधिक प्रसन्न रहते है.
  5. जो लोग परवाह नहीं करने का नाटक करते है वो सबसे अधिक परवाह करते है.
  6. जो लोग दूसरों की अधिक बुराई करते है उनके अंदर आत्मविश्वास की कमी होती है.
  7. जो व्यक्ति सभी को खुश रखने की कोशिश करते है अन्त में वे सबसे अधिक दुखी होते है.
  8. यदि आपका अधिकत्तर समय नकारात्मक विचारों में गुजर जाता है तो इसका कारण आपके जीन में है.
  9. यदि एक व्यक्ति मर जाता है तो उसका दिमाग 7 मिनट तक जिन्दा रहता है जिसमें वो अपने जीवन की सभी यादो को एक सपने की तरह देखता है.
  10. यदि कोई छोटी छोटी बातो पर गुस्सा करता है तो उसे आपके प्यार और साथ की ज्यादा जरूरत है
  11. ज्यादा सोने वाले लोग और अधिक नींद की लालसा करते है.
  12. कुछ चीजें भूल जाने पर उसे आँखे बंद करके याद करने पर जल्दी याद आ जाती है.
  13. 80 प्रतिशत लोग संगीत सिर्फ नकारात्मक विचारों से छुटकारा पाने के लिए सुनते है.
  14. जैसा आपका दिमाग सोचता है वैसे ही आपकी सेल प्रतिक्रिया करती है इसलिए अधिक नकारात्मक सोचने पर आप बीमार जैसा महसूस करने लगते है.
  15. आप जिस व्यक्ति से जितनी अधिक बात करते हैं उसके साथ प्यार में पड़ने की संभावना उतनी ही ज्यादा हो जाती हैं.
  16. ऑनलाइन डेटिंग और ऑनलाइन खरीदारी के मनोवैज्ञानिक सिद्धांत एक सामान हैं.
  17. जो आदमी Serial killers को खूब पसंद करते हैं वो अधिक बातूनी होते हैं.
  18. अगर आप किसी को बात बता रहे हों और वो चुप हैं, तो इसका मतलब हैं वो आपकी बात सुनना नही चाहता.
  19. दिल टूटने का असर आपके दिल पर भी हो सकता है, और ऐसे में हार्ट अपने फंक्शन में ऐसी तब्दीलियां करता है जिससे दिल की स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है. इसे ब्रोकन-हार्ट सिंड्रोम भी कहा जाता है.
  20. जिन महिलाओं के दोस्त आसानी से नही बनते, उनका “IQs Level” High होता हैं.
  21. जो लोग ताना समझने में बढ़िया होते हैं वो अक्सर दिमाग पढ़ने में अच्छे होते हैं.
  22. आप जो कपड़े पहनते हैं उनका सीधा असर आपके मूड पर होता हैं इसलिए अच्छे कपड़े पहनो और ज्यादा खुश रहो.
  23. जो लोग बहुत अधिक कसम खातें हैं, उनकी दोस्ती सच्ची और ईमानदार होती हैं.
  24. Chocolate खाने और Online shopping करने की लत किसी नशे से भी ज्यादा होती हैं.
  25. पेट के बल सोने से डरावने सपने आते है.
  26. सोशल मिडिया में कुछ भी पोस्ट करने से ब्रेन का रिवॉर्ड सिस्टम एक्टिव होता है ठीक ऐसे ही ड्रग लेने पर व्यक्ति महसूस करता है.
  27. यदि आप किसी से कुछ पूछते है और वह अधूरा जवाब दे तो कुछ सेकेण्ड रुके और चुप रहके उससे आई कांटेक्ट करेंगे तो वह थोड़ी देर में पूरा जवाब देगा.
  28. 18 से 33 की उम्र में लोग अधिक स्ट्रेस लेते है इसके बाद स्ट्रेस अपने आप कम हो जाता है.
  29. जो लोग भावनात्मक अप डाउन से ज्यादा गुजरते है वे दूसरों पर अक्सर बिना कारण ही गुस्सा कर जाते है.
  30. सबसे ज्यादा व्यक्ति को परेशान उसकी सोच और विचार ही करते है इसलिए उन्हें सकारात्मक रखें.
  31. सफलता सिर्फ उन लोगों को मिलती है जो इसे ढूढने की चाहत रखते है.
  32. 71 प्रतिशत ब्रेकअप की वजह मूड स्विंग यानि मूड में होने वाले बदलाव है.
  33. कोई भी महिला अपने दिल में किसी राज को 47 घण्टे 15 मिनट से ज्यादा नहीं छिपा सकते है.
  34. आप जिससे भी मिलते है उससे कुछ न कुछ सिखने को जरूर मिलता है.
  35. जो पुरुष भरोसे लायक नहीं होते है उनका बौद्धिक स्तर निम्न होता है.
  36. जो लोग कम बोलते है वो अक्सर दूसरों को सुनना पसन्द करते है.
  37. फ़ास्ट फ़ूड के इंटीरियर में पीला ,लाल और ऑरेंज कलर ही प्रयोग करते है क्योंकि इससे भूख बढ़ती है
  38. अगर कोई व्यक्ति आपकी वैल्यू नहीं करता है तो आगे चलके आप भी उससे किनारा कर लेते है.
  39. जो लोग घण्टो कम्प्यूटर पर काम करते है या टीवी देखते है वो Tatt (Tired all the time ) सिंड्रोम से पीड़ित होते है.
  40. सुबह 4 से 5 के बीच शरीर सबसे कमजोर होता है इसलिए ज्यादातर लोगों की मृत्यु भी इसी समय नींद में होती है.
  41. इंटेलिजेंट लोग सोचते बहुत होते है इसलिए उनकी हैंडराइटिंग बहुत खराब होती है.
  42. राइटिंग ,रीडिंग और म्यूजिक सुनते समय ज्यादा अच्छे से कन्सन्ट्रेसन हो पाता है क्योंकि इस दौरान कोई बातचीत नहीं होता है.
  43. साइकोलॉजी कहती है कि जो महिलायें वीडियो गेम्स ज्यादा खेलती है उनकी रिलेसनसिप भी ज्यादा बेहतर होती है.
  44. 20 सेकेण्ड किसी को गले लगाने पर ऑक्सीटोसिन हार्मोन रिलीज होता है इसी वजह से आप किसी पर ट्रस्ट कर पाते है.
  45. पुरूषों की तुलना में महिलाएं बहुत खड़े शब्दों में और शरारती अंदाज में बात करती है.
  46. कई बार ऐसा देखने में आता है कि आप किसी व्यक्ति को तब कुछ करने से नहीं रोक सकते , जब उसने उसे करने का फैसला कर लिया है. क्योंकि रोकने पर वह लगातार झूठ बोलेगा लेकिन रुकेगा नहीं.
  47. साइकोलॉजिकल स्टडी कहती है कि जब आप सिंगल होते हो तो हैप्पी कपल्स को नोटिस करते है. वही जब आप कमिटेड होते है तो हैप्पी सिंगल्स को.
  48. नाइट टेक्स्ट मैसेज से कन्वर्सेशन करते समय लोग भावनात्मक रूप से ज्यादा ओपन होते है साथ ही कन्फेस भी कर जाते है.
  49. फिलोफोबिया ऐसी कंडीशन है जिसमें व्यक्ति प्यार में पड़ने के खयाल से भी डरता है.

दार्जिलिंग के बारे में रोचक तथ्य

Psychological Facts

  1. In a psychological study, it has been found that people get nervous when they lose their mobile as if they have seen death in front of them.
  2. Man cries for both reasons of happiness and sorrow. In happiness, the first tear comes from the right eye and in sorrow the left eye.
  3. Women take more time than men in taking any decision and stay more on their decision.
  4. People who take good incense are more happy than others.
  5. The people who pretend not to care are the ones who care the most.
  6. People who do more evil to others lack self-confidence.
  7. The person who tries to keep everyone happy, in the end they are the most unhappy.
  8. If you spend most of your time in negative thoughts, then the reason lies in your genes.
  9. If a person dies then his mind remains alive for 7 minutes in which he sees all the memories of his life like a dream.
  10. If someone gets angry over small things then he needs your love and support more.
  11. People who sleep more crave more sleep.
  12. When he forgets some things, he remembers it quickly when he remembers it with his eyes closed.
  13. 80 percent of people listen to music just to get rid of negative thoughts.
  14. Your cells react as your brain thinks, so thinking more negatively makes you feel sick.
  15. The more you talk to the person, the more likely you are to fall in love with him.
  16. The psychological principles of online dating and online shopping are the same.
  17. People who love serial killers are more talkative.
  18. If you are telling someone the matter and they are silent, then it means that they do not want to listen to you.
  19. Heartbreak can also have an effect on your heart, and in such a situation, the heart makes such changes in its function that have a bad effect on the health of the heart. It is also called broken-heart syndrome.
  20. Women whose friends are not made easily, their “IQs Level” is high.
  21. People who are good at taunting are often good at reading minds.
  22. The clothes you wear have a direct effect on your mood, so wear nice clothes and be happier.
  23. Those who swear a lot, their friendship is true and honest.
  24. The addiction to eating chocolate and shopping online is more than any addiction.
  25. Sleeping on the stomach gives scary dreams.
  26. Posting anything in social media activates the reward system of the brain, in the same way a person feels after taking drugs.
  27. If you ask someone something and he gives an incomplete answer, then stay for a few seconds and keep quiet and contact him, then he will give a complete answer in a while.
  28. At the age of 18 to 33, people take more stress, after which the stress automatically decreases.
  29. People who go through more emotional ups and downs often get angry at others without any reason.
  30. What bothers the person the most is his thinking and thoughts, so keep them positive.
  31. Success comes only to those who want to find it.
  32. The reason for 71 percent of breakups is mood swings.
  33. No woman can hide a secret in her heart for more than 47 hours and 15 minutes.
  34. You definitely get to learn something from everyone you meet.
  35. Men who are not trustworthy have a low intellectual level.
  36. People who speak less often like to listen to others.
  37. Only yellow, red and orange colors are used in the interior of fast food because it increases appetite.
  38. If a person does not value you, then later on you also distance yourself from him.
  39. People who work on computer or watch TV for hours are suffering from Tatt (Tired all the time) syndrome.
  40. The body is weakest between 4 and 5 in the morning, so most people also die in sleep during this time.
  41. Intelligent people think a lot, so their handwriting is very bad.
  42. While writing, reading and listening to music, concentration is better because there is no conversation during this time.
  43. Psychology says that women who play more video games have better relationships.
  44. After hugging someone for 20 seconds, the hormone oxytocin is released, due to which you are able to trust someone.
  45. In comparison to men, women talk in very standing words and in a mischievous way.
  46. Many times it appears that you cannot stop a person from doing something when he has decided to do it. Because on stopping he will lie continuously but will not stop.
  47. Psychological studies say that when you are single, you notice happy couples. Same to Happy Singles when you are committed.
  48. While conversing with night text messages, people become more emotionally open as well as confess.
  49. Philophobia is a condition in which a person is afraid even at the thought of falling in love.



साइंस में नोबेल पुरस्कार विजेता सीवी रमन के बारे में जानें ये 11 फैक्ट्स :

CV Raman And His Contribution –  भारत के सबसे प्रतिष्ठित वैज्ञानिकों में से एक और नोबेल पुरस्कार विजेता भौतिक विज्ञानी, सर चंद्रशेखर वेंकट रमन, जिन्हें सीवी रमन के नाम से ज्यादा जाना जाता है। इनका जन्म 7 नवंबर, 1888 को हुआ था और निधन 1970 में हुआ था। इनके पिता चंद्रशेखर अय्यर मैथ्स और फिजिक्स के लेक्चरर थे। यही वजह है रमन साइंस कोर्स करने के लिए प्रेरित हुए। चंद्रशेखर वेंकट रमन की मां पार्वती अम्माल थीं। रमन ने विश्वविद्यालय के इतिहास में सर्वाधिक अंक अर्जित किए और उन्होंने आईएएस की परीक्षा में भी प्रथम स्थान प्राप्त किया। 6 मई 1907 को कृष्णस्वामी अय्यर की सुपुत्री त्रिलोकसुंदरी से रमन का विवाह हुआ। यहां पढ़ें सर सी वी रमन के बारे में 11 रोचक फैक्ट्स।

वैज्ञानिक जगदीश चंद्र बोस एवं उनकी उपलब्धिया ( 1858 – 1937 )


रमन ने अपनी गवर्मेंट सर्विस छोड़ दी। उन्हें 1917 में कलकत्ता विश्वविद्यालय में फिजिक्स का पहला पालित प्रोफेसर नियुक्त किया गया था।

जब वे कलकत्ता विश्वविद्यालय में टीचिंग कर रहे थे, रमन ने कलकत्ता में इंडियन एसोसिएशन फॉर द कल्टीवेशन ऑफ साइंस (IACS) में अपना रिसर्च जारी रखा। बाद में वह एसोसिएशन में मानद स्कॉलर बन गए।

IACS में, रमन ने एक ग्राउंड ब्रेकिंग एक्सपेरिमेंट किया जिसने अंततः उन्हें 28 फरवरी 1928 में फिजिक्स में नोबेल पुरस्कार दिलाया। उन्होंने प्रकाश के प्रकीर्णन को देखकर प्रकाश की क्वांटम नेचर के एविडेंस की खोज की, एक ऐसा इफेक्ट जिसे रमन इफेक्ट के रूप में भी जाना जाता है। इस दिन को भारत में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस National Science Day के रूप में मनाया जाता है।

बहुत से लोग यह नहीं जानते कि इस प्रयोग में रमन के एक सहयोगी भी थे। सहकर्मी के रूप में के एस कृष्णन ने रमन के साथ मिल कर काम किया था। लेकिन दोनों के बीच कुछ प्रोफेशनल मतभेदों के कारण के एस कृष्णन ने नोबेल पुरस्कार साझा नहीं किया। हालांकि, रमन ने अपने नोबेल स्वीकृति भाषण में कृष्णन के योगदान का जोरदार उल्लेख किया था।

वैज्ञानिक बीरबल साहनी एवं उनकी उपलब्धिया ( 1891 – 1949 )

एटोमिक न्यूक्लियस और प्रोटॉन के खोजकर्ता डॉ अर्नेस्ट रदरफोर्ड ने 1929 में रॉयल सोसाइटी के अपने अध्यक्षीय भाषण में रमन की स्पेक्ट्रोस्कोपी का उल्लेख किया। रमन को सोसाइटी के द्वारा एकनॉलेज्ड किया गया था और उन्हें नाइटहुड भी प्रदान किया गया था।

रमन 1928 से नोबेल पुरस्कार की उम्मीद कर रहे थे। दो साल के इंतजार के बाद, उन्हें “प्रकाश के प्रकीर्णन पर उनके काम और रमन इफेक्ट की खोज के लिए” पुरस्कार मिला। वे इतना उत्सुक थे कि उन्होंने नवंबर में पुरस्कार प्राप्त करने के लिए जुलाई में ही स्वीडन के लिए टिकट बुक कर लिया था।

रमन विज्ञान में नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले एशियाई और गैर-श्वेत व्यक्ति थे।

1932 में रमन और सूरी भगवंतम ने क्वांटम फोटॉन स्पिन की खोज की। इस खोज ने प्रकाश की क्वांटम प्रकृति को और सिद्ध कर दिया।

नोबेल पुरस्कार विजेता ऑप्टिकल थ्योरी के पीछे उनकी प्रेरणा के बारे में पूछे जाने पर, रमन ने कहा कि वह 1921 में यूरोप जाने के दौरान “भूमध्य सागर के अद्भुत नीले रंग के ओपेलेसेंस” से प्रेरित थे।

रमन न केवल प्रकाश के विशेषज्ञ थे बल्कि उन्होंने ध्वनिकी acoustics के साथ भी प्रयोग किया। तबला और मृदंगम जैसे भारतीय ढोल की ध्वनि की हार्मोनिक प्रकृति की जांच करने वाले रमन पहले व्यक्ति थे।

उनकी पहली पुण्यतिथि पर भारतीय डाक सेवा ने सर सी वी रमन की एक स्मारक डाक टिकट प्रकाशित की थी जिसमें उनकी स्पेक्ट्रोस्कोपी और बैकग्राउंड में एक हीरा था। उन्हें 1954 में भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया था।

दार्जिलिंग के बारे में रोचक तथ्य

  • दार्जिलिंग की उत्पत्ति दो तिब्बती शब्दों दोरजे (Dorje) और लिंग (Ling) से हुई है। दोरजे वज्र (Thunderbolt) का प्रतीक है जबकि लिंग का अर्थ है क्षेत्र या स्थान (Area Or Spot)। इसलिए दार्जिलिंग आकाश में वज्रपात होने या तेज बिजली चमकने के लिए प्रसिद्ध है।
  • दार्जिलिंग का रंगित घाटी रोपवे (Rangit Valley Ropeway) एशिया का सबसे बड़ा रोपवे है। इस रोपवे से यात्रा करते समय आप खुद को बादलों के बीच पाएंगे और नीचे हरे भरे चाय के बागानों का नजारा भी आप रोपवे से देख सकते हैं जो काफी मनमोहक होता है।
  • दार्जिलिंग रेलवे अपने दो फुट संकीर्ण गेज ट्रैक के कारण “टॉय ट्रेन” के नाम से प्रसिद्ध है। टॉय ट्रेन की सवारी की सुविधा सिर्फ दार्जिलिंग में ही उपलब्ध है जिसके कारण यह विशेष माना जाता है।
  • टॉय ट्रेन बेहद धीमी गति से चलती है जिससे आप दार्जिलिंग की सुंदरता और प्राकृतिक दृश्यों को अच्छे से निहार सकते हैं। आपको बता दें कि दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे को 1919 में यूनेस्को ने विश्व धरोहर घोषित किया था।
  • दार्जिलिंग में टाइगर हिल से आप कंचनजंगा पर्वत के शीर्ष पर सूरज की पहली किरण से टकराने का विस्मयकारी दृश्य देख सकते हैं। उगते सूरज के खूबसूरत नजारे के साथ ही यह बर्फ के बदलते रंगों के लिए भी प्रसिद्ध है।
  • दार्जिलिंग में एक ऐतिहासिक वेधशाला पहाड़ी पर स्थित है और आप इस पहाड़ी की चोटी से नेपाल, भूटान, तिब्बत और सिक्किम की झलक भी देख सकते हैं।
  • चाय प्रेमियों के लिए दार्जिलिंग एक स्वर्ग है। यहां तक ​​कि अगर आप चाय के शौकीन नहीं हैं, तो आप हैप्पी वैली टी एस्टेट जैसी विशाल चाय बागानों की सैर कर सकते हैं।
  • आप दार्जिलिंग के स्थानीय लोगों के साथ दोस्ताना व्यवहार करके यहां की सम्पदाओं के आसपास की असंख्य कहानियों और भूतों की कहानियों को सुन सकते हैं। खुशबूदार दार्जिलिंग चाय की एक चुस्की लेना लोग कभी नहीं भूलते।
  • दार्जिलिंग संस्कृतियों और धर्मों दोनों में बहुत विविध है। जिसके कारण यहां का बाजार बहुत विस्तृत है। आप दार्जिलिंग से स्थानीय हस्तकला, ​​मौजूदा संस्कृतियों के विभिन्न कपड़े, बौद्ध कलाकृतियाँ, तिब्बती कालीन और बहुत कुछ खरीद सकते हैं। इसके अलावा दार्जिलिंग चाय और हिमालयन शहद भी बहुत प्रसिद्ध है।

Interesting facts

  1. अल्बर्ट आइंस्टाइन ने इजरायल में राष्ट्रपति के पद को ठुकरा दिया था.
  2. आइसलैंड में दुनिया का सबसे पुराना सांसद था.
  3. इतिहास का सबसे छोटा युद्ध 38 मिनट तक चला था.
  4. प्रथम विश्व युद्ध के अंत के बाद, 1,000 से अधिक बचे हुए लोग बेवजह बमों से मारे गए थे.
  5. तुर्की को कभी भगवान के रूप में पूजा जाता था.
  6. मैक्सिको के राजा सैंटा एना का युद्ध के दौरान पैर कट गया, पर क्या आपको पता है कि उस पैर का क्या हुआ? उस पैर का बाकायदा राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया.
  7. प्राचीन मिश्र में मधुमक्खियों के हमलों से बचने के लिए नौकरों के शरीर पर शहद लपेट कर उन्हें शहर से बाहर कर दिया गया, ताकि मधुमक्खियां राजमहल में न जाकर किले से बाहर ही रहें.
  8. 19वीं शताब्दी से पहले जानवरों पर भी मुकदमा चलाया था.
  9. प्रथम विश्वयुद्ध की शुरुआत में अमेरिकी एयरफोर्स में महज 18 पायलट थे.
  10. कोरियाई तानाशाह किम जोंग द्वितीय ने 6 नाटक भी लिखे हैं.

Interesting facts

  1. हमारी पूरी जिन्दगी में हमारा दिमाग 10 लाख GB Data Store करता है।
  2. महिलाओं के 4 साल तो मासिक धर्म में गुजर जाते है।
  3. दुनिया में 80% लोग अपना गुजारा प्रतिदिन 10$ से भी कम में करते है।
  4. एक मनुष्य को सोने में कम से कम 7 मिनिट लग जाते है।
  5. मनुष्य के द्वारा बनाई गई 22 हजार वस्तुएं अर्थ प्लेनेट के चक्कर लगा रही है।
  6. सूर्य के अन्दर लगभग 13 धरती समा सकती है।
  7. धरती का 40% हिस्सा केवल 6 देशों ने ही घेर रखा है।
  8. एक आदमी अपनी जिन्दगी का एक साल महिलाओं को घूरने में निकाल देता है।
  9. हमारी जिन्दगी में हमारी त्वचा 900 बार बदलती है।
  10. गूगल की एक बहुत बड़ी टीम गूगल डूडल का काम देखती है जो गूगल डूडल के वीडियो और ग्राफिक्स बनाती है .