भोपाल : भारतीय जनता पार्टी पर अक्‍सर आरोप लगते रहे हैं कि वे गोवंश की सुरक्षा के नाम पर अल्‍पसंख्‍यक वर्ग को परेशान करते है। पर अब लगता है कि अन्‍य दल भी इससे सीख ले रहे है। हाल ही में मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने गोहत्या के आरोप में तीन लोगों पर रासुका के तहत कार्रवाई की है। पर कांग्रेस के ही विधायक नसीम खान ने अपनी पार्टी की सरकार पर निशाना साधते हुए कमलनाथ सरकार की इस कार्रवाई की आलोचना करते हुए कहा है कि सरकार को गोरक्षा के नाम पर लोगों पर अत्याचार करने वाले लोगों पर भी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई करनी चाहिए। कांग्रेस अल्पसंख्यक मोर्चा के एक कार्यक्रम में कमलनाथ सरकार पर कड़ा प्रहार करते हुए कांग्रेस के विधायक नसीम खान ने कहा कि अगर गोहत्या करने वालों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई हो सकती है तो उन लोगों पर भी रासुका लगाया जाना चाहिए, जो कि गोरक्षा के नाम पर लोगों पर अत्याचार करते हैं।

उल्‍लेखनीय है कि खान के इस बयान से 2 दिन पहले मध्य प्रदेश के खंडवा में तीन लोगों को गोहत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। बुधवार को इन सभी लोगों पर रासुका के तहत कार्रवाई की गई। मध्‍य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद गोहत्या के मामले में पहली कार्रवाई करते हुए तीनों आरोपियों पर रासुका लगाने को मंजूरी दी गई थी। मोघट थाने के खरखाली गांव में गोहत्या के मामले में दो आरोपियों को शुक्रवार को पकड़ा गया था, वहीं तीसरा आरोपी सोमवार को पकड़ा गया। तीनों के खिलाफ रासुका की कार्रवाई के लिए जिलाधिकारी से सिफारिश की गई, जिसे जिलाधिकारी ने मंजूरी दी थी। जिसके बाद खंडवा के पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा ने कहा था कि इस तरह की घटना सांप्रदायिक सौहार्द्र बिगड़ सकता था, इस वजह से सभी आरोपियों पर रासुका के तहत कार्रवाई की गई।