पटनाः बिहार के गया जिले में नक्सलियों के साथ चले मुठभेड़ में कोबरा बटालियन के सब-इंस्पेक्टर शहीद हो गए। मुठभेड़ ड़मरिया के छकरबंद इलाके के जंगल में हुई। जंगल में नक्सलियों के होने कि सूचना पर कोबरा और सीआरपीएफ की टीम ने तलाशी अभियान चलाया। इसी दौरान नक्सलियों से मुठभेड़ हुई और दोनों तरफ से कई राउंड गोलियां चली। अधिकारी ने बताया क‌ि मुठभेड़ के बाद नक्सली इलाके से भाग निकले। उनके भागने के बाद सुरक्षाबलों ने इलाके का छानबीन करने लगे। छानबीन में नक्सलियों द्वारा छिपा कर रखा हुआ तीन आईडी बम बरामद हुआ,लेकिन बम बरामद करने के दौरान ही एक बम विस्फोट हो गया। जिसमें कोबरा के सब-इंस्पेक्टर रौशन कुमार घायल हो गए। उनके घायल होने की सूचना पाकर तत्काल उन्हें चौपर की सहायता से बाहर निकाला गया और इलाज के लिए पटना भेजा गया। लेकिन गंभीर रूप से घायल होने की वजह से रौशन ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। उन्होंने बताया कि रौशन की शहादत देश के लिए अपूरणीय क्षति है।

गौरतलब हो कि शहीद सब-इंस्पेक्टर का शव गुरुवार को उनके पैतृक गांव गरसंडा पहुंचा,तो उन्हें श्रद्धांजलि व उनके अंतिम दर्शन पाने के लिए आसपास के गांव के लोगों का हुजुम उमड़ पड़ा। वहीं शहीद के परिजनों का जहां रो-रो कर बुरा हाल है। गांव वाले अपने नौजवान बेटे की शहादत पर गर्व महसूस कर रहे हैं।बता दें कि शहीद रौशन कुमार लखीसराय के गरसंडा गांव के निवासी थे, और 2016 में उन्होंने कोबरा में सब-इंस्पेक्टर के पद पर ज्वाइन किया था। इस घटना के बाद गया और औरंगाबाद पुलिस के साथ ही कोबरा सीआरपीएफ और एसटीएफ की टीम इलाके में मौजूद है, और नक्सलियों के खिलाफ सर्च अभियान चला रही है।