दुनिया भर में आत्महत्या के मामलों में एक तिहाई से ज्यादा की कमी आई

पेरिसः विश्वभर में खुदकुुुशी के मामलों में 1990 के बाद एक तिहाई से ज्यादा की कमी आई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन खुदकुशी को एक गंभीर लोक स्वास्थ्य मुद्दे के तौर पर सूचीबद्ध करता है और एक अनुमान के मुताबिक हर साल कम से कम 8 लाख लोग खुदकुशी करते हैं। गुरुवार को जारी एक अध्ययन में बताया गया है कि ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज की टीम द्वारा तैयार किए गये डेटा मॉडल के अनुसार अलग अलग देशों में आत्महत्या करने के अलग अलग कारण पाए गए हैं। इस अध्ययन से स्पष्ट है कि दुनिया भर में आत्महत्या के मामले कम हुए हैं।

बीएमजे पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में बताया गया है कि एक अनुमान के मुताबिक 2016 में 8,17,000 लोगों ने खुदकुशी की जो 1990 के मुकाबले 6.7 प्रतिशत अधिक है। हालांकि, पिछले तीन दशकों में दुनिया की आबादी काफी बढ़ी है। टीम ने पाया कि उम्र और जनसंख्या के आकार के आधार पर देखें तो आत्महत्या की दर प्रति 100,000 लोगों पर 16.6 से घट कर 11.2 हो गई हो जो 32.7 प्रतिशत कम है। कनाडा की पब्लिक हेल्थ एजेंसी के शोध वैज्ञानिक और अध्ययन के एक सहयोगी हीथर ओरपाना ने कहा, ‘‘खुदकुशी से होने वाली मौतों को रोका जा सकता है। इसके लिए हमें अपना प्रयास जारी रखना चाहिए।